comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

गहलोत और पायलट सहित राजस्थान के 28 कांग्रेसी संभालेंगे महाराष्ट्र में चुनावी मोर्चा

गहलोत और पायलट सहित राजस्थान के 28 कांग्रेसी संभालेंगे महाराष्ट्र में चुनावी मोर्चा

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। महाराष्ट्र में कांग्रेस के पक्ष में चुनावी हवा बनाने के लिए राजस्थान के दो दर्जन से ज्यादा कांग्रेसी नेताओं की ड्यूटी लगाई गई है। प्रदेश में कांग्रेस उम्मीदवारों के पक्ष में प्रचार के लिए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट तो महाराष्ट्र पहुंचेंगे ही, साथ ही प्रदेश के 28 कांग्रेसी नेताओं को भी मुंबई की विभिन्न विधानसभा सीटों पर दायित्व संभालने के निर्देश दिए गए हैं। जानकारी के मुताबिक कांग्रेस के संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल ने पार्टी महासचिव अविनाश पांडे की सिफारिश पर राजस्थान के नेताओं को महाराष्ट्र में चुनाव की जिम्मेदारी सौंपी है। यह हालत तब है जब राजस्थान के नेताओं को पड़ोस के चुनावी राज्य हरियाणा मंे भी ड़यूटी लगी है। कांग्रेस के सूत्र बताते हैं कि अशोक गहलोत और सचिन पायलट अगले सप्ताह महाराष्ट्र का चुनावी दौरा करेंगे। राजस्थान के कांग्रेसी नेताअेां को विशेष रूप से मुंंबई में चुनावी जिम्मेदारी दी गई है। इसका एक बड़ा कारण राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे का मुंबई क्षेत्र का चुनाव प्रभारी होना है।   

नौ विधायक व एक मंत्री को मिला मुंबई में जिम्मा  

सूत्र बताते हैं कि मुंबई की जिन 28 विधानसभा सीटों पर राजस्थान के नेताअेां को लगाया गया है उनमंे नौ विधायक और एक मंत्री भंवर सिंह भाटी का नाम शामिल है। मंत्री भाटी को गोरेगांव सीट पर पर्यवेक्षक बनाया गया है। इसी प्रकार विधायक मनोज रावत को दहीसर, विधायक सुरेश मोदी को भांडुप पश्चिम, विधायक जगदीश जांगिड़ को चारकोप, विधायक अमित चाचाण को मलाड, विधायक महेन्द्रजीत मालवीय को अंधेरी पश्चिम, विधायक वेदप्रकाश सोलंकी को अंधेरी पूर्व, रामलाल जाट को घाटकोपर, गोपाल मीणा को बेन्द्रे ईस्ट, मुरारीलाल मीणा को सियो कोलीवाड़ा, भरत मेघवाल को बोरीवली, रफीक मंडेलिया को मुलुंड, रतन देवासी को जोगेश्वरी पूर्व, रामपाल शर्मा को कांदिवली पूर्व, के बुधवाली को वर्सोवा, नीरज डांगी को विलेपार्ले, पंकज मेहता को चांदिवली, के के हरितवाल को घाटकोपर पूर्व, कान सिंह राठौड़ को चेंबूर, भगवान सहाय को बेन्द्रे वेस्ट, मनीष यादव को धारावी, अरूण कुमावत को वडाला, केवल गुलेच्छा को माहिम, विचार व्यास को शिवड़ी, रूपेश कांत को बायकुल्ला, विजय गर्ग को मालाबार हिल और पंकज शर्मा को मुंबादेवी विधानसभा सीट का दायित्व सौंपा गया है।

कमेंट करें
ARDlG
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।