दैनिक भास्कर हिंदी: 10 वीं भूगोल परीक्षा के बारे में चार दिनों में होगा फैसला - वर्षा गायकवाड

April 10th, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। कोरोना वायरस के संकट के कारण स्थगित की गई महाराष्ट्र बोर्ड के कक्षा 10 वीं के भूगोल की परीक्षा के बारे में 4 दिन में सकारात्मक फैसला लिया जाएगा। प्रदेश की स्कूली शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड ने यह आश्वासन दिया है। गुरुवार को भाजपा विधायक व पूर्व वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने फोन पर गायकवाड से भूगोल की परीक्षा को रद्द कर विद्यार्थियों को औसत नंबर देने की मांग की। मुनगंटीवार ने कहा कि कोरोना संकट के कारण 21 मार्च को कक्षा 10 वीं की भूगोल की परीक्षा नहीं हो पाई थी।

मुनगंटीवार को शिक्षामंत्री का आश्वासन

कोरोना के बढ़ते प्रभाव के कारण अब यह परीक्षा लेने की संभावना नहीं है। इसलिए भूगोल की परीक्षा रद्द करके विद्यार्थियों को औसत नंबर दिया जाए। इस पर गायकवाड ने कहा कि इस संबंध में सकारात्मक कार्यवाही कर 4 दिनों में फैसला लिया जाएगा।

10वीं भूगोल का पेपर न लें, बेस्ट ऑफ 5 के आधार पर अंक दें

उधर नागपुर से शिक्षक भारती ने शिक्षा मंत्री को पत्र लिखा, जिसमें 23 मार्च का 10वीं का जियोग्राफी का पेपर अब न लेते हुए बेस्ट ऑफ 5 या फिर एवरेज अंकों के आधार पर परीक्षा परिणाम घोषित करने की मांग शिक्षक भारती संगठन ने की है। विभागीय कार्यवाहक सपन नेहरोत्रा ने शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ को पत्र लिखकर यह मांग की है। संगठन के अनुसार 10वीं की अंक सूची 600 अंकों की जगह 550 अंकों की बनाई जाए। अंक सूची बेस्ट ऑफ 5 के आधार पर बने या फिर जियोग्राफी के पेपर के लिए विद्यार्थियों को एवरेज अंक प्रदान किए जाएं, इससे विद्यार्थियों का शैक्षणिक नुकसान नहीं होगा। बता दें कि, लॉकडाऊन के पूर्व जियोग्राफी को छोड़कर 10वीं के सभी पेपर हो गए थे। बस एक जियोग्राफी के पेपर के कारण विद्यार्थी लटक गए हैं। इस एक पेपर के कारण विद्यार्थियों और पालकों का तनाव कायम है। ऐसे में कोई समाधान निकालकर विद्यार्थियों को टेंशन फ्री करने की मांग भी पालक और शिक्षक वर्ग की ओर से की जा रही है। संगठन के अशोक बेलसरे, जालिंदर सरोदे, सुभाष मोरे ने इस मांग का समर्थन किया है।