comScore

यहां पुरुषों को काबिल पति बनाने के लिए दी जा रही है झाड़ू-पोछा की ट्रेनिंग

September 18th, 2018 23:18 IST
यहां पुरुषों को काबिल पति बनाने के लिए दी जा रही है झाड़ू-पोछा की ट्रेनिंग

डिजिटल डेस्क । एक तरफ जहां भारत के नामचीन विश्व विद्यालय बनारस हिंदी यूनिवर्सिटी यानी की बीएचयू में एक अच्छी बहू बनने की ट्रेनिंग देने के लि कोर्स जारी किया गया,वहीं दुनिया दूसरे छोर पर एक अच्छा पति बने के गुण सिखाए जा रहे हैं। ये दोनों ही बातें अपने आप में अजीब है। क्योंकि किसी को एक अच्छा इंसान तो बनाया जा सकता है, लेकिन किसी को एक अच्छा किरदार निभाने की ट्रेनिंग दी जाए ये सुनने में बेहद अजीब लगता है। बीएचयू में एक अच्छी बहू बनने की ट्रेनिंग को लोगों बेतुका बताया। सोशल मीडिया पर इसका काफी मजाक बना, लेकिन जनाब जब आप एक अच्छे पति बनने के ट्रनिंग के बारे में सुनेंगे तो शायद चाहेंगे की बीएचयू भी अपने कोर्स में बहू की जगह पतियों को शामिल कर ले। मामला नाइजर के एक गांव का है। जहां करीब 20 पति स्कूल जाते हैं। अगर आप सोच रहे हैं कि वो किसी पढ़ाई या व्यावसायिक प्रशिक्षण के लिए जा रहे हैं तो आप गलत हैं। यहां पर पुरुषों को घरेलू कामकाज की ट्रेनिंग दी जा रही है।


 

कमेंट करें
g07oz
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।