मारियाना कुजूर : दीप ग्रेस एक्का और लिलिमा मिंज जैसे खिलाड़ियों से बहुत कुछ सीखना चाहती हूं

January 18th, 2022

हाईलाइट

  • मैं टीम की उम्मीदों पर खरा उतरना चाहती हूं।

डिजिटल डेस्क, मस्कट । युवा भारतीय महिला टीम की फॉरवर्ड मारियाना कुजूर को लगता है कि 21 जनवरी से यहां शुरू होने वाला एशिया कप सीनियर टीम में अपनी छाप छोड़ने का एक शानदार मौका है। साथ ही, उन्होंने कहा कि वह टूर्नामेंट के दौरान दीप ग्रेस एक्का जैसे दिग्गजों से ज्यादा से ज्यादा सीखना चाहेंगी।

गत चैम्पियन भारत महिला टीम एशिया कप में अपने अभियान की शुरुआत 21 जनवरी को मलेशिया के खिलाफ करेगी।कुजूर, जो ओडिशा में सुंदरगढ़ की रहने वाली हैं और पानपोश अकादमी से उन्होंने ट्रेनिंग ली है, उन्होंने कहा कि वह वरिष्ठ हमवतन दीप ग्रेस एक्का, लिलिमा मिंज और निमिता टोप्पो को पसंद करती है, जो ओडिशा हॉकी से निकली हुईं बेहतरीन खिलाड़ी हैं।

कुजूर ने कहा, मैं इस अवसर के लिए आभारी हूं। महिला एशिया कप अंतर्राष्ट्रीय कैलेंडर में एक प्रतिष्ठित टूर्नामेंट है और मैं इस अवसर का उपयोग उस भूमिका को निभाने के लिए करना चाहता हूं, जो मुझे सौंपी गई है। मैं टीम की उम्मीदों पर खरा उतरना चाहती हूं।

उन्होंने आगे कहा, पिछले कुछ हफ्तों में बेंगलुरू में शिविर मैंने अच्छा अभ्यास किया है और मैंने सीनियर टीम के स्तर को समझने पर काम किया है। मेरा मानना है कि मैंने विशेष रूप से फॉरवर्ड-लाइन और मिडफील्ड में खिलाड़ियों के साथ अच्छा ऑन-फील्ड संचार विकसित किया है।

16 जनवरी को मस्कट पहुंचने के बाद, टीम ने परिस्थितियों के अभ्यस्त होने के लिए कड़ी मेहनत की है और कुजूर ने कहा कि टीम अपने पहले मैच के लिए उत्साहित है।उन्होंने कहा, मस्कट पहुंचने के बाद, हमारे पास हॉकी के कुछ अच्छे सत्र थे। मौसम काफी सुहावना है और हम सुल्तान क्यूबोस स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में पिच के अभ्यस्त हो रहे हैं। यह एक सुंदर स्थान है और टीम पहले से काफी उत्साहित है।

भारत को पूल ए में जापान, मलेशिया और सिंगापुर के साथ रखा गया है। वे 21 जनवरी को मलेशिया के खिलाफ अपने अभियान की शुरुआत करेंगे और 23 जनवरी को जापान से खेलेंगे। इसके बाद, भारत 24 जनवरी को अपने आखिरी पूल ए मैच में सिंगापुर से भिड़ेगा।

 

(आईएएनएस)