comScore

5 साल की बच्ची से चचेरे भाई ने दुष्कर्म के बाद की हत्या, गांव वाले नहीं मनाएंगे रक्षाबंधन

August 21st, 2018 13:51 IST
5 साल की बच्ची से चचेरे भाई ने दुष्कर्म के बाद की हत्या, गांव वाले नहीं मनाएंगे रक्षाबंधन

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। कटंगी थाना क्षेत्र के ककरहेटा से लगे जटासे गांव में 5 साल की मासूम बच्ची के साथ उसके सगे चाचा के बेटे ने अपने घर ले जाकर दुराचार किया। बच्ची दर्द से चीखती रही जिसे चुप कराने के लिए अमर ने उसका मुंह दबा दिया और दम घुटने से उसकी मौत हो गई। आरोपी ने शव को अपने घर के पीछे सेप्टिक टैंक में छुपा दिया। भेद खुलने के बाद आरोपी ने जुर्म कबूल कर लिया। पुलिस ने आरोपी अमर के खिलाफ अत्याचार और पास्को एक्ट की धाराओं के तहत अपराध दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है।

मृत बच्ची और आरोपी दोनों के माता-पिता खेतों में मजदूरी करते हैं। गत सुबह भी खेत में धान रोपने के लिए गए थे शाम को माता-पिता घर लौटे तो बच्चे के ना मिलने पर उन्होंने तलाश शुरू कर दी। देर रात उन्होंने थाना में सूचना दी जिस पर पुलिस ने धारा 363 का अपराध दर्ज कर जांच शुरू की। अमर ने पुलिस को बताया कि वह टाफी दिलाने के बहाने बच्ची को अपने साथ हिरन नदी के पास जंगल में ले गया था जहां दुष्कर्म के दौरान बच्ची की मौत हो गई थी और उसने 100 बोरीयों में भरकर उसे सेप्टिक टैंक में छुपा दिया था।

नहीं मनाएंगे रक्षाबंधन
आगामी 26 अगस्त को भाई-बहन के रिश्तों से जुड़ा रक्षाबंधन का त्यौहार है। रक्षाबंधन पर हर बहन अपने भाई की कलाई में रक्षासूत्र बांधकर भाई से अपनी रक्षा का वचन लेती है, लेकिन अमर ने जिस दरिन्दगी से अपनी मासूम बहन के साथ घिनौना कृत्य किया है, उससे पूरा गांव आक्रोशित भी है और दु:खी भी।

गांव वालों ने कहा है कि इस साल वे रक्षाबंधन नहीं मनाएंगे। गांव वालों ने अमर को हर हाल में फांसी दिलाने की मांग भी की है। कटंगी में हुई इस जघन्य घटनाक्रम को लेकर सोशल मीडिया में देश भर से तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं आ रहीं हैं। खासकर महिलाएं जिन्होंने कविताओं और मार्मिक तस्वीरों के जरिए पोस्ट करके दु:ख के साथ मासूम बच्ची की आत्मा को शांति देने के लिए प्रार्थनाएं की हैं।

पीएम रिपोर्ट से पता चलेगा मौत का कारण
पुलिस के अनुसार बच्ची के गुप्तांग, चेहरे और गले में चोटों के निशान हैं। शव को देखकर अंदाजा लगाया जा रहा है कि मौत की वजह दम घुटने से हुई है, लेकिन वास्तविकता पीएम रिपोर्ट आने पर ही पता चलेगी। बच्ची का पीएम पाटन अस्पताल में नहीं हो सका, लिहाजा उसे मेडिकल अस्पताल भिजवा दिया गया है। जहां मंगलवार को डॉक्टरों की टीम से पीएम कराया जाएगा।

48 घंटे में चार्जशीट करने का टारगेट
एसपी अमित सिंह ने इस प्रकरण को गंभीर अपराध की श्रेणी में लेते हुए 48 घंटे के भीतर विवेचना पूरी करके कोर्ट में चार्जशीट करने और आरोपी को हर हाल में फांसी की सजा दिलाने का टारगेट रखा है। एएसपी नरवरिया के मार्गदर्शन में एसडीओपी भावना मरावी और थाना प्रभारी राकेश तिवारी की टीम प्रकरण से जुड़े हर पहलू की जांच और साक्ष्य एकत्रित करने में जुट गई है।

बच्ची को सगी बेटी की तरह चाहते थे अमर के माता-पिता
मृत बच्ची अमर के सगे बड़े पिता की बेटी थी। दोनों के परिवार अलग-अलग जरूर रहते थे, लेकिन बेटी न होने के कारण अमर के माता पिता मृत बच्ची को सगी बेटी की तरह चाहते थे। अमर भी उसे हर दिन घुमाने फिराने ले जाता था। बच्ची का ज्यादा समय अमर की मां के साथ ही गुजरता था, लेकिन बेटे की घिनौनी करतूत के बाद उसके माता-पिता बुरी तरह आहत हैं।

इनका कहना है
अनुसंधान को जल्द से जल्द पूरा करके चार्जशीट तैयार की जाएगी और हमारा प्रयास रहेगा कि हर हाल में आरोपी को फांसी की सजा दिलाई जाए।
-डॉ. आरके नरवरिया, एएसपी ग्रामीण

कमेंट करें
NDi8T