comScore

Suicide: बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने खुदकुशी की, पिछले छह महीनों से डिप्रेशन से गुजर रहे थे

Suicide: बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने खुदकुशी की, पिछले छह महीनों से डिप्रेशन से गुजर रहे थे

डिजिटल डेस्क, मुंबई। बॉलीवुड के फेमस और टैलेंटेड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने सुसाइड कर लिया है। मुंबई के बांद्रा स्थित घर में सुशांत ने फांसी लगाकर अपनी जान दी। सुंशांत सिंह के सुसाइड की वजह अभी साफ नहीं है। हालांकि, ऐसा बताया जा रहा है कि 34 साल के सुशांत पिछले 6 महीने से डिप्रेशन में थे। पुलिस मामले की जांच कर रही है।सुशांत सिंह राजपूत के शव को पोस्टमार्टम के लिए कपूर अस्पताल ले जाया गया है। जानकारी के मुताबिक सुशांत के कुछ दोस्त भी उनके घर पर थे। दोपहर करीब पौने एक बजे उनके कमरे के दरवाजे को खोला गया तो रूम में सुशांत फांसी के फंदे से लटके पाए गए।

Sushant Singh Rajput’s mortal remains taken in an ambulance.

सुशांत सिंह राजपूत ने एम एस धोनी की बायोपिक ‘एम एस धोनी द अनटोल्ड स्टोरी’ में भारतीय क्रिकेट के पूर्व कप्तान क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी का किरदार निभाया था। ये सुशांत के करियर की पहली फिल्म थी जिसने सौ करोड़ का कलेक्शन किया था। इसके अलावा उन्होंने कई मशहूर फिल्मों में अभिनय किया है। हाल ही में रिलीज हुई फिल्म ‘छिछोरे’ में उनकी एक्टिंग को दर्शकों ने काफी सराहा था।

इससे पहले सुशांत सिंह राजपूत की मैनेजर रह चुकीं दिशा सालियान ने सोमवार रात मुंबई की एक बहुमंजिला इमारत से कूदकर जान दे दी थी। घटना के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। सुशांत सिंह राजपूत ने इंस्टा स्टोरी पर दिशा को श्रद्धांजलि दी थी।

किसने क्या कहा?
-सुशांत की मौत पूरा देश स्तब्ध है। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, सुशांत सिंह राजपूत ... एक उज्ज्वल युवा अभिनेता बहुत जल्द चला गया। उन्होंने टीवी और फिल्मों में बेहतरीन काम किया। मनोरंजन की दुनिया में उनके उदय ने कई लोगों को प्रेरित किया और वह कई यादगार प्रदर्शनों को पीछे छोड़ गए। उनके निधन से स्तब्ध। ओम शांति।

-महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट करके कहा है कि युवा और प्रतिभाशाली अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बारे में सुनकर हैरान और दुखी हूं.उनके परिवार और दोस्तों को मेरी संवेदनाएं. उनकी आत्मा को शांति मिले.

-पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने लिखा कि जीवन नाजुक है और हम नहीं जानते कि कोई क्या कर रहा है. दयालु रहें. सुशांतसिंह राजपूत. ओम शांति.

-‘एम एस धोनी द अनटोल्ड स्टोरी’ में धोनी के पिता का किरदार निभाने वाले बॉलीवुड एक्टर अनुपम खेर ने कहा, 'मेरे प्यारे सुशांत सिंह राजपूत....आख़िर क्यों?....क्यों?' Broken heart

-बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार ने कहा, 'ईमानदारी से इस खबर ने मुझे शॉक और स्पीचलेस कर दिया है ... मुझे याद है जब मैं छिछोरे में सुशांत सिंह राजपूत को देख रहा था और अपने दोस्त साजिद जो इस फिल्म के निर्माता है को बताया था कि वह इस फिल्म का हिस्सा बनना चाहते थे। ऐसा प्रतिभाशाली अभिनेता भगवान उनके परिवार को शक्ति दे।

-भारतीय क्रिकेट टीम के बल्लेबाज शिखर धवन ने कहा, 'इतना चौंकाने वाला और इस पर विश्वास करने में असमर्थ .. सुशांत सिंह के परिवार के प्रति संवेदनाएं। RIP.

-केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा, मेरे पास कोई शब्द नहीं है, इस बात की कोई समझ नहीं है कि आप इस तरह क्यों चले गए। एक यंग ब्राइट किड जो बालाजी के पास आए थे से लेकर एक स्टार तक.. आपने एक लंबा रास्ता तय किया था और कई और मील की दूरी तय की थी। आपको याद किया जाएगा सुशांतसिंह राजपूत बहुत जल्द चले गए..

बिहार के पटना में हुआ था सुशांत का जन्म
सुशांत का जन्म 21 जनवरी, 1986 को बिहार के पटना में हुआ था। 2000 के शुरुआत में उनका परिवार दिल्ली में बस गया था। सुशांत की 4 बहनें हैं। उनमें से एक मीतू राज्य स्तर की क्रिकेट खिलाड़ी हैं। सुशांत सिंह पढ़ाई में बहुत अच्छे थे। उन्होंने AIEEE एग्जाम में भारत में 7वां रैंक हासिल की थी। एक्टिंग से बेहद लगाव होने की वजह से सुशांत ने मैकेनिकल इंजीनियरिंग के फॉर्थ ईयर में ही पढ़ाई छोड़ दी थी। सुशांत कारों के शौकीन थे। उनके पास रेंज रोवर एसयूवी, BMW K 1300 R motorcycle और Maserati थी।

फेमस टीवी सीरियल 'पवित्र रिश्ता' से मिली पहचान
सुशांत सिंह ने अपने एक्टिंग करियर की शुरूआत 'किस देश में है मेरा दिल' नाम के धारावाहिक से की थी पर उन्हें पहचान साल 2009 में जी टीवी पर आने वाले फेमस टीवी सीरियल 'पवित्र रिश्ता' से मिली। सुशांत ने साल 2013 में बॉलीवुड में अभिषेक कपूर की फिल्म 'काइ पो चे' से अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की थी। उन्होंने अभी तक 'शुद्ध देसी रोमांस', 'डिटेक्टिव ब्योमकेश बक्शी', 'एमएस धोनी: द अनटोल्ड स्टोरी', 'राब्ता' और केदारनाथ जैसी फिल्में की है।

सुशांत अपने शुरुआती दिनों में शामक दावर के एकेडमी में डांस भी सीखते थे। पवित्र रिश्ता में अर्चना का किरदार निभाने वाली अकिंता लोखड़े से सुशांत का काफी दिनों तक अफेयर चला, लेकिन बाद में ये अलग भी हो गए। फिल्म 'राब्ता' की शूटिंग के दौरान उनका और कृति सैनन का अफेयर शुरू हुआ था। दोनों को कई बार साथ देखा गया, लेकिन खबरों के मुताबिक, दोनों अब साथ नहीं हैं।

सुशांत की फिल्म 'एमएस धोनी: द अनटोल्ड स्टोरी', ने बॉक्स ऑफिस पर काफी धूम मचाई थी, इसमें इन्होंने क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी की रियल लाइफ पर आधारिक बायोपिक की थी। जल्द ही सुशांत फिल्म सोन चिड़िया में डकैत के रोल में नजर आने वाले हैं। फिल्म 8 फरवरी को रिलीज होगी। जिसका ट्रेलर भी आ चुका है। इनकी सफलता के चलते इन्हें 12 फिल्में ऑफर हुई हैं। इसके बारे में खुद सुशांत ने खुलासा किया था।  

कमेंट करें
keF4t
कमेंट पढ़े
Gagan sharma June 14th, 2020 15:01 IST

so bad news sushant ki. movie sonachiadiya aa chuki hai

NEXT STORY

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

डिजिटल डेस्क, भोपाल। 21वीं सदी में भारत की राजनीति में तेजी से बदल रही हैं। देश की राजनीति में युवाओं की बढ़ती रूचि और अपनी मौलिक प्रतिभा से कई आमूलचूल परिवर्तन देखने को मिल रहे हैं। बदलते और सशक्त होते भारत के लिए यह राजनीतिक बदलाव बेहद महत्वपूर्ण साबित होगा ऐसी उम्मीद हैं।

अलबत्ता हमारी खबरों की दुनिया लगातार कई चहरों से निरंतर संवाद करती हैं। जो सियासत में तरह तरह से काम करते हैं। उनको सार्वजनिक जीवन में हमेशा कसौटी पर कसने की कोशिश में मीडिया रहती हैं।

आज हम बात करने वाले हैं मध्यप्रदेश युवा कांग्रेस (सोशल मीडिया) प्रभारी व राष्ट्रीय समन्वयक, भारतीय युवा कांग्रेस अभय तिवारी से जो अपने गृह राज्य छत्तीसगढ़ से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखते हैं और छत्तीसगढ़ को बेहतर बनाने के प्रयास के लिए लामबंद हैं।

जैसे क्रिकेट की दुनिया में जो खिलाड़ी बॉलिंग फील्डिंग और बल्लेबाजी में बेहतर होता हैं। उसे ऑलराउंडर कहते हैं अभय तिवारी भी युवा तुर्क होने के साथ साथ अपने संगठन व राजनीती  के ऑल राउंडर हैं। अब आप यूं समझिए कि अभय तिवारी देश और प्रदेश के हर उस मुद्दे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगातार अपना योगदान देते हैं। जिससे प्रदेश और देश में सकारात्मक बदलाव और विकास हो सके।

छत्तीसगढ़ में नक्सल समस्या बहुत पुरानी है. लाल आतंक को खत्म करने के लिए लगातार कोशिशें की जा रही है. बावजूद इसके नक्सल समस्या बरकरार है।  यह भी देखने आया की पूर्व की सरकार की कोशिशों से नक्सलवाद नहीं ख़त्म हुआ परन्तु कांग्रेस पार्टी की भूपेश सरकार के कदम का समर्थन करते हुए भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर अभय तिवारी ने विश्वास जताया है कि कांग्रेस पार्टी की सरकार एक संवेदनशील सरकार है जो लड़ाई में नहीं विश्वास जीतने में भरोसा करती है।  श्री तिवारी ने आगे कहा कि जितने हमारे फोर्स हैं, उसके 10 प्रतिशत से भी कम नक्सली हैं. उनसे लड़ लेना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन विश्वास जीतना बहुत कठिन है. हम लोगों ने 2 साल में बहुत विश्वास जीता है और मुख्यमंत्री के दावों पर विश्वास जताया है कि नक्सलवाद को यही सरकार खत्म कर सकती है।  

बरहाल अभय तिवारी छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री बघेल के नक्सलवाद के खात्मे और छत्तीसगढ़ के विकास के संबंध में चलाई जा रही योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए निरंतर काम कर रहे हैं. ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने यह कई बार कहा है कि अगर हथियार छोड़ते हैं नक्सली तो किसी भी मंच पर बातचीत के लिए तैयार है सरकार। वहीं अभय तिवारी  सर्कार के समर्थन में कहा कि नक्सली भारत के संविधान पर विश्वास करें और हथियार छोड़कर संवैधानिक तरीके से बात करें।  कांग्रेस सरकार संवेदनशीलता का परिचय देते हुए हर संभव नक्सलियों को सामाजिक  देने का प्रयास करेगी।  

बीते 6 महीने से ज्यादा लंबे चल रहे किसान आंदोलन में भी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से अभय तिवारी की खासी महत्वपूर्ण भूमिका हैं। युवा कांग्रेस के बैनर तले वे लगातार किसानों की मदद के लिए लगे हुए हैं। वहीं मौजूदा वक्त में कोरोना की दूसरी लहर के बाद बिगड़ी स्थितियों में मरीजों को ऑक्सीजन और जरूरी दवाऐं निशुल्क उपलब्ध करवाने से लेकर जरूरतमंद लोगों को राशन की व्यवस्था करना। राजनीति से इतर बेहद जरूरी और मानव जीवन की रक्षा के लिए प्रयासरत हैं।

बहरहाल उम्मीद है कि देश जल्दी करोना से मुक्त होगा और छत्तीसगढ़ जैसा राज्य नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ देगा। देश के बाकी संपन्न और विकासशील राज्यों की सूची में जल्द शामिल होगा। लेकिन ऐसा तभी संभव होगा जब अभय तिवारी जैसे युवा और विजनरी नेता निरंतर रणनीति के साथ काम करेंगे तो जल्द ही छत्तीसगढ़ भी देश के संपन्न राज्यों की सूची में शामिल होगा।