दैनिक भास्कर हिंदी: साओ पालो: सांपो का आइलैंड, जो गया वो जिंदा वापस नहीं लौटा

July 19th, 2021

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दुनिया में कई ऐसी रोमांच और रहस्य से भरी जगह हैं, जहां प्रकृति की अनोखी दास्तान देखने को मिलती हैं, वहीं कई जगहें खतरों से भरी होती हैं। इन्हीं में से एक है 'साओ पालो', जहां इंसान नहीं दुनिया भर के जहरीले सांप रहते हैं। साओ पालो के बारे में सोचकर ही लोगों की रूह कांप जाती है। यह एक मात्र ऐसा आइलैंड है जहां इंसानों का नहीं सांपों का बसेरा है।

साओ पालो में इतने सांप हैं कि अगर किसी ने गलती से भी वहां जाना चाहा तो उसका लौट कर वापस आना काफी मुश्किल है। यह आइलैंड ब्राजील में स्थित है, जहां कई तरह के विशैले सांप रहते हैं। इस आइलैंड को 'स्नेक आइलैंड' के नाम से भी जाना जाता है। 

डरावना है यह आइलैंड, रोंगटे खड़े कर देंगी पेड़ों पर झूलती हजारों डॉल्स

वास्तव में इस आइलैंड का रियल नेम 'इलाहा दा क्यूइमादा' है। खूबसूरती से भरा यह आइलैंड दूर से देखने में दूसरे आइलैंड की तरह ही प्रतीत होता है पर यह पास से उतना ही जोखिम भरा है, धरती के सबसे खतरनाक सांप इस आइलैंड पर मौजूद हैं।

अपने विष से इंसान का मांस तक गला दें ऐसे जहरीले वाइपर प्रजाति के सांप यहां पाए जाते हैं, इन सांपों में उड़ने की भी काबिलियत होती है। बताया जाता है स्नेक आइलैंड पर 4000 से भी ज्यादा सांपो की प्रजाती निवास करती है, इनमें कई तरह के जहरीले सांप मौजूद हैं। 

सरकार द्वारा इस आइलैंड पर इंसानों का जाना मना है, यहां शोधकर्ताओं को जाने की अनुमती है जो इन सांपों के विषय पर शोध कर रहे हैं। विशेषज्ञों में भी इन सांपों का इतना खौफ है कि वो भी इस 'स्नेक आइलैंड' के अंदर जाने से कतराते हैं, वह भी अपना काम तटीय इलाकों तक ही खत्म कर वहां से वापस आ जाते हैं। 

क्या 21वीं सदी तक मालदीव सहित ये 5 द्वीप हो जाएंगे विलुप्त ?

इन सब के बावजूद यहां शिकारी छुप के गोल्डेन लांसहेड वाइपर और अन्य कुछ सांपों का शिकार करते हैं जिसे वो अंतराष्ट्रीय बाजार में लाखों रूपये में बेचते हैं, अंतराष्ट्रीय बाजार में गोल्डेन लांसहेड वाइपर के लिए 18 लाख रुपए मिल जाते हैं।