comScore

BOLLYWOOD: रणबीर संग ब्रेकअप पर आलिया ने तोड़ी चुप्पी, सांवरिया को बताया All time favourite

BOLLYWOOD: रणबीर संग ब्रेकअप पर आलिया ने तोड़ी चुप्पी, सांवरिया को बताया All time favourite

डिजिटल डेस्क, मुंबई। बॉलीवुड की मोस्ट चार्मिंग कपल रणबीर कपूर और आलिया भट्ट के बीच ब्रेकअप की अफवाहों से बाजार गर्म होने लगा था। कई लोग उनके बीच ब्रेकअप होने का दावा कर रहे थे, लेकिन अब आलिया ने कुछ फोटो शेयर करते हुए इन अफवाहों को नकार दिया है। साथ ही उन्होंने रणबीर के लिए अपना प्यार जाहिर करते हुए उन्हें ऑल टाइम फेवरेट बताया है।

आलिया ने शेयर की फोटो
आलिया भट्ट पिछले काफी समय से रणबीर कपूर के साथ अपने रिलेशन को लेकर सुर्खियों में हैं। डेटिंग के बाद पिछले दिनों अचानक दोनों के ब्रेकअप की खबरें आईं, जिससे दोनों के फैंस काफी हैरान परेशान हो गए। अब रणबीर कपूर के साथ अपने ब्रेकअप की खबरों पर खुद आलिया ने चुप्पी तोड़ी है। आलिया ने सोशल मीडिया के माध्यम से अपने फैंस को इसकी जानकारी दी। उन्होंने अपनी एक फोटो शेयर की है, जिसमें वह बालकनी पर खड़ी होकर सूर्यास्त होते देख रहीं हैं, लेकिन इस फोटो से ज्यादा उनके कैप्शन ने लोगों का ध्यान ज्यादा आकर्षित किया।

एक्ट्रेस आलिया ने अपने कैप्शन में लिखा- "स्टे होम एंड..वाच सनसेट' उन्होंने इस फोटो का श्रेय रणबीर कपूर को दिया है साथ ही आलिया ने रणबीर को 'आल टाइम फेवरेट' बताया है"। आलिया की तस्वीर से साफ जाहिर है कि उनकी ये तस्वीर रणबीर कपूर ने क्लिक है। और दोनों साथ में गुड टाइम स्पेंड कर रहे हैं। 

CORONA VIRUS: आइसोलेशन में मलाइका का दिखा कुकिंग टैलेंट, टेस्टी खाना पकाते हुए वीडियो हुआ वायरल

वहीं इस फोटो पर आलिया की बहन शाहीन भट्ट ने टिप्पणी की है। शाहीन ने लिखा- "तो वह केवल हम सब की खराब तस्वीरें लेता है।" साथ ही रणबीर की मम्मी नीतू कपूर ने तस्वीर पर एक दिल का इमोजी पोस्ट किया। बता दें कि दोनों के परिवार जल्द इनकी शादी प्लान कर रहे हैं। हालांकि रणबीर कपूर या आलिया भट्ट ने इसे लेकर अभी तक कोई भी ऑफिशियल रिएक्शन नहीं दिया है और ना ही कोई अनाउंसमेंट किया है।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

best boys (& good girl)

A post shared by Alia (@aliaabhatt) on

वर्कफ्रंट
वर्क फ्रंट की बात की जाए तो आलिया और रणबीर अपनी आने वाली फिल्म 'ब्रह्मास्त्र' में बिजी हैं। ये पहली बार है जब दोनों साथ में सिल्वर स्क्रीन पर  नजर आएंगे। इस फिल्म का निर्देशन अयान मुखर्जी कर रहे हैं।

कमेंट करें
QHUVI
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।