दैनिक भास्कर हिंदी: पत्नी से पीड़ित पुरुषों का आश्रम, कौए की पूजा के लिए फेमस

November 17th, 2017

डिजिटल डेस्क, औरंगाबाद। अब तक आपने पत्नियों, विधवा महिलाओं और असहायों के लिए आश्रम देखे होंगे, लेकिन आज हम यहां आपको जिस आश्रम के बारे में बताने जा रहे है। वह दरअसल, पतियों के लिए खोला गया है। यहां वे पति आते हैं जो अपनी पत्नियों से पीड़ित हैं। इस आश्रम में छत्तीसगढ़, गुजरात, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश से भी लोग कानूनी सलाह लेने के लिए आते हैं। यह आश्रम महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में स्थित है। 


तैयार करते हैं फाइल
 
जिले से करीब 12 किमी की दूरी पर स्थित इस आश्रम में कानूनी सलाह लेने वालों की संख्या हर दिन पहले से ज्यादा होती है। अब तक यहां 5 सौ से ज्यादा लोग मश्वरे के लिए आ चुके हैं। यहां सलाह देने के लिए मौजूद लोग आश्रम में आने वालों की एक अच्छी खास फाइल बनाते हैं। 

 

इसलिए करते हैं कौए की पूजा

इस आश्रम की दूसरी खास बात है यहां मौजूद कौआ। जो सबका ध्यान खींचता है। इसकी सुबह-शाम पूजा की जाती है। यह थर्माकोल से बनाया गया है। आश्रम के संचालकों का मानना है कि मादा कौआ अंडा देने के बाद उनकी तरफ पलटकर नही देखती, नर कौआ ही उनकी देखरेख करता है। इसलिए यहां कौए की पूजा होती है। इस आश्रम के संस्थापक भारत फुलारे हैं। 
 

बनायी गई हैं तीन कैटेगरी

यहां सलाह लेने के लिए आने वाले पुरुषों को खिचड़ी बनाकर खिलायी जाती है, जबकि यहां रहने वाले पुरुष खुद ही खना बनाते हैं। सभी आपस में मिलकर आश्रम का खर्च उठाते हैं। पीड़ित पुरुषों के लिए यहां तीन कैटेगरी भी बनायी गई हैं।ए कैटेगरी में निडर को स्थान दिया गया है। जिस व्यक्ति का पत्नी ससुरालवालों से उत्पीड़न होता है और उन्हें डरकर वो सामने नहीं आता, ऐसा व्यक्ति सी कैटेगरी में आता है। जिस व्यक्ति को पत्नी से शिकायत है, लेकिन समाज उसे क्या कहेगा ये सोचकर चुपचाप बैठता है वो बी कैटेगरी में आता है।