दैनिक भास्कर हिंदी: Bihar election: रघुवंश प्रसाद ने राजद से दिया इस्तीफा, लालू ने हाथ से चिट्ठी कहा- बैठकर बात करेंगे, आप कहीं नहीं जा रहे

September 10th, 2020

डिजिटल डेस्क, पटना। बिहार में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह के इस्तीफे के बाद अब पार्टी के अध्यक्ष लालू प्रसाद डैमेज कंट्रोल में जुट गए हैं। लालू प्रसाद ने रघुवंश प्रसाद सिंह को एक पत्र लिखकर उन्हें मिल-बैठकर बातचीत करने की बात कही है।

छवि
चारा घोटाले के कई मामलों में सजा काट रहे लालू ने रांची जेल से रघुवंश प्रसाद सिंह को लिखे पत्र में लिखा है, आपके द्वारा कथित तौर पर लिखी एक चिट्ठी मीडिया में चलाई जा रही है। मुझे तो विश्वास ही नहीं होता। अभी मेरे, मेरे परिवार और मेरे साथ मिलकर सिंचित राजद परिवार आपको शीघ्र स्वस्थ होकर अपने बीच देखना चाहता है। हस्तलिखित इस पत्र में लालू ने आगे लिखा कि चार दशकों में हमने हर राजनीतिक, सामाजिक और यहां तक कि पारिवारिक मामलों में मिल-बैठकर ही विचार किया है। आप जल्द स्वस्थ हो जाएं, फिर बैठकर बात करेंगे। आप कहीं नहीं जा रहे हैं। समझ लीजिए।

रघुवंश प्रसाद ने आरजेडी से दिया इस्तिफा
इससे पहले, दिल्ली के एम्स में स्वास्थ्य कारणों से भर्ती रघुवंश प्रसाद सिंह ने अस्पताल से ही राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद को एक पत्र लिखकर गुरुवार को इस्तीफा देने की घोषणा की थी। उन्होंने पत्र में लालू प्रसाद को संबोधित करते हुए लिखा, कर्पूरी ठाकुर के निधन के बाद 32 वर्षो तक आपके पीठ पीछे खड़ा रहा, लेकिन अब नहीं। सिंह ने इस पत्र को यहां के पत्रकारों को भेजा है। उन्होंने पत्र में लोगों से माफी मांगते हुए आगे लिखा है, पार्टी, नेता, कार्यकर्ता और आमजन ने बड़ा स्नेह दिया। क्षमा करें।

आईसीयू में हैं प्रसाद
तबीयत ज्यादा खराब होने पर डॉक्टरों ने प्रसाद को आईसीयू में शिफ्ट कर दिया है। एम्स की तरफ से मिली जानकारी के अनुसार उनके सभी चेकअप किए जा रहे हैं। फिलहाल उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है। 74 साल के राजनेता कुछ महीने पहले कोरोना संक्रमित पाए गए थे। पटना एम्स में इलाज के बाद वे स्वस्थ होकर घर लौट आए थे लेकिन उनका शरीर कमजोर हो गया है।

भाजपा ने कहा- रघुवंश ने सही कदम उठाया
सिंह के इस्तीफे को लेकर राजद के नेता फिलहाल कुछ नहीं बोल रहे हैं, लेकिन भाजपा और जदयू रघुवंश सिंह के कदम को सही कदम बता रहे हैं। राजद के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी कहते हैं कि उन्हें मीडिया से ही इसकी जानकारी मिली है। अधिकारिक सूचना उन्हें नहीं मिली है। उन्होंने कहा कि अधिकारिक जानकारी मिलने के बाद बयान दिया जाएगा। इधर, जदयू के प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा कि सिंह वरिष्ठ नेता है। उन्होंने कहा कि उन्हें यह कदम पहले उठाना चाहिए था। आलोक ने कहा कि राजद अब बबूल का वृक्ष हो गया है, इस कारण लोग वहां से भाग रहे हैं। जदयू में सिंह के आने के प्रश्न पर उन्होंने कहा कि कोई भी पार्टी सिंह से बड़े नेता का स्वागत करेगा।

तेज प्रताप ने कहा- समुद्र में से एक लोटा पानी निकालने से कुछ नहीं होता
कोरोना से उबरने के बाद रघुवंश प्रसाद पूरी तरह से ठीक नहीं हुए हैं। दरअसल, वैशाली के पूर्व सांसद रामा सिंह राजद में आना चाहते हैं। इसका पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से एक रहे प्रसाद विरोध कर रहे हैं। उनकी नाराजगी को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में पार्टी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप ने कहा कि पार्टी समुद्र होता है, उससे एक लोटा पानी निकलने से कुछ नहीं होता है।

लालू ने तेज प्रताप का लगाई थी फटकार
रघुवंश प्रसाद की तुलना एक लोटा पानी से करने पर विवाद खड़ा हो गया था। इसी दौरान जब तेज प्रताप अपने पिता से मिलने पहुंचे तो लालू यादव ने उन्हें रघुवंश को लेकर इस तरह का बयान देने को लेकर फटकार लगाई थी। हालांकि कार्यकर्ताओं के राबड़ी आवास पर विरोध करने पर तेजस्वी ने कहा था कि रामा सिंह को पार्टी में लेने पर पार्टी फैसला करेगी।

तेजस्वी यादव ने भी की थी मनाने की कोशिश
उल्लेखनीय है कि सिंह पूर्व सांसद रामा सिंह के पार्टी में आने की सूचना के बाद नाराज थे। उन्होंने इससे पहले ही पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा देकर यह संकेत दे दिया था। इस बीच हालांकि राजद के नेता तेजस्वी यादव ने अस्पताल में जाकर पूर्व केंद्रीय मंत्री सिंह से मुलाकात की थी और उन्हें मनाने की कोशिश की थी। फिलहाल सिंह की तबीयत खराब है, वह दिल्ली के एम्स में भर्ती हैं। इस कारण उनसे सीधा संपर्क नहीं हो रहा है।

खबरें और भी हैं...