दैनिक भास्कर हिंदी: CWG 2018: मॉडलिंग छोड़ 'दिल्ली गर्ल' मनिका ने बढ़ाया देश का मान

April 9th, 2018

हाईलाइट

  • 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत को टेबिल टेनिस में गोल्ड मेडल जिताने में अहम योगदान देने वाली दिल्ली की 22 साल की मनिका बत्रा की देशभर में चर्चा हो रही है।
  • कॉमनवेल्थ गेम्स के टेबिल टेनिस के फाइनल मुकाबले के पहले सिंग्लस मुकाबले में देश की स्टार खिलाड़ी मनिका बत्रा ने तियानवेई फेंग को 11-8, 8-11, 7-11, 11-9, 11-7 से मात देकर भारत को 1-0 से आगे कर दिया था
  • निका ने पहले मुकाबले में लीड लेने के बाद चौथे और निर्णालय मुकाबले में विरोधी को पस्त कर भारत को गोल्ड मेडल जिताने में अहम भूमिका निभाई।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत को टेबिल टेनिस में गोल्ड मेडल जिताने में अहम योगदान देने वाली दिल्ली की 22 साल की मनिका बत्रा की देशभर में चर्चा हो रही है। मनिका ने पहले मुकाबले में लीड लेने के बाद चौथे और निर्णालय मुकाबले में विरोधी को पस्त कर भारत को गोल्ड मेडल जिताने में अहम भूमिका निभाई। 

 

Related image


 

मनिका की मेहनत रंग लाई

 

मनिका बत्रा ने ये मुकाम हासिल करने के लिए अपनी जिंदगी का बहुत कुछ दांव पर लगाया है। एक आम लड़की की तरह मनिका की भी कई ख्वाहिशें थी लेकिन उन्होंने अपने गेम की खातिर सबकुछ त्याग दिया और सिर्फ और सिर्फ अपने गेम पर फोकस किया। गोल्ड मेडल जीतने के बाद मनिका ने बताया कि उन्होंने गेम के लिए कॉलेज, मॉडलिंग और कॉलेज की मस्ती सब छोड़ दी। 

 

Image result for MANIKA BATRA

 


कॉलेज और मॉडलिंग का शौक छोड़ा

 

मनिका ने बताया कि वो गेम पर फोकस करने के कारण महीने में सिर्फ एक बार ही कॉलेज जा पाती थीं और कई बार तो सिर्फ परीक्षा के समय ही कॉलेज जाना हो पाता था लेकिन बाद में उन्हें एहसास हुआ कि ये ठीक नहीं है और इसलिए उन्होंने रेगुलर कॉलेज छोड़कर ओपन से पढ़ाई शुरु की। इतना ही नहीं मनिका को मॉडलिंग करने का भी शौक था लेकिन अपने खेल की खातिर उन्होंने सबकुछ छोड़ दिया। ये मनिका की मेहनत का ही परिणाम है कि भारत कॉमनवेल्थ गेम्स में टेबिल टेनिस में गोल्ड मेडल हासिल कर पाया है और पूरी दुनिया में उसका मान बढ़ा है। 

 

 

Related image

 

'गोल्ड' का फाइनल 

 

आपको बता दें कि रविवार को कॉमनवेल्थ गेम्स के टेबिल टेनिस के फाइनल मुकाबले के पहले सिंग्लस मुकाबले में देश की स्टार खिलाड़ी मनिका बत्रा ने तियानवेई फेंग को 11-8, 8-11, 7-11, 11-9, 11-7 से मात देकर भारत को 1-0 से आगे कर दिया था. लेकिन दूसरे एकल मुकाबले में भारत की मधुरिका पाटकर को मेंगयू यू ने 13-11, 11-2, 11-6 से मात देकर मुकाबला 1-1 से बराबरी पर ला दिया था. इसके बाद तीसरा मैच डबल्स मुकाबलों में मौमा दास और मधुरिका की जोड़ी ने यिहान झू और मेंगयू की जोड़ी को 11-7, 11-6, 8-11, 11-7 से मात देकर एक बार फिर भारत को बढ़त दिला दी थी जिसके बाद चौथे और अंतिम एकल मुकाबले में  मनिका ने यिहान झू को 11-7, 11-4, 11-7 से मात देकर भारत को गोल्ड मेडल जिताया था।