comScore

एक्शन : लंबे समय बाद पुलिस महकमे में मिलीभगत पर करारी चोट

एक्शन : लंबे समय बाद पुलिस महकमे में मिलीभगत पर करारी चोट

डिजिटल डेस्क, नागपुर। पुलिस विभाग के 15 पुलिसकर्मियों को निलंबित किए जाने की जानकारी है। इसमें ड्यूटी से गैर-हाजिर (अनुपस्थित) और सिक लेने वाले शामिल हैं। अभी तक इनकी कोई खोज-खबर क्यों नहीं ली गई, यह सवाल सबसे अहम है। बहरहाल, पता चलते ही पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार ने 10 अक्टूबर को इनके रिकार्ड मंगाए और सोमवार को इन्हें निलंबित करने का आदेश दिया। नागपुर पुलिस विभाग में संभवत: पहली बार एक साथ 15 कर्मचारियों को निलंबित किया गया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार ने हाल ही में सिविल लाइंस स्थित पुलिस जिमखाना में शहर पुलिस विभाग में काम करनेवाले अधिकारियों व कर्मचारियों को मनचाही जगह देकर तबादला किया। सोमवार को भी जब पुलिस आयुक्त के आदेश पर 129 कर्मचारियों को पुलिस जिमखाना में बुलाया गया, तब उन्हें यही लग रहा था कि उन्हें भी मनचाही जगह मिलेगी। यहां पर वायरलेस, पुलिस मुख्यालय, थाना, साइड ब्रांच सहित अन्य विभाग में कार्यरत पुलिसकर्मियों के सपने तब धरे के धरे रह गए, जब उनकी कामचोरी की पोल खुलकर सामने आई। 129 में 15 कर्मचारी आदतन या कुछ और बहाना करके अवकाश ले लिया करते थे। इससे दूसरे कर्मचारियों पर काम का बोझ बढ़ जाता था। अवकाश नहीं मिलने पर कई बार उक्त कर्मचारी अधिकारी से भी उलझ जाया करते थे। निलंबन का आदेश मिलते ही ‘इन’ कामचोर पुलिसकर्मियों की घिग्घी बंध गई। हालांकि यह जानकारी सामने नहीं आ सकी निलंबित पुलिसकर्मियों के नाम क्या हैं। पुलिस मुख्यालय के प्रभारी उपायुक्त विक्रम साली के पास भी कोई  जानकारी नहीं थी।   

सब मिलीभगत का खेल

पुलिस सूत्रों ने बताया कि इसमें कई कर्मचारी पुलिस मुख्यालय के संबंधित िवभाग के अधिकारियों से सांठ-गांठ करके करीब 3-4 साल से ड्यूटी पर ही नहीं जा रहे थे, मगर पगार पुलिस विभाग से उठा रहे थे। अब पुलिस मुख्यालय के वे अधिकारी भी जांच के घेरे में आ सकते हैं, जो इनकी बार-बार छुट्टी मंजूर किया करते थे। 

बेवजह अवकाश

जहां पुलिस के कई जवान कोरोनाकाल में अपनी और अपने परिवार की जान की परवाह किए बिना ड्यूटी पर डटे रहे, वहीं कुछ कामचोर कर्मचारी छुट्टियां लेकर घरों में बैठे रहे। पुलिस आयुक्त ने साफ कह दिया है कि जो लोग बेवजह अवकाश लेकर बैठे रहते हैं, उनके लिए कोई माफीनामा नहीं मिलेगा।    

आदतन अनुपस्थित रहने वाले कर्मचारी निलंबित 

अमितेश कुमार, पुलिस आयुक्त के मुताबिक जो पुलिस कर्मचारी आदतन अनुपस्थित पाए गए, उन्हें निलंबित किया गया है। इसमें कुछ ऐसे कर्मचारी भी शामिल हैं, जो करीब 3-4 साल से ड्यूटी से अनुपस्थित थे। 
    

कमेंट करें
41sQf