अच्छी पहल - 2-18 वर्ष तक के बच्चों को टीका लगाए जाने से पहले ही स्मार्ट सिटी ने तैयार किया विशेष केंद्र: देश का पहला चाइल्ड कोविड वैक्सीनेशन सेंटर, खिलौनों और झूलों का भी आकर्षण

October 14th, 2021

डिजिटल डेस्क जबलपुर । वयस्कों के टीकाकरण के बाद अब सरकार की तैयारी 2 से 18 वर्ष की उम्र के बच्चों को कोरोना वैक्सीन लगाने की है। वैक्सीन को एप्रूवल मिल चुका है और अब स्वास्थ्य विभाग को सरकार के निर्देशों का इंतजार है। जिसके बाद जिले में भी बच्चों के वैक्सीनेशन की तैयारी शुरू की जाएगी। इस बीच जबलपुर में बच्चों के लिए विशेष टीकाकरण केंद्र बनाया गया है।  दो कमरे वाले इस भवन को चटख गाढ़े रंगों से सुंदर तस्वीरों के माध्यम से रंगा गया है। एक कमरे में जहाँ वैक्सीनेशन होगा, वहीं दूसरे कमरे में  बच्चे खिलौनों के साथ प्रतीक्षा वाला आधा घंटा गुजारेंगे। संभवत: यह देश का पहला चाइल्ड व किड्स फ्रेंडली कोविड वैक्सीनेशन सेंटर है। प्रदेश के मुखिया सीएम शिवराज सिंह चौहान ने सोशल मीडिया पर इस केंद्र की तस्वीरें साझा की हैं। उन्होंने ट्विटर पर जबलपुर स्मार्ट सिटी को देश का पहला किड्स फ्रेंडली कोविड वैक्सीनेशन सेंटर तैयार करने पर बधाई दी है। बता दें कि भारत बायोटेक की को-वैक्सीन का 02 से 18 वर्ष की उम्र के बच्चों पर ट्रायल सफल रहा है।
कई मूलभूत सुविधाएँ भी
केंद्र पर कई मूलभूत सुविधाएँ भी उपलब्ध कराई गई हैं जैसे कि कई प्रकार के झूले, माताओं के लिए आंचल कक्ष, डाइपर वैंडिंग मशीन, सेनेटरी पैड मशीन, वेटिंग एरिया सिटिंग स्पेस, डॉक्टर टेबल एवं चेयर्स समेत पेयजल की सुविधा उपलब्ध है।  
बेहद उपयोगी साबित होगा सेंटर
सीएम के ट्वीट के बाद कलेक्टर कर्मवीर शर्मा, आयुक्त नगर निगम संदीप जीआर एवं स्मार्ट सिटी सीईओ श्रीमती निधि सिंह राजपूत ने कहा कि जबलपुर स्मार्ट सिटी द्वारा इस तरह के प्रयास लगातार किये जायेंगे, ताकि जबलपुर को नई पहचान मिल सके। निगमायुक्त का कहना है कि शासन द्वारा जब भी बच्चों का वैक्सीनेशन प्रारम्भ किया जाएगा,  तब यह सेंटर अत्यधिक उपयोगी साबित होगा। इसे नर्चरिंग नेबरहुड चैलेंज के तहत तैयार किया गया है। 
कुछ ऐसा है बच्चों का टीकाकरण केंद्र 
*    बिल्डिंग में किड्स जोन बना है और सेनिटाइजर भी रखा गया है। 
*    भवन और परिसर को आकर्षक चटख रंगों से कलर किया गया है। 
*    वैक्सीनेशन कमरे का भी लुक ऐसा रखा गया है कि बच्चों का इंजेक्शन को लेकर डर दूर भाग जाए। 
*    बच्चों के खिलौने भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराए गए हैं। 
*    छोटा भीम और डोरेमॉन जैसे कार्टून कैरेक्टर के चित्रों के साथ  पार्क भी तैयार किया गया है।
स्कूलों में जाकर लगाएँगे टीके
वयस्कों के टीकाकरण के लिए जहाँ स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले में अस्पतालों समेत स्कूलों, सार्वजनिक स्थलों पर वैक्सीनेशन सेंटर बनाए गए, वहीं बच्चों के लिए नई व्यवस्था बनाने की तैयारी है। डीआईओ डॉ. दाहिया के अनुसार बच्चों के लिए स्कूल में ही टीकाकरण कराना सुविधाजनक रहेगा। 4 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चे इस तरह कवर हो जाएँगे। वहीं 2 से 4 वर्ष के बच्चों को पैरेंट्स अस्पताल लाकर टीका लगवा सकेंगे।   

खबरें और भी हैं...