दैनिक भास्कर हिंदी: मुंबई-नागपुर सहित 150 ठिकानों पर छापा, सीबीआई ने बताया औचक निरीक्षण 

August 30th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। भ्रष्टाचार के खिलाफ विशेष अभियान के तहत केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने मुंबई, नागपुर समेत देशभर से 150 ठिकानों पर अचानक छानबीन की। यह छानबीन रेलवे, कोयला खदान, मेडिकल संस्थानों, फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया, जीएसटी, बिजली, ट्रांसपोर्ट विभागों, सरकारी बैंक, वित्तीय संस्थाओं आदि में की गई जहां छोटे व्यापारी और आम लोग अक्सर भ्रष्टाचार की शिकायत करते हैं। सीबीआई ने इसे औचक निरीक्षण बताया है। सीबीआई ने संबंधित विभागों के विजिलेंस अधिकारियों के साथ मिलकर यह छापेमारी की। सीबीआई के एक अधिकारी ने बताया कि दिल्ली, जयपुर, जोधपुर, गुवाहाटी, श्रीनगर, शिलांग, चंडीगढ, शिमला, चेन्नई, मदुरई, कोलकाता, भुवनेश्वर, हैदराबाद, बेंगलुरू, मुंबई, गांधीनगर, भोपाल, रायपुर, पुणे, गांधीनगर, गोवा, भोपाल, जबलपुर, नागपुर, पटना, रांची, गाजियाबाद, देहरादून, लखनऊ, विशाखापट्टनम, गुंटूर, विजयवाडा, कोच्चीन, कोलम, कटनी, बीना, वडोदरा, हिम्मतनगर, करीमनगर, धनबाद, कसौली, समस्तीपुर, दानापुर, मोकामा, सिकंदराबाद में सीबीआई की टीमों ने औचक निरीक्षण किया। अधिकारी के मुताबिक इस तरह की जांच से भ्रष्टाचार के संभावित ठिकानों पर सरकारी अधिकारियों और आम लोगों को ज्यादा संवेदनशील किया जा सकेगा। 

 

नागपुर में सीबीआई के छापे -रेलवे विभाग रहा निशाने पर

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने भ्रष्टाचार की जांच करने के लिए चलाए अभियान के तहत दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे नागपुर के तहत आनेवाले नैनपुर व छिंदवाडा-नागपुर टेंडर घोटाले की जांच शुरू कर दी है। सीबीआई ने टेंडर से संंबंधित दस्तावेजों की जांच पड़ताल की। सीबीआई दिल्ली की अगुवाई में हो रही छापामार कार्रवाई में सीबीआई नागपुर के अधिकारी भी शामिल है। सीबीआई ने शुक्रवार को नागपुर समेत से देश भर में 150 स्थानों पर छापे मारे। छापे ऐसे विभागों में मारे गए जहां आम आदमी भ्रष्टाचार से परेशान होता है। नागपुर में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे का मंडल कार्यालय है। नैनपुर व नागपुर-छिंदवाडा से संबंधित बिजली टेंडर के दो मामलों में यह कार्रवाई हुई है। टेंडर में घोटाला होने का आरोप है। दिल्ली की टीम के साथ सीबीआई नागपुर के अधिकारी भी जांच में सहयोग कर रहे है। दस्तावेजों की छानबीन व टेंडर से संबंधित जानकारी जुटाने का काम देर रात तक जारी था।