गोवा: शुभ मुहूर्त के अभाव में गोवा में सरकार के गठन में हुई देरी: भाजपा विधायक

March 22nd, 2022

हाईलाइट

  • मूल रूप से कोई देरी नहीं

डिजिटल डेस्क, पणजी। भाजपा विधायक मौविन गोडिन्हो ने सोमवार को कहा कि भाजपा ने सरकार गठन की प्रक्रिया में देरी इसलिए की है, क्योंकि होली के आसपास के दिनों को अशुभ माना जाता है और सही मुहूर्त नहीं होने के कारण देरी हुई है। भाजपा विधायक ने राज्य में मुख्यमंत्री की नियुक्ति और नए मंत्रिमंडल के शपथ ग्रहण में हो रही देरी पर यह तर्क पेश किया है।

डाबोलिम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की अगवानी करने के तुरंत बाद पत्रकारों से बात करते हुए, गोडिन्हो ने भाजपा खेमे में किसी भी दरार से इनकार किया और हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल और गोवा विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष राजेंद्र अर्लेकर को मुख्यमंत्री नियुक्त किए जाने की संभावना से इनकार किया।

गोडिन्हो ने संवाददाताओं से कहा, मूल रूप से कोई देरी नहीं है। हमने जिन पांच राज्यों में जीत हासिल की है, उनमें से किसी में भी हमने शपथ ग्रहण नहीं किया है। यह (शपथ ग्रहण) अब एक दिन बाद निर्धारित है। पूर्व परिवहन मंत्री गोडिन्हो ने कहा, होली के दौरान, कुछ भी शुभ नहीं किया जाता है। कहा जाता है कि यह समय शुभ नहीं होता है। इसके लिए सही मुहूर्त होना चाहिए। अब (अच्छा) समय है। हम अच्छे समय और बुरे समय में विश्वास करते हैं। हमें सभी देवताओं के आशीर्वाद के साथ एक स्थिर सरकार चाहिए। फिर कुछ दिन की देरी क्यों नहीं हो सकती।

जब उनसे विपक्ष द्वारा दिए गए उन बयानों पर टिप्पणी करने के लिए कहा गया, जिनमें कहा जा रहा है कि सरकार के गठन में देरी के कारणों में से एक यह है कि मुख्यमंत्री के मुद्दे पर भाजपा में लड़ाई चल रही है, तो इस पर गोडिन्हो ने कहा, विपक्ष कैसे बात कर सकता है? वे न तो एक राज्य अध्यक्ष है और न ही कोई विपक्षी नेता है। तोमर, जो भाजपा के सर्वोच्च निर्णय लेने वाले निकाय - केंद्रीय संसदीय बोर्ड के दूत हैं - उनके साथ केंद्रीय मत्स्य राज्य मंत्री एल. मुरुगन भी हैं। उनकी ओर से शाम को पार्टी विधायकों की बैठक की अध्यक्षता करने की उम्मीद है, जिसके बाद औपचारिक रूप से सरकार बनाने का दावा करने वाला एक पत्र राज्यपाल को भेजा जाएगा।

भाजपा ने 14 फरवरी को हुए चुनाव में 20 सीटें जीती थीं, जो 40 सदस्यीय सदन में 21 के बहुमत से सिर्फ एक कम है। तीन निर्दलीय विधायकों और महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के दो विधायकों सहित पांच विधायक पहले ही भाजपा को समर्थन पत्र भेज चुके हैं। दिलचस्प बात यह है कि जब से 10 मार्च को चुनाव परिणाम सामने आए हैं, 2019-22 तक सीएम पद की जिम्मेदारी संभालने वाले कार्यवाहक मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और उनके कट्टर प्रतिद्वंद्वी विश्वजीत राणे के बीच सीएम पद की दौड़ के बीच, भाजपा मुख्यमंत्री की अपनी पसंद पर विचार कर रही है।

सूत्रों के मुताबिक, दोनों नेता रविवार रात केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के आवास पर हुई बैठक में मौजूद थे, जहां नेतृत्व के मुद्दे पर चर्चा हुई। भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने गोवा विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष और वर्तमान में हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल राजेंद्र अर्लेकर को भी नेतृत्व की चर्चा में शामिल किया है। गोडिन्हो ने कहा कि सोमवार शाम को भाजपा विधायक दल मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार का समर्थन करेगा, जिसके बाद औपचारिक रूप से सरकार बनाने का दावा करने वाला एक पत्र राज्यपाल को सौंपा जाएगा।

गोडिन्हो ने कहा, शपथ ग्रहण कल या परसों (मंगलवार या बुधवार) हो सकता है। हालांकि, गोडिन्हो ने मुख्यमंत्री की पसंद को लेकर पार्टी में भ्रम की स्थिति से इनकार किया।

गोडिन्हो ने कहा, हमारा आलाकमान जानता है कि कौन मुख्यमंत्री हो सकता है। व्यक्तिगत रूप से महत्वाकांक्षाएं हो सकती हैं, महत्वाकांक्षा होनी चाहिए, लेकिन कोई अंदरूनी कलह नहीं है। इसके बजाय अर्लेकर को मुख्यमंत्री बनाए जाने की संभावना के बारे में पूछे जाने पर गोडिन्हो ने कहा, मुझे नहीं लगता कि आप जो कह रहे हैं उसमें कोई गहराई है।

 

 (आईएएनएस)