दैनिक भास्कर हिंदी: प्रधानमंत्री के वैक्सीन निर्माण की समीक्षा का दौरा शुरू, पहुंचे गुजरात के जायडस प्लांट

November 28th, 2020

हाईलाइट

  • प्रधानमंत्री के वैक्सीन निर्माण की समीक्षा का दौरा शुरू, पहुंचे गुजरात के जायडस प्लांट

गांधीनगर, 28 नवंबर (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बहुप्रतीक्षित कोरोनावायरस वैक्सीन और इसकी निर्माण प्रक्रिया के विकास की समीक्षा करने के लिए शनिवार को गुजरात में फार्मा प्रमुख जायडस कैडिला के प्लांट पहुंच गए हैं। वैक्सीन की समीक्षा के लिए वे तीन शहरों का दौरा करेंगे।

चंगोदर जाने के लिए प्रधानमंत्री शनिवार सुबह करीब 9.20 बजे अहमदाबाद हवाई अड्डे पर पहुंचे, जहां उनका स्वागत गुजरात के मुख्य सचिव अनिल मुकीम ने किया।

उनकी तीन शहरों की यात्रा में महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश भी शामिल होंगे, जिनमें पुणे की कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और हैदराबाद का भारत बायोटेक शामिल हैं।

अहमदाबाद हवाई अड्डे से वे भारतीय वायु सेना के हेलिकॉप्टर से चंगोदर गए, यहां से वे सड़क मार्ग से जायडस कैडिला फार्मा कंपनी के बायोटेक प्लांट में पहुंचे। प्लांट में प्रधानमंत्री का स्वागत कंपनी के चेयरमैन पंकज पटेल और उनके बेटे और कंपनी के एमडी शार्विल पटेल ने किया। मोदी ने शार्विल के बच्चों से भी बातचीत की।

कंपनी के अध्यक्ष, एमडी और वैज्ञानिकों के साथ बैठक से पहले मोदी ने कोरोनावायरस वैक्सीन विकास को लेकर प्रजेंटेशन देखा। लगभग आधे घंटे की बैठक के दौरान वैक्सीन के परीक्षणों और वितरण पर चर्चा की।

कंपनी का जायकोव-डी नाम का वैक्सीन उम्मीदवार क्लीनिकल ट्रायल के दूसरे चरण में है और जल्द ही इसका तीसरा चरण शुरू होने की उम्मीद है। मोदी ने प्लांट का निरीक्षण भी किया, जहां कोरोना वैक्सीन विकसित की जा रही है।

मोदी के हेलिकॉप्टर को उतरने के लिए चंगोदर में एक विशेष हेलीपैड तैयार किया गया था। यहां 500 से ज्यादा पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया था, जिसमें 4 एसपी समेत कई पुलिस अधिकारी मौजूद थे। इसके अलावा बीडीडीएस, एसओजी और एलसीबी के जवान भी थे।

हैदराबाद में उनका दूसरा पड़ाव भारत बायोटेक है, जो कोवैक्सीन के तीसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल कर रहा है, इसके परीक्षण भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के सहयोग से देश के कई हिस्सों में चल रहे हैं।

इसके बाद मोदी पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया जाएंगे जहां ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के सहयोग से विकसित किए जा रहा वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल के दूसरे चरण में है।

एसडीजे/वीएवी

खबरें और भी हैं...