comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Shocking: थ्रिलर फिल्म ‘दृश्यम’ देख अपराधी ने किया गर्लफ्रेंड का मर्डर, बाथरूम में चुनवा दी लाश

Shocking: थ्रिलर फिल्म ‘दृश्यम’ देख अपराधी ने किया गर्लफ्रेंड का मर्डर, बाथरूम में चुनवा दी लाश

डिजिटल डेस्क,मुंबई। साल 2015 में अजय देवगन और श्रेया सरन की क्राइम थ्रिलर फिल्म ‘दृश्यम’ रिलीज हुई थी। जो लोगों को काफी पसंद आई और उस साल की सुपरहिट फिल्मों में से एक रही। उसकी कहानी को निजी जिंदगी में उतारने की किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी, लेकिन फिल्म के रिलीज होने के साढ़े 5 साल बाद इसकी कहानी की मदद लेकर 34 साल के सूरज ने अपनी गर्लफ्रेंड का पिछले साल अक्टूबर में मर्डर कर दिया और उसकी लाश को टॉयलेट की मचान पर चुनवा दिया।

Drishyam: Five reasons why Ajay Devgn, Tabu film is a must watch this weekend | Entertainment News,The Indian Express

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सूरज और अमिता 6 साल से रिलेशनशिप में थे। अमिता के घरवालें दोनों के रिश्तें को अपना चुके थे और उनकी शादी होने वाली थी,जिसके लिए 21 अक्टूबर साल 2020 को दोनों शादी की शॉपिंग के लिए बाहर गए, लेकिन अमिता कभी वापस लौट कर नहीं आई। घरवालों को एक मैसेज आया कि,अमिता और सूरज वापी में शिफ्ट हो गए हैं और वहीं दोनों ने शादी कर ली हैं। परिवार ने फिर सूरज को कॉन्टैक्ट करने की कोशिश की, लेकिन उसने बात नहीं की और इसके बाद उन्होंने पुलिस में शिकायत दर्ज कर दी।

drishyam-inspired murder: Inspired by film 'Drishyam', father and son murder man | Pune News - Times of India

कैसे हुआ खुलासा
साल 2020 बीत चुका था और अमिता से घरवालों का कोई कॉन्टेक्ट नहीं हुआ। पिछले हफ्ते अचानक अमिता के भाई ने सूरज को बोइसर में स्पॉट किया,जिसके बाद उन्होंने अमिता से मिलने की इच्छा सूरज के सामने रखी, लेकिन रास्ते से सूरज भाग निकला। पुलिस ने सूरज को पकड़ा और तब उसने पूरी सच्चाई खुद ही बता दी। सूरज ने बताया कि, वो अमिता से शादी नहीं करना चाहता था, लेकिन अमिता बार-बार उस पर प्रेशर बना रही थी। अमिता के प्रेशर से परेशान होकर सूरज ने अमिता का बेल्ट से गला दबाया और उसकी बॉडी को प्लास्टिक की शीट से कवर कर दिया, उसके बाद उसकी लाश को दीवार में चुनवा दिया। सूरज ने कहा कि, उसे ये आइडिया फिल्म 'दृश्यम' देखकर आया था। 

One more woman morning walker stabbed, robbed in Nandanvan

कमेंट करें
LNuw1
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।