दैनिक भास्कर हिंदी: VIDEO: 46 करोड़ वार्षिक आय, सोने की छत-परत से सजा है बप्पा का ये मंदिर

July 27th, 2017

डिजिटल डेस्क, मुंबई।  बप्पा के मंदिरों की इस शहर में कोई कमी नहीं है। कहते हैं मुंबई पर गणपति बप्पा का विशेष आशीर्वाद है। शायद यही वजह है कि बड़ी-बड़ी आपदाएं आने के बाद भी समंदर के तट पर बसा ये शहर अब तक सुरक्षित है और यहां आने वाले हर एक के सपनों को उड़ान मिलती है। आज हम आपको गजानन के ऐसे ही एक मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं...

प्रभादेवी (Prabha Devi) में स्थित श्री सिद्धिविनायक मंदिर (Shree Siddhivinayak Ganapati Temple) देश में स्थित सबसे पूजनीय मंदिरों में से एक है। मुंबई स्थित सिद्धिविनायक मंदिर का निर्माण 1801 में विट्ठु और देउबाई पाटिल ने किया था। इस मंदिर के अंदर एक छोटे मंडपम में भगवान गणेश के सिद्धिविनायक रूप की प्रतिमा स्थापित की गई है। सूक्ष्म शिल्पाकारी से परिपूर्ण गर्भगृह के लकड़ी के दरवाजों पर अष्टविनायक को प्रतिबिंबित किया गया है। जबकि अंदर की छतें सोने की परत से सुसज्जित हैं।

Read More : बाबा महाकाल ने भस्मारती में दिए अद्भुत दर्शन, देखें VIDEO

गर्भ गृह में भगवान गणेश की प्रतिमा अवस्थित है। उनके ऊपरी दाएं हाथ में कमल और बाएं हाथ में अंकुश है और नीचे के दाहिने हाथ में मोतियों की माला और बाएं हाथ में मोदक (लड्डुओं) भरा कटोरा है। गणपति के दोनों ओर उनकी दोनों पत्नियां रिद्धि और सिद्धि मौजूद हैं। मस्तक पर अपने पिता शिव के समान एक तीसरा नेत्र और गले में एक सर्प हार के स्थान पर लिपटा है। सिद्धिविनायक का विग्रह ढाई फीट ऊंचा है और यह दो फीट चौड़े एक ही काले शिलाखंड से बना है।

मान्यता है कि ऐसे गणपति बहुत ही जल्दी प्रसन्न होते हैं और उतनी ही जल्दी कुपित भी होते हैं। 46 करोड़ रुपये की वार्षिक आय के साथ मुंबई का सिद्धिविनायक मंदिर महाराष्ट्र का दूसरा सबसे अमीर मंदिर है। मंगलवार, गणेश चतुर्थी सहित विशेष अवसरों पर यहां लाखों श्रद्धालु बप्पा के दर्शनों के लिए पहुंचते हैं।