comScore

कोर्ट से सील फ्लैट सस्ते में दिलाने के नाम पर 20 लाख का चूना

कोर्ट से सील फ्लैट सस्ते में दिलाने के नाम पर 20 लाख का चूना

डिजिटल डेस्क, मुंबई। न्यायालय के आदेश से सील किए गए फ्लैट कम दामों में दिलाने के नाम पर एक शख्स को ठग ने 20 लाख रुपए का चूना लगा दिया। मामला मुंबई के लोअर परेल इलाके का है। ठगी के आरोप में एफआईआर दर्ज कर पुलिस ने छानबीन शुरू कर दी है। ठगी के शिकार हुए 36 वर्षीय दीपक पुजारी न्यूप्रभादेवी रोड इलाके में किराए के घर में रहते हैं। वे अपने लिए मुंबई में खुद का सस्ता घर खोज रहे थे। इसी बीच पुजारी के एक दोस्त ने बताया कि उसे वरली इलाके में रहने वाले शशिकांत राऊल ने सस्ता घर दिलाने में मदद की थी। उसने बताया कि राऊल कोर्ट के आदेश पर सीलबंद किए गए घरों को कम कीमत में दिला सकता है।

पुजारी ने अपने दोस्त की मदद से राऊल के साथ संपर्क किया। राऊल ने पुजारी को झूठी जानकारी दी कि वह बांबे हाईकोर्ट में काम करता है और कालाचौकी इलाके में एक सस्ता फ्लैट है जिसे कोर्ट ने सील किया हुआ है। राऊल ने पुजारी को बताया कि 1बीएचके फ्लैट सिर्फ 36 लाख रुपए में मिल जाएगा। पुजारी ने इतने सस्ते में फ्लैट मिलते देख सौदा तय कर लिया और तीन किस्तों में पैसे चुकाने की बात कही। इसी बीच राऊल ने फ्लैट किसी और के हाथ लगने का झांसा देकर जल्द से जल्द पैसे देने के लिए पुजारी पर दबाव बनाना शुरू किया। यही नहीं राऊल ने एक अखबार में विज्ञापन भी छपवाया जिसमें लिखा था कि कोर्ट द्वारा सील किया गया फ्लैट पुजारी ने खरीद लिया है।

धीरे-धीरे राऊल ने पुजारी से 20 लाख रुपए ले लिए। इसके बाद पुजारी ने घर के कागजात की मांग की तो राऊल ने टालमटोल शुरू कर दी। पुजारी ने दबाव बनाना शुरू किया तो राऊल ने धमकाया कि उसे न तो फ्लैट मिलेगा और न ही पैसे मिलेंगे। इसके अलावा पुलिस से शिकायत करने पर उसके बच्चों को अगवा कर लिया जाएगा। लेकिन पुजारी ने मामले में राऊल समेत तीन लोगों के खिलाफ एनएमजोशी मार्ग पुलिस स्टेशन में ठगी की शिकायत दर्ज कराई। पुलिस मामले की छानबीन में जुटी हुई है।  

कमेंट करें
urs0m