comScore

प्रेम संबंधों के चलते 40 युवाओं ने मौत को चुना, 2 वर्ष में सामने आए चौंकाने वाले आंकड़े

प्रेम संबंधों के चलते 40 युवाओं ने मौत को चुना, 2 वर्ष में सामने आए चौंकाने वाले आंकड़े

डिजिटल डेस्क, नागपुर। दो वर्ष में प्रेम संबंधों के चलते 40 युवाओं ने अपनी जान गंवाई। इसकी वजह अपने साथी के साथ मामूली बातों को लेकर टकराव बना, लेकिन इससे उनके माता-पिता व अन्य परिजनों को कभी न भरने वाला जख्म मिला। यह घटनाएं शहर के विविध थानों में दर्ज हैं। जांच पड़ताल के दौरान प्रेम संबंधों में आई दरार से फांसी लगाकर आत्महत्या करने का खुलासा हुआ है। प्राप्त सरकारी आंकड़ों के अनुसार 1 जनवरी से 31 दिसंबर 2017 में 17 और 1 जनवरी से 31 दिसंबर 2018 में 23 युवाओं ने फांसी लगाकर जान दे दी। उनकी आयु 14 वर्ष से 32 वर्ष के लगभग बताई जा रही है। यह सभी प्रकरण शहर भर के थानों में दर्ज हैं। जांच पड़ताल के दौरान खुलासा हुआ है कि उन्होंने प्रेम संबंधों में असफल होने की वजह से मौत का रास्ता अपनाया। असफल होने के कई कारण रहे हैं। कुछ युवा समाज और परिवार की इज्जत के खातिर बलि चढ़े, तो कुछ के आड़े उनके अपने ही आ गए। 

दब जाते हैं कई मामले
विभाग के सूत्रों ने बताया कि स्थिति इससे भी भयानक है। उपरोक्त मामले पुलिस की जांच पड़ताल में खुलासा होने से सामने आए हैं, जबकि कई ऐसे मामले भी हैं जो बदनामी के कारण दबा दिए जाते हैं। घटना की मुख्य वजह परिजन पुलिस तक पहुंचने ही नहीं देते हैं। प्रेम प्रकरण में मौत होने के बाद भी पुलिस को कभी मानसिक तनाव तो कभी पढ़ाई का कारण बताया जाता है। वरना स्थिति इससे भी भयानक होने का अदाजा उपरोक्त आंकड़ों से सहज ही लगाया जा सकता है।

"शक' भी एक गंभीर समस्या
घटित प्रकरणों के संबध में अपर आयुक्त नीलेश भरने ने बताया कि कई मामलों में विवाद होने का कारण मोबाइल फोन पाया गया है। ज्यादा समय तक मोबाइल, फेसबुक पर चेटिंग करने और किसी दूसरे मित्र से ज्यादा घुल मिलकर बातें करने से प्रेमी युगलों के मन में शक पैदा होना आम बात है, लेकिन इसको लेकर हुए विवाद से आत्महत्या करना गंभीर अपराध है। हालांकि भरोसा सेल में पारिवारिक विवाद के अलावा ऐसे मामलों में समस्या का निराकरण कर योग्य मार्गदर्शन िकया जाता है। बात आगे न बढ़े, इसलिए उनके परिजनों को भी खबर दी जाती है।

मिला कभी न भरने वाला जख्म
प्रेम प्रकरण की बलि चढ़े कई युवा परिवार का एकलौता चिराग थे। आत्मघाती कदम उठाने से युवाओं के माता-पिता को कभी न भरने वाला जख्म मिला। उनमें से कुछ मामले आनर किलिंग से भी जुड़े होने की आशंका है, हालांकि पुलिस की जांच में ऐसा कोई खुलासा नहीं हुआ, लेकिन वर्षों पहले कलमना थानांतर्गत में ऐसा वाकया हुआ था। परिजनों की ब्रेन मेपिंग करने के बाद भी छात्रा के मौत की गुत्थी नहीं सुलझी। प्रेम प्रकरण के चलते ही छात्रा को अपने घर में मृत अवस्था में पाया गया था।
 

कमेंट करें
trQ04