साकीनाका की निर्भया : आरोपी ने कबूला गुनाह- प्राइवेट पार्ट में गंभीर चोट आने से गई जान, पीड़ित परिवार को 20 लाख की आर्थिक मदद

September 13th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। साकीनाका रेप मामले में गिरफ्तार आरोपी ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है। इसके अलावा इस मामले में आरोपी के खिलाफ पुख्ता सबूत भी जुटा लिए हैं, जिनमें वारदात के दौरान की सीटीटीवी फुटेज और अपराध में इस्तेमाल हथियार भी शामिल है। मुंबई पुलिस आयुक्त हेमंत नागराले ने सोमवार को मीडिया से बातचीत में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मामले में एट्रोसिटी कानून की धाराएं एफआईआर में जोड़ दीं गईं हैं। मामले की जांच आखिरी चरण में है।

Uttarakhand Chamoli News: Deep Freezer Not Available For Preserve Dna  Sample - चमोली आपदा: डीएनए सैंपलिंग तो हो रही , लेकिन सैंपल सुरक्षित रखने  के लिए नहीं है डीप फ्रीजर - Amarअपराध से जुड़े नमूनों की फॉरेंसिक जांच और पीड़ित व आरोपी के डीएनए सैंपलिंग की जा रही है। साथ ही मामले में आरोपी को सजा दिलाने के लिए राजा ठाकरे को बतौर सरकारी वकील नियुक्त किया गया है। उन्होंने बताया कि पीड़िता के परिवार को राज्य सरकार की ओर से 20 लाख रुपए की आर्थिक मदद दी जाएगी। बता दें कि पुलिस ने मामले में मोहन चौहान नाम के 45 वर्षीय आरोपी को गिरफ्तार किया है।  

Mumbai: 34-year-old woman raped, assaulted in tempo at Sakinakaमुख्यमंत्री से मिले हलदर

राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के उपाध्यक्ष अरुण हलदर ने मामले में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, गृहमंत्री दिलीप वसले पाटील, मुख्य सचिव सीताराम कुंटे, पुलिस महानिदेशक संजय पांडे समेत गृहविभाग के कई आला अधिकारियों से मुलाकात की। नागराले ने कहा कि मुलाकात के दौरान मैं भी मौजूद था और हलदर ने इस मामले में मुंबई पुलिस ने जिस तरह जांच और कार्रवाई की है उसकी तारीफ की है। मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से भी जारी बयान में दावा किया गया है कि मामले में हुई कार्रवाई से आयोग संतुष्ट है। उद्धव ठाकरे ने हलदर से कहा कि वे केंद्र सरकार से बात कर ऐसी योजना शुरू कराएं जिससे सड़कों पर रहने को मजबूर महिलाओं को घर दिए जा सकें।  

इससे पहले भी अरुण हलदर ने भी पीड़िता के परिवार और पुलिस अधिकारियों से मुलाकात कर मामले की जानकारी ली थी। जानकारी मिलने के बाद मामले का खुद संज्ञान लेते हुए वे दिल्ली से मुंबई पहुंचे। पुलिस ने मामले में दलित उत्पीड़न कानून की धाराएं भी जोड़ीं हैं। उन्होंने कहा कि इस मामले में एक्शन टेकर रिपोर्ट भी मांगी गई है। आयोग की ओर से परिवार को आश्वास दिया गया कि उन्हें हर संभव मदद दी जाएगी। परिवार की बच्चियों की पढ़ाई का खर्च भी राज्य सरकार को उठाना होगा। हलदर ने कहा था कि परिवार को एक घर और एक सदस्य को राज्य सरकार की ओर से नौकरी देने की बात भी अधिकारियों ने स्वीकार की है। 

Sakinaka rape case: Woman who was raped, assaulted with rod in private  parts dies in Mumbai hospital - The Financial Express

पैसों को लेकर शुरू हुआ विवाद

हेमंत नागराले ने बताया कि पीड़िता और आरोपी एक दूसरे को पहले से जानते थे। वे पहले 4-5 बार एक दूसरे से मिल चुके थे। उनके बीच पैसों के लेन देन को लेकर विवाद था। पीड़िता ने आरोपी को पैसे दिए थे, जिसे वह वापस मांग रही थी। इसी को लेकर शुरू हुए विवाद के बाद आरोपी ने वारदात को अंजाम दिया। नागराले ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पेट और गुप्तांग में लगे घाव के चलते अप्राकृतिक मौत की बात कही गई है। उन्होंने कहा कि मामले में गिरफ्तार आरोपी मोहन चौहान का राज्य में कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है। उत्तर प्रदेश में क्या उसने कोई वारदात अंजाम दी है इसकी जानकारी हासिल करने की कोशिश की जा रही है।     

Sakinaka rape and murder: Political outrage continues in Mumbai | Mumbai  news - Hindustan Times

बयान पर कायम

नागराले ने कहा कि वे अपने उस बयान पर कायम हैं, जिसमें उन्होंने कहा था कि पुलिस हर वक्त हर जगह मौजूद नहीं रह सकती। बयान को महिला आयोग की सदस्य चंद्रमुखी देवी द्वारा दुर्भाग्यपूर्ण बताए जाने से जुड़े सवाल पर नागराले ने कहा कि उन्होंने मीडिया में चंद्रमुखी का बयान सुना जिसमें उन्होंने इसका समर्थन किया है। नागराले ने कहा कि इलाके में पुलिस की पेट्रोलिंग न होने का दावा गलत है। हमारे रिकॉर्ड के मुताबिक रात साढ़े 12 बजे पुलिसवाले वहां पेट्रोलिंग के लिए गए थे। साथ ही वारदात की जानकारी मिलते ही 10 मिनट में पुलिस मौके पर पहुंची और पीड़िता जिस टेंपो में मौजूद थी पुलिस कांस्टेबल उसे ही चलाकर अस्पताल पहुंचा।  

सोलापुर बाढ़: bjp will protest against government if compensation not given  to farmers: दरेकर ने किसानों की मदद न होने पर आंदोलन की बात कही - Navbharat  Times

महिला सुरक्षा के बजाय अफसरों के तबादलों को प्राथमिकता दे रही सरकार  

इससे पहले भाजपा प्रदेश की महाविकास आघाड़ी सरकार के खिलाफ आक्रामक हो गई। रविवार को भाजपा की महिला मोर्चा की ओर से पवई पुलिस स्टेशन के सामने आंदोलन किया था। विधान परिषद में विपक्ष के नेता प्रवीण दरेकर, भाजपा विधायक मनीषा चौधरी के नेतृत्व वाले प्रतिनिधिमंडल ने पुलिस अफसरों को ज्ञापन सौंपा था। दरेकर ने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार की प्राथमिकता बदल गई है। महिलाओं की सुरक्षा नहीं बल्कि अफसरों के तबादले और भ्रष्टाचार करने वाले अधिकारियों को बचाना सरकार की पहली प्राथमिकता बन गई है। सरकार का पुलिस प्रशासन पर नियंत्रण नहीं है। इसलिए राज्य में महिला अपराध के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। दरेकर ने कहा कि देश की आर्थिक राजधानी में मुंबई में दुष्कर्म की घटना से महिलाओं में भय का माहौल पैदा हो गया है। दूसरी ओर आरपीआई के कार्यकर्ताओं ने साकीनाका के सिग्नल के पास इस घटना के खिलाफ आंदोलन किया। आरपीआई के कार्यकर्ताओं ने सरकार से दुष्कर्म के आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग की।