comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Happy Birthday MSD: धोनी के लिए BCCI ने तोड़ा था ये नियम, कैप्टन कूल के इन रिकॉर्ड्स तक पहुंचना है मुश्किल

Happy Birthday MSD: धोनी के लिए BCCI ने तोड़ा था ये नियम, कैप्टन कूल के इन रिकॉर्ड्स तक पहुंचना है मुश्किल

हाईलाइट

  • भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी का जन्मदिन आज
  • महेन्द्र सिंह धोनी ने साल 2004 में इंटर-नेशनल क्रिकेट में रखा था कदम
  • कपिल देव के बाद एमएस धोनी की कप्तानी में भारत ने जीता था विश्वकप

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। इंटरनेशनल क्रिकेट के तीन सबसे बड़े खिताब जीतने वाले दुनिया के एक इकलौते कप्तान (पूर्व) महेन्द्र सिंह धोनी आज 39 साल के हो गए हैं। उनका जन्म 7 जुलाई 1981 को झारखंड (तब बिहार) के रांची में हुआ था। कैप्टन कूल कह जाने वाले धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट के अलावा इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में भी कई ऐसे रिकॉर्ड बनाए हैं, जिन्हें तोड़ना बेहद मुश्किल है। धोनी की कप्तानी में भारत ने आईसीसी के तीन बड़े खिताब, आईसीसी चैंपियन ट्रॉफी, टी-20 विश्वकप, आईसीसी विश्वकप 2011 जीता था। बता दें कि धोनी के अलावा अबतक किसी भी टीम के कप्तान ने ये रिकॉर्ड नहीं बनाया है। आइये जानते धोनी कुछ ऐसे ही रिकॉर्ड के बारे में जिन्हें तोड़ना है मुश्किल...

धोनी की कप्तानी में हासिल हुई ये उपलब्धियां 

1.भारत ने सितंबर 2007 में दक्षिण अफ्रीका में आयोजित आईसीसी वर्ल्ड टी-20 अपने नाम किया। टी20 वर्ल्ड कप के पहले एडिशन में धोनी को कप्तान नियुक्त किया गया था। वह इस फॉर्मेट में 2016 तक कप्तान रहे।
2.टेस्ट मैचों में धोनी ने 2008 से 2014 तक कप्तानी की। धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया टेस्ट रैंकिंग में 18 महीने तक नंबर वन रही।
3.साल 2010 और 2016 में धोनी की कप्तानी में भारत ने एशिया कप जीता।
4.साल 2011 में धोनी की कप्तानी में इंडिया ने आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप अपने नाम किया। कपिल देव के धोनी दूसरे ऐसे कप्तान थे, जिन्होंने ये उपलब्धि हासिल की।
5.साल 2013 में भारत ने चैंपियंस ट्रॉफी पर कब्जा किया। इसके साथ धोनी आईसीसी के तीनों बड़े टूर्नामेंट जीतने वाले दुनिया के इकलौते कप्तान बन गए। बिना कोई मैच गंवाए फाइनल में पहुंचने वाली भारतीय टीम ने इंग्लैंड को 5 रन से मात दी थी।

टेस्ट क्रिकेट में धोनी के रिकॉर्ड

1.एमएस धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने साल 2009 में पहली बार टेस्ट रैंकिंग में पहला स्थान हासिल किया।
2.भारत के सफलतम टेस्ट कप्तानों में शुमार धोनी की कप्तानी में भारत ने 27 टेस्ट मैच जीते। इस दौरान उन्होंने टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली (21) को पीछे छोड़ा।
3.टेस्ट में किए कुल 294 शिकार जिसमें 256 कैच और 38 स्टंपिंग शामिल है। सर्वाधिक विकेट के शिकार के मामले में बतौर विकेटकीपर धोनी भारतीयों में टॉप पर हैं।
4.धोनी टेस्ट मैच में चार हजार बनाने वाले भारत के पहले टेस्ट विकेटकीपर बने।
5.धोनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 224 रन की पारी खेल टेस्ट में सर्वाधिक रन की पारी खेलने वाले भारत के तीसरे कप्तान बने।

धोनी के वनडे रिकॉर्ड 

1.साल 2005 में श्रीलंका के खिलाफ धोनी ने नाबाद 183 रन की पारी खेली थी। जो किसी विकेटकीपर का सर्वाधिक निजी स्कोर है।
2.छठे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए धोनी ने 4031 रन बनाए। 
3.धोनी वनडे में 200 छक्के जड़ने वाले भारत के पहले जबकि दुनिया में पांचवें नंबर के खिलाड़ी हैं।
4.भारत की ओर से सर्वाधिक वनडे खेलने के मामले में सचिन तेंदुलकर (463)के बाद दूसरे नंबर पर हैं धोनी (350) हैं।
5.बतौर कप्तान 100 मैच जीतने वाले तीसरे कप्तान हैं धोनी ही हैं।

टी 20 में धोनी के रिकॉर्ड

1.धोनी टी-20 में सबसे पहले 1000 रन पूरा करने वाले खिलाड़ी बने थे।
2.धोनी ने बतौर कप्तान सर्वाधिक 41 टी-20 मैच जीते। 
3.टी-20 में धोनी ने बतौर कप्तान सर्वाधिक 72 मैच खेले।
4.धोनी ने बतौर विकेटकीपर सर्वाधिक 87 शिकार किए हैं।
5.धोनी ने बतौर विकेटकीपर सर्वाधिक 54 कैच लपके।

आईपीएल में धोनी के रिकॉर्ड

1.धोनी ने बतौर कप्तान तीन बार आईपीएल का खिताब जीता है।
2.धोनी ने 20वें ओवर में सबसे ज्यादा कुल 564 रन बनाए
3.धोनी ने 5 अलग-अलग नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए अर्धशतक लगाए हैं। 
4.धोनी ने विकेट के पीछे सबसे ज्यादा 132 खिलाड़ियों को आउट किया था। 
5.धोनी ने आईपीएल में 38 खिलाड़ियों को स्ंटप आउट किया
6.धोनी ने सबसे ज्यादा 9 बार आईपीएल फाइनल खेलने का रिकॉर्ड बनाएं। 
7.धोनी ने बतौर कप्तान सबसे ज्यादा 174 आईपीएल मैच खेले हैं। 

बता दें कि महेन्द्र सिंह धोनी पिछले लगभग एक साल से प्रतिस्पर्धी क्रिकेट से दूर हैं। उन्होंने अपना पिछला मैच पिछले साल जुलाई में वर्ल्ड कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबला खेला था। इसके बाद से उनके भविष्य को लेकर अटकलें तेज हैं।

जब धोनी के लिए आईसीसी ने तोड़ा था नियम
भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी बीसीसीआई के प्रतिभा अनुसंधान विकास विभाग (DRDW) की खोज थे। धोनी को इंटरनेशनल क्रिकेट तक लाने के लिए बीसीसीआई को उम्र से जुड़ा एक ऐसा नियम तोड़ना पड़ा था, जो धोनी के लिए इंटरनेशनल क्रिकेट में जाने का रास्ता रोक रहा था। धोनी को 21 साल की उम्र में बीसीसीआई के (DRDW) में शामिल किया गया था, हालांकि इसके लिए उम्र 19 साल निर्धारित की गई थी।

उस समय धोनी 21 साल के थे इसलिए इसमें फिट नहीं बैठ रहे थे, लेकिन फिर भी उन्हें इसमें शामिल किया गया था, इसके पीछे एक दिलचस्प किस्सा है। दरअसल, बंगाल के पूर्व कप्तान प्रकाश पोद्दार के कहने पर धोनी को DRDW में शामिल किया गया था। पोद्दार के कहने पर दिलीप वेंगसरकर ने फैसला किया कि प्रतिभाशाली खिलाड़ी के लिए नियम नहीं आड़े आने चाहिए।पोद्दार जमशेदपुर में एक अंडर-19 मैच देखने गए थे। उसी समय बगल के कीनन स्टेडियम में बिहार की टीम एकदिवसीय मैच खेल रही थी और गेंद बार-बार स्टेडियम के बाहर आ रही थी।इसके बाद पोद्दार ने उत्सुकता हुई कि इतनी दूर गेंद को कौन मार रहा है। जब उन्होंने पता किया तो धोनी के बारे में पता चला।

एमएस धोनी का अंतरराष्ट्रीय करियर

महेंद्र सिंह धोनी ने 350 वनडे इंटरनेशनल में 50.57 की औसत से 10773 रन बनाए, जिसमें 10 शतक और 73 अर्धशतक शामिल हैं। इस दौरान उनका उच्चतम स्कोर नाबाद 183 रन रहा। विकेट के पीछे 444 शिकार किए हैं।

धोनी ने 90 टेस्ट मैचों में 38.09 की औसत से 4876 रन बनाए। उन्होंने 6 शतक और 33 अर्धशतक लगाए हैं। उनका उच्चतम स्कोर 224 रन रहा। विकेट के पीछे 294 शिकार किए हैं।

उन्होंने भारत के लिए 98 टी-20 इंटरनेशनल मैचों में 37.60 की औसत से 1617 रन बनाए, जिसमें 2 अर्धशतक शामिल हैं। उनका उच्चतम स्कोर 56 रन रहा। विकेट के पीछे 91 शिकार किए हैं।

कमेंट करें
sEMe3
कमेंट पढ़े
Gagan sharma July 07th, 2020 11:15 IST

mahi the great ❤❤❤

NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।