दैनिक भास्कर हिंदी: शिवसेना का मास्टर स्ट्रोक, मनसे के 6 नगरसेवकों की घर वापसी

October 13th, 2017

डिजिटल डेस्क, मुंबई। देश की सबसे समृद्ध मुंबई महानगरपालिका यानी बीएमसी में शिवसेना ने महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना को जोरदार झटका दिया। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मनसे के 6 नगरसेवकों को अपनी पार्टी में शामिल कर लिया। बीएमसी में मनसे के कुल 7 नगरसेवक थे। भाजपा का महापौर बनाने की चुनौती के बाद शुक्रवार को मातोश्री में शिवसेना उद्धव ने इन नगरसेवकों का पार्टी में स्वागत किया। हालांकि उद्धव ठाकरे की इस सियासी करवट से उनके चचेरे भाई राज ठाकरे को तगड़ा झटका लगा है। 

भाजपा पर उठाए सवाल

इस मौके पर उद्धव ने इंकार किया कि उनकी पार्टी ने मनसे में तोड़फोड़ की है। उन्होंने कहा कि इन नगरसेवकों की घर वापसी हुई है। मनसे के नगरसेवक अब शिवसेना के नगरसेवक हैं। हालांकि इस दौरान उद्धव ने सवाल उठाते कहा कि जब दूसरे दल के नगरसेवक हमारी पार्टी में आ रहे हैं, तो इससे हमारे मित्र दल (भाजपा) को क्यों तकलीफ हो रही है। मुंबई मनपा के एक वार्ड में हुए उपचुनाव को जीतने के बाद बीएमसी में शिवसेना और भाजपा के नगरसेवकों की संख्या में अंतर सिर्फ दो का बचा था। इसके बाद भाजपा सांसद किरीट सोमैया ने जल्द ही बीएमसी में भाजपा का महापौर होने की बात कही थी। 

शिवसेना का मास्टर स्ट्रोक

गुरुवार को उपचुनाव में हार के बाद शिवसेना नेताओं ने देर रात तक गुप्त बैठक की। शिवसेना ने दलबदल का यह खेल गुपचुप तरीके से खेला, जिसकी भाजपा और मनसे को भनक तक नहीं लगी। शिवसेना के इस मास्टर स्ट्रोक से भाजपा भी बैकफुट पर आ गई है। बीएमसी में मनसे के गटनेता दिलीप लांडे के नेतृत्व में इन नगरसेवकों ने शिवसेना का दामन थामा है। सूत्रों के अनुसार पुरस्कार स्वरुप शिवसेना लांडे को विधानसभा चुनाव में टिकट देगी। 

3-3 करोड़ में खरीदे गए नगरसेवक: सोमैया

इस बीच भाजपा सांसद सोमैया की तरफ से शिवसेना के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) और कोकण आयुक्त के यहां शिकायत की है। सोमैया ने आरोप लगाया है कि शिवसेना ने तीन-तीन करोड़ रुपए में मनसे नगरसेवकों को खरीदा है। जबकि बीएमसी में भाजपा के गटनेता मनोज कोटक ने कहा है कि हम शिवसेना के इस हार्स ट्रेडिंग का पर्दाफाश करेंगे।   

मुंबई मनपा में संख्या बल 

 शिवसेना  – 84 + 4 निर्दलीय = 88 ( मनसे के 6 नगरसेवक साथ आए)
 भाजप अभासे व एक निर्दलीय सहित – 83+2= 85
 कांग्रेस – 30
 राष्ट्रवादी कॉंग्रेस – 9
 मनसे – 7
 सपा – 6
 एमआईएम – 2