comScore

हिंदी सिनेमा की इन 5 मशहूर अभिनेत्रियों ने किए अपने से छोटे दूल्हे से शादी

हिंदी सिनेमा की इन 5 मशहूर अभिनेत्रियों ने किए अपने से छोटे दूल्हे से शादी

डिजिटल डेस्क,मुंबई। भारतीय समाज में शादी परंपराओं के मुताबिक होती है और हमारी परंपरा कहती हैं कि, लड़की की उम्र लड़के से कम होनी चाहिए। लेकिन बॉलीवुड की कुछ अभिनेत्रियां ऐसी हैं, जिन्होंने जाति, धर्म और उम्र को दरकिनार करते हुए परंपराओं की इन बेड़ियों को तोड़ दिया और अपने से कम उम्र के लड़कों से शादी की। शादी के बाद ये सभी अभिनेत्रियां आज अपने-अपने पार्टनर के साथ काफी खुश है। फीमेल सेलेब्रिटीज का इस ट्रेंड को तोड़ना भारतीय समाज में एक बड़े परिवर्तन की ओर इशारा करता है। क्योंकि लोग इस तरह की चीजें देखकर जागरुक होंगे और समझ पाएंगे कि, प्यार करने के लिए जाति, धर्म और उम्र देखने की जरुरत नहीं होती है। चलिए अब आपको बताते हैं 5 पॉपुलर फीमेल एक्ट्रेसस, जिन्होंने अपने से कम उम्र के लाइफपार्टनर के साथ शादी रचाई।

उर्मिला मातोंडकर और मोहसिन अख्तर मीर
बॉलीवुड की फेमस अदाकारा उर्मिला मातोंडकर ने साल 2016 में कश्मीर के रहने वाले एक बिजनेसमैन और मॉडल मोहसिन अख्तर मीर से शादी की थी। आपको जानकर हैरानी होगी कि, उर्मिला के पति मोहसिन उनसे 9 साल के छोटे है। बता दें कि, उर्मिला ने हिंदी सिनेमा में एक से बढ़कर एक फिल्में की है। जिसके लिए उन्हें की अवॉर्ड भी मिल चुके है। अपनी एक्टिंग के दम पर उर्मिला ने खूब नाम कमाया और वो कांग्रेस पार्टी के टिकट पर 2019 का लोकसभा चुनाव भी लड़ी थी लेकिन उसके बाद उर्मिला ने पार्टी बदल दिया और शिवसेना का दामन थाम लिया।

Urmila Matondkar marries Mohsin Akhtar Mir; See wedding pictures here! - YouTube

प्रीति जिंटा और जीन गुडइनफ
बॉलीवुड की पहली डिंपल क्वीन प्रीति जिंटा ने भले ही हिंदी सिनेमा से ब्रेक ले लिया हो लेकिन हर साल अपनी आईपीएल टीम "पंजाब किंग्स" के साथ भारत में चर्चा का विषय बनती है। प्रीति ने अपने से 10 साल छोटे जीन गुडइनफ से साल 2016 में बिना किसी को बताए गुपचुप तरीके से शादी कर ली थी। दोनों की शादी लॉस एंजिलिस में हुई इसलिए किसी को इस बात की कानो-कान खबर नहीं हुई। बता दें कि, प्रीति जिंटा के पति जीन गुडइनफ एक फाइनेंशियल एनालिस्ट हैं और वो अमेरिका के लॉस एंजिलिस में ही रहते है। 

प्रीति जिंटा के पति जीन गुडइनफ का आज जन्मदिन है और इस खास मौके पर एक्ट्रेस ने रोमांटिक तस्वीरें शेयर कर पति को जन्मदिन की बधाइयां दी हैं ...

ऐश्वर्या राय और अभिषेक बच्चन
बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री ऐश्वर्या राय बच्चन ने भी अपने से 3 साल छोटे एक्टर अभिषेक बच्चन से शादी की। दोनों ने साल 2007 में अपने परिवार की मर्जी से ये शादी की थी। ऐश्वर्या का इंडस्ट्री में आने के बाद सलमान खान से अफेयर था लेकिन आपसी विवाद के चलते वो रिश्ता ज्यादा दिनों तक टिक नहीं पाया और अभिनेत्री ने आगे चलकर अभिषेक से शादी कर ली। आज ऐश्वर्या और अभिषेक की एक बेटी भी है, जिसका नाम आराध्या बच्चन है। आराध्या का जन्म साल 2011 में हुआ था। 

Abhishek Bachchan Birthday Bash Aishwarya Rai Bachchan Marriage Story - Abhishek Bachchan Birthday Bash, Aishwarya Rai Bachchan - News

प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस 
हिंदी सिनेमा की बहुत कम अभिनेत्रियां हैं, जिन्होंने अपना सफर बॉलीवुड से हॉलीवुड तक तय किया हो। इतना ही नहीं हॉलीवुड में अपनी अलग पहचान भी बनाई हो। उनमें से एक प्रियंका चोपड़ा भी है। प्रियंका ने अपनी मेहनत और संघर्ष के बल पर हॉलीवुड में खूब नाम कमाया और साल 2018 में अपने से 11 साल छोटे निक जोनस से शादी कर ली। बता दें कि, निक एख हॉलीवुड स्टार और सिंगर है। इन दोनों की शादी हिंदू रीति-रिवाज के साथ-साथ क्रिस्चन तरीके से भी हुई थी। प्रियंका और निक ने  दिसंबर 2018 में जोधपुर के उम्‍मैद भवन में शादी की थी। 

Priyanka Chopra and Nick Jonas just had another beautiful wedding reception

सोहा अली खान और कुणाल खेमू 
बॉलीवुड एक्ट्रेस और सैफ अली खान की बहन सोहा अली खान ने भी अपने से कम उम्र के एक्टर से शादी की है। सोहा ने साल 2015 में एक्टर कुणाल खेमू से शादी की थी। बता दें कि, कुणाल खेमू....सोहा अली खान से 5 साल के छोटे है। दोनों शादी के बाद एक खुशहाल जिंदगी बिता रहे है। इनकी एक प्यारी सी बेटी भी हैं, जिसका नाम इनाया नौमी खेमू है।

Soha Ali Khan And Kunal Kemmu Celebrate Fifth Anniversary Shares Adorable Wedding Video - Soha and Kunal Wedding Video: सोहा और कुणाल ने शेयर किया मेहंदी से शादी तक का सफर अपने

कमेंट करें
bhmud
NEXT STORY

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

डिजिटल डेस्क, भोपाल। 21वीं सदी में भारत की राजनीति में तेजी से बदल रही हैं। देश की राजनीति में युवाओं की बढ़ती रूचि और अपनी मौलिक प्रतिभा से कई आमूलचूल परिवर्तन देखने को मिल रहे हैं। बदलते और सशक्त होते भारत के लिए यह राजनीतिक बदलाव बेहद महत्वपूर्ण साबित होगा ऐसी उम्मीद हैं।

अलबत्ता हमारी खबरों की दुनिया लगातार कई चहरों से निरंतर संवाद करती हैं। जो सियासत में तरह तरह से काम करते हैं। उनको सार्वजनिक जीवन में हमेशा कसौटी पर कसने की कोशिश में मीडिया रहती हैं।

आज हम बात करने वाले हैं मध्यप्रदेश युवा कांग्रेस (सोशल मीडिया) प्रभारी व राष्ट्रीय समन्वयक, भारतीय युवा कांग्रेस अभय तिवारी से जो अपने गृह राज्य छत्तीसगढ़ से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखते हैं और छत्तीसगढ़ को बेहतर बनाने के प्रयास के लिए लामबंद हैं।

जैसे क्रिकेट की दुनिया में जो खिलाड़ी बॉलिंग फील्डिंग और बल्लेबाजी में बेहतर होता हैं। उसे ऑलराउंडर कहते हैं अभय तिवारी भी युवा तुर्क होने के साथ साथ अपने संगठन व राजनीती  के ऑल राउंडर हैं। अब आप यूं समझिए कि अभय तिवारी देश और प्रदेश के हर उस मुद्दे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगातार अपना योगदान देते हैं। जिससे प्रदेश और देश में सकारात्मक बदलाव और विकास हो सके।

छत्तीसगढ़ में नक्सल समस्या बहुत पुरानी है. लाल आतंक को खत्म करने के लिए लगातार कोशिशें की जा रही है. बावजूद इसके नक्सल समस्या बरकरार है।  यह भी देखने आया की पूर्व की सरकार की कोशिशों से नक्सलवाद नहीं ख़त्म हुआ परन्तु कांग्रेस पार्टी की भूपेश सरकार के कदम का समर्थन करते हुए भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर अभय तिवारी ने विश्वास जताया है कि कांग्रेस पार्टी की सरकार एक संवेदनशील सरकार है जो लड़ाई में नहीं विश्वास जीतने में भरोसा करती है।  श्री तिवारी ने आगे कहा कि जितने हमारे फोर्स हैं, उसके 10 प्रतिशत से भी कम नक्सली हैं. उनसे लड़ लेना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन विश्वास जीतना बहुत कठिन है. हम लोगों ने 2 साल में बहुत विश्वास जीता है और मुख्यमंत्री के दावों पर विश्वास जताया है कि नक्सलवाद को यही सरकार खत्म कर सकती है।  

बरहाल अभय तिवारी छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री बघेल के नक्सलवाद के खात्मे और छत्तीसगढ़ के विकास के संबंध में चलाई जा रही योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए निरंतर काम कर रहे हैं. ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने यह कई बार कहा है कि अगर हथियार छोड़ते हैं नक्सली तो किसी भी मंच पर बातचीत के लिए तैयार है सरकार। वहीं अभय तिवारी  सर्कार के समर्थन में कहा कि नक्सली भारत के संविधान पर विश्वास करें और हथियार छोड़कर संवैधानिक तरीके से बात करें।  कांग्रेस सरकार संवेदनशीलता का परिचय देते हुए हर संभव नक्सलियों को सामाजिक  देने का प्रयास करेगी।  

बीते 6 महीने से ज्यादा लंबे चल रहे किसान आंदोलन में भी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से अभय तिवारी की खासी महत्वपूर्ण भूमिका हैं। युवा कांग्रेस के बैनर तले वे लगातार किसानों की मदद के लिए लगे हुए हैं। वहीं मौजूदा वक्त में कोरोना की दूसरी लहर के बाद बिगड़ी स्थितियों में मरीजों को ऑक्सीजन और जरूरी दवाऐं निशुल्क उपलब्ध करवाने से लेकर जरूरतमंद लोगों को राशन की व्यवस्था करना। राजनीति से इतर बेहद जरूरी और मानव जीवन की रक्षा के लिए प्रयासरत हैं।

बहरहाल उम्मीद है कि देश जल्दी करोना से मुक्त होगा और छत्तीसगढ़ जैसा राज्य नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ देगा। देश के बाकी संपन्न और विकासशील राज्यों की सूची में जल्द शामिल होगा। लेकिन ऐसा तभी संभव होगा जब अभय तिवारी जैसे युवा और विजनरी नेता निरंतर रणनीति के साथ काम करेंगे तो जल्द ही छत्तीसगढ़ भी देश के संपन्न राज्यों की सूची में शामिल होगा।