दैनिक भास्कर हिंदी: गंभीर बोले- पाक के साथ अगर वर्ल्डकप फाइनल भी खेलना पड़े तो करे बहिष्कार

March 18th, 2019

हाईलाइट

  • विश्व कप में पाकिस्तान के साथ मैच खेलना चाहिए या नहीं इसे लेकर देश में अलग-अलग राय है।
  • पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर की इस मामले को लेकर की गई टिप्पणी के बाद अब गौतम गंभीर का बयान सामने आया है।
  • गौतम गंभीर की राय में पाकिस्तान के साथ मैच का बहिष्कार किया जाना चाहिए।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। विश्व कप में पाकिस्तान के साथ मैच खेलना चाहिए या नहीं इसे लेकर देश में अलग-अलग राय है। पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर की इस मामले को लेकर की गई टिप्पणी के बाद अब गौतम गंभीर का बयान सामने आया है। गौतम गंभीर की राय सचिन से एकदम उलट है। उनकी राय में पाकिस्तान के साथ मैच का बहिष्कार किया जाना चाहिए। बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले को पाकिस्तान की जमीन पर पल रहे आतंकी संगठन जैश-ऐ-मौहम्मद ने दिया था। इसके बाद से देश भर में पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा है।     

गौतम गंभीर ने कहा, 'यह बीसीसीआई को तय करना है की विश्व कप में पाकिस्तान के साथ मैच खेला जाए या नहीं। व्यक्तिगत रूप से, खेल का बहिष्कार करने में कुछ भी गलत नहीं है। मेरे लिए 2 अंक महत्वपूर्ण नहीं हैं, मेरे लिए क्रिकेट खेल की तुलना में जवान अधिक महत्वपूर्ण हैं। देश पहले आता है।' गौतम गंभीर ने यहां तक कहा की 'अगर भारत को विश्व कप फाइनल में पाकिस्तान के साथ मैच खेलना पड़े, तब भी मैच का बहिष्कार किया जाना चाहिए। देश को भी इसके लिए तैयार होना चाहिए।' उन्होंने कहा, समाज के कुछ वर्गों का कहना है कि खेलों को राजनीति से मत जोड़िए, लेकिन क्रिकेट के खेल की तुलना में जवान कहीं अधिक महत्वपूर्ण हैं।

गंभीर ने कहा, इंग्लैंड ने 2003 में फैसला किया था कि वे जिम्बाब्वे नहीं जाएंगे और उन्होंने ऐसा ही किया। अगर बीसीसीआई पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलने का फैसला करता है, तो हर किसी को उन दो पॉइंट को देने के लिए मानसिक रूप से तैयार होना चाहिए।

बता दें कि इससे पहले सचिन तेंदुलकर ने कहा था कि 'अभी तक वर्ल्डकप में भारत और पाकिस्तान 6 बार आमने सामने आए हैं। इन सभी मैचों में भारत ने पाकिस्तान को करारी शिकस्त दी है। यह सही समय है कि हम उन्हें एक बार फिर हरा दें। मुझे व्यक्तिगत तौर पर पाक को बिना खेले आसानी से दो अंक मिल जाने और उन्हें टूर्नामेंट में आगे बढ़ने का मौका मिलने पर बिलकुल अच्छा नहीं लगेगा।' 

तेंदुलकर ने कहा था, 'मेरे लिए देश सबसे ऊपर है। मेरा देश जो भी निर्णय लेगा, मैं दिल से उस निर्णय में उनके साथ हूं। BCCI जो भी निर्णय लेगी मैं उनका सपोर्ट करूंगा।' इससे पहले लिटिल मास्टर सुनिल गावस्कर ने भी भारत के पाक के साथ न खेलने को लेकर BCCI की आलोचना की थी। गावस्कर ने कहा था कि अगर भारत नहीं खेलता है, तो यह भारत की हार होगी।