नई दिल्ली: उदयपुर हत्याकांड के दोषियों को दी जाए सख्त से सख्त सजा - मुस्लिम राष्ट्रीय मंच

June 30th, 2022

हाईलाइट

  • मंच के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी शाहिद सईद ने कहा कि मजहब के नाम पर नासूर बन चुके लोगों का ऑपरेशन खात्मा होना चाहिए

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। आरएसएस से जुड़े मुस्लिम राष्ट्रीय मंच ने उदयपुर हत्याकांड की कड़ी निंदा करते हुए सरकार से मांग की है कि इस मामले में दोषी आतंकियों को तुरंत सख्त से सख्त सजा दी जानी चाहिए। मंच ने इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए यह भी कहा है कि ऐसी जघन्य हत्या से वो स्तब्ध है और किसी भी सभ्य समाज में इस तरह की हिंसा को बर्दास्त नहीं किया जा सकता है।

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के देशभर के सभी पदाधिकारियों, राष्ट्रीय संयोजकों, सह संयोजकों, सभी प्रकोष्ठों के पदाधिकारियों एवं प्रभारियों की ऑनलाइन बैठक में सभी ने एक सुर में उदयपुर हत्या की निंदा करते हुए सरकार से दोषियों को सख्त से सख्त सजा देने की मांग की है। मंच के राष्ट्रीय संयोजक मोहम्मद अफजाल और शाहिद अख्तर ने सभी से शांति और भाईचारा बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि देश के सभी लोगों को धर्म, जात, समुदाय से ऊपर उठ कर नफरत को करारी शिकस्त देने के लिए काम करना है।

मंच के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी शाहिद सईद ने कहा कि मजहब के नाम पर नासूर बन चुके लोगों का ऑपरेशन खात्मा होना चाहिए क्योंकि ऐसे असामाजिक तत्वों के कारण देश के मुसलमानों और इस्लाम को कटघरे में खड़ा होना पड़ता है। जबकि इस्लाम सलामती, भाईचारा और अमन का मजहब है।

शाहिद सईद ने बताया कि कि मुस्लिम राष्ट्रीय मंच देश और दुनिया के मौलानाओं, इमामों, मौलवियों और मुस्लिम सभ्य समाज के लोगों से अपील करता है कि ऐसे सभी लोगों को इस्लाम से बर्खास्त किया जाना चाहिए जो मानवता और इस्लाम के दुश्मन हैं, ऐसे लोगों को इतिहास भी कभी माफ नहीं करेगा। मंच की बैठक में ज्यादातर लोगों ने भाजपा और आरएसएस का डर दिखाकर मुस्लिम समुदाय को गुमराह करने वालों की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि देश के प्रधानमंत्री को जिस भाषा में धमकी दी गई है , उसे बर्दास्त नहीं किया जा सकता है और देश ऐसे गद्दारों को कठोर से कठोर सजा देने के पक्ष में है।

 

 (आईएएनएस)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.