comScore

कोरोना संक्रमण से लड़ने केन्द्र ने महाराष्ट्र को दिए 1611 करोड़ रुपए, शिवसेना ने कहा- नहीं मिल रही मदद

कोरोना संक्रमण से लड़ने केन्द्र ने महाराष्ट्र को दिए 1611 करोड़ रुपए, शिवसेना ने कहा- नहीं मिल रही मदद

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। केन्द्र सरकार की ओर से राज्यों को कोरोना वायरस बीमारी से लड़ने के लिए 11565 करोड़ रुपये जारी किए गए है। कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा संक्रमित महाराष्ट्र को इसमें से सहायता के तौर पर 1611 करोड़ रुपए मिले है। महाराष्ट्र सहित राज्यों को केन्द्र ने राज्य आपदा प्रबंधन कोष (एसडीआरएफ) में वित्त वर्ष 2020-21 के लिए अपने हिस्से की यह राशि जारी की है।दरअसल, लोकसभा सदस्य कृपाल तुमाने और ओम राजे निंबालकर ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए राज्यों को दी गई वित्तीय सहायता के बारे में जानना चाहा था। केन्द्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने लोकसभा में एक सवाल के जवाब में यह जानकारी दी।सदस्यों ने यह भी पूछा था कि क्या संक्रमण के बढते मामलों के मद्देनजर केन्द्र सरकार राज्य को अधिक सहायता देने पर विचार कर रही है? लिखित जवाब में राज्यमंत्री ने बताया कि कोविड़-19 से लड़ने के लिए अतिरिक्त संसाधन प्रदान करने तथा मौजूदा सकल घरेलू उत्पाद के 3 प्रतिशत की राजकोष उत्तरदायित्व और बजट प्रबंधन अधिनियम सीमा में छूट देने के अनुरोध पर विचार करते हुए राज्यों को वित्त वर्ष 2020-21 के लिए सकल घरेलू उत्पाद के 2 प्रतिशत तक अतिरिक्त ऋण सीमा की अनुमति दी गई है। मंत्री ने बताया कि इसके अतिरिक्त चालू वित्त वर्ष के दौरान राज्यों को जारी सकल घरेलू उत्पाद के 0.50 प्रतिशत की अतिरिक्त ऋण सीमा सहमति दी गई। 106830 करोड़ रुपए राशि में महाराष्ट्र के लिए 15394 करोड़ रुपए की सहमित शामिल है।

कोरोना संकट में भी केन्द्र से महाराष्ट्र को नहीं मिल रही पर्याप्त मदद-सांसद बारणे

उधर शिवसेना सांसद श्रीरंग बारणे ने लोकसभा में कोरोना संकट के दौरान केन्द्र से राज्यों को दी गई वित्तीय सहायता का मुद्दा उठाया। उन्होंने इस मुद्दे को उठाते हुए कहा कि महाराष्ट्र में कोरोना के सबसे ज्यादा मरीज है और राज्य सरकार इसका डटकर इसका सामना कर रही है, लेकिन केन्द्र से कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए राज्य सरकार को पर्याप्त वित्तीय सहायता नहीं दी जा रही हैं। संसद सदस्य ने सदन का इस मुद्दे की ओर भी ध्यान आक र्षित किया कि केन्द्र सरकार की ओर से जीएसटी की जितनी रकम महाराष्ट्र को देनी चाहिए थी, वह राशि भी अब तक नहीं मिली है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र टैक्स के रुप में केन्द्र को सबसे ज्यादा भुगतान करती है। आज केन्द्र सरकार से जितनी मांग महाराष्ट्र सरकार कर रहीं है, उतनी मांग पूरी नहीं हो पाई है। बारणे ने केन्द्र सरकार से अनुरोध किया कि वह कोरोना बीमारी का सामना करने के लिए राज्य को ज्यादा से ज्यादा वित्तीय सहायता मुहैया कराए। साथ ही मांग की कि राज्य के हिस्से की जीएसटी की पूरी राशि केन्द्र शीघ्र जारी करें। 

कमेंट करें
tCx4R