comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Osho के किरदार में नजर आएंगे ये एक्टर, सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर

Osho के किरदार में नजर आएंगे ये एक्टर, सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर

डिजिटल डेस्क,मुंबई। आचार्य रजनीश यानि की ओशो को सारी दुनिया जानती है। उन पर आज तक अलग-अलग ढेरों डॉक्युमेंट्रीज बन चुकी है,लेकिन जल्द ही ओशो की जिंदगी पर आधारित फिल्म रिलीज होगी, जिसमें ओशो के किरदार में भोजपुरी एक्टर रवि किशन नजर आएंगे। रवि किशन की एक फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही हैं। इस तस्वीर में रवि किशन एकदम ओशो की तरह नजर आ रहे है। 

बता दें कि, ओशो की जीवन पर आधारित इस फिल्म का नाम 'सीक्रेट ऑफ लव' रखा गया है, जिसे रितेश एस कुमार ने डायरेक्ट किया है।वही इस फिल्म में आचार्य रजनीश के ओशो बनने के सफर को हर एंगल से स्क्रीन पर दिखाने की कोशिश की गई है। फिल्म में ओशो की सोच, फाउंडेशन, सरकार के साथ हुए विवाद और वैश्विक पहचान को भी दर्शाया गया है। 

The Secret Of Love: Rashi Kishan Looks Like Osho, The Picture Is Going Viral On Social Media

बॉम्बे टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में रवि किशन ने बताया कि उन्होंने फिल्म में ओशो के किरदार को निभाने के लिए कितनी मेहनत की है। एक्टर ने कहा कि, 'जब आप एक ऐसे शख्स का किरदार निभाते हैं जो कि विवादित तो हैं ही साथ में उसके लाखों अनुयायी भी है। ऐसे स्थिति में आप पर जिम्मेदारी अधिक हो जाती है। मैंने किरदार निभाने से पहले ओशो की ढेरों किताबें पढ़ी और काफी रिसर्च भी किया। डॉयरेक्टर ने भी मेरी बहुत मदद की। इन सब से मुझे किरदार निभाने में आसानी हुई। फिर भी हमने काफी सावधानी बरतते हुए हर पहलू को समझा फिर उस पर काम किया। 

The shooting of the film Secrets of Love is completed, Ravikishan is playing Osho's character - Bollywood Couch

रवि किशन ने बताया कि आखिर उन्हें ही इस किरदार के लिए क्यों चुना गया। उन्होंने कहा, 'जब मैंने डायरेक्टर रितेश से पूछा कि उन्होंने मुझे क्यों अप्रोच किया? इस पर रितेश ने कहा कि मेरी आंखें काफी हद तक ओशो जैसी हैं, उन्होंने ओशो के गेटअप में मेरी तस्वीर भी ली और दोनों को मिला के देखा। रितेश को दोनों में काफी समानताएं नजर आईं।' 

Before Aamir Khan Ravi Kishan will seen as spiritual master Osho Rajneesh in Secrets of Love | आमिर खान से पहले रवि किशन ने मारी बाजी, 'सीक्रेट्स ऑफ लव' में आध्यात्मिक गुरु

कमेंट करें
3M6an
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।