दैनिक भास्कर हिंदी: संतरानगरी में मिहान को 414 करोड़ रु. मंजूर , कैंसर इंस्टीट्यूट को मिली जगह

November 4th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मिहान प्रकल्प के विकास के लिए सरकार ने नए सत्र 2019-20 के िलए 164 करोड़ रुपए की मंजूरी दी है। साथ ही अतिरिक्त मांग पर 250 करोड़ रुपए ऐसे कुल 414 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है। इससे मिहान के विकास कार्यों को गति मिलेगी। वहीं रुके पड़े कई सारे कामों में तेजी आएगी।

मूल बजट में शामिल 164 करोड़ रुपए में से 98.40 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है, जबकि 43.73 करोड़ रुपए की निधि में भूसंपादन, न्यायालयीन प्रकरण में नुकसान की भरपाई के लिए उपयोग किया जाएगा। विशेष बात यह है कि इतनी बड़ी निधि मिलने से विकास कार्यों को लेकर अच्छी गति मिलने के संकेत दिखाई दे रहे हैं, साथ ही भूसंपादन को भी गति मिलने वाली है। महाराष्ट्र विमानतल विकास कंपनी (एमएडीसी) ने भूसंपादन और न्यायालय की कलम 18 और 28 के तहत देने वालों के लिए वितरण का प्रस्ताव प्रस्तुत किया था। विकास कार्य के लिए उपसंचालक, विमानन संचालनालय मुंबई को वितरण अधिकारी और संचालक विमानन संचालानलय, मुंबई को नियंत्रण अधिकारी घोषित किया गया है। 

शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेडिकल) ने कैंसर इंस्टीट्यूट को लेकर काफी खींचतान के बाद टीबी वाॅर्ड में जगह तय कर ली  है। पहले समाज कल्याण विभाग द्वारा 120 करोड़ रुपए दिए जा रहे थे और मेडिकल स्थित डेंटल हॉस्टल के सामने बनने वाला था। इसको लेकर कई निरीक्षण हो चुके थे। अब टीबी वाॅर्ड में बनने वाले कैंसर इंस्टीट्यूट को लेकर जल्द ही अधिष्ठाता की अध्यक्षता में होने वाली बैठक में अहम निर्णय िलया जाएगा।

ठंडे बस्ते में चला गया था
 नागपुर में कैंसर हॉस्पिटल के नाम को लेकर भी काफी अटकलें चल रही थीं। वहीं चिकित्सा शिक्षा एवं शोध संचालनालय (डीएमईआर) से लेकर चिकित्सा शिक्षा सचिव भी मेडिकल स्थित डेंटल हॉस्टल के सामने की जगह का दौरा कर चुके थे। वहां बड़ी संख्या में लगे पेड़ों को काटने की तैयारी हो गई थी, लेकिन समाज कल्याण विभाग द्वारा दिए जाने वाले 120 करोड़ को लेकर उनकी शर्तों के कारण मामला ठंडे बस्ते में चला गया। अब एक बार फिर कैंसर इंस्टीट्यूट बनाने की दिशा में काम हो रहा है। मेडिकल के वाॅर्ड स्थित वार्ड नंबर 37 और 38 के एरिया की जगह को उसके लिए चिह्नित किया गया है। जल्द ही अधिष्ठाता डॉ. सजल मित्रा की अध्यक्षता में एक बैठक होने वाली है, जिसमें अहम निर्णय लिए जाएंगे।

कैंसर से संबंधित होंगे सभी विभाग
टीबी वॉर्ड में बनने वाले जीएससी कैंसर इंस्टीट्यूट में लगभग सभी विभाग होंगे, जिसमें रेडिएशन से लेकर मेडिकल अंकोलॉजी, सर्जरी और पैथोलॉजी सोहित अन्य विभाग भी वहां रहेंगे। मेडिकल में रेडियोलॉजी के पास स्थित रेडियोथेरेपी एंड अंकोलॉजी विभाग को शिफ्ट किया जाएगा।
 

खबरें और भी हैं...