दैनिक भास्कर हिंदी: बिजली ट्रांसमिशन का लचर नेटवर्क, मुख्य सचिव ने ली अधिकारियों की क्लास

April 4th, 2019

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। बिजली कंपनी के लचर ट्रांसमिशन नेटवर्क ने जबलपुर ही नहीं बल्कि राजधानी में बैठे बिजली अधिकारियों की नींद उड़ा दी है। विद्युत लाइनों में ओवर लोड होने पर पूरे प्रदेश का विद्युत सिस्टम गड़बड़ाने की संभावना को भांपते हुए अपर मुख्य सचिव ऊर्जा आईसीपी केशरी बिजली कंपनियों के मुख्यालय शक्ति भवन पहुंचे। यहां उन्होंने बिजली कंपनी के चेयरमेन और एमडी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा की। इस दौरान ट्रांसको के एमडी सहित अन्य अधिकारियों को हिदायत दी कि बिजली लोड को भांपकर पहले से प्लानिंग करें और ट्रांसमिशन नेटवर्क को मजबूत करें। इस बात का विशेष ध्यान रखें कि प्रदेश में कहीं भी लोड की समस्या न रहे।

दूसरी बार बैठक में उठा मुददा
बैठक में एक बार फिर एसीएस श्री केशरी ने पांच शहरों में बनने वाले जीआईएस सब स्टेशन, नैरो बेस टावर, एसटीएलएस कंडक्टर और आप्टिकल फाइबर कार्येा की प्रगति जानकारी ली। इससे पहले भी इन कार्यो को समय पर पूरा करने की हिदायत दी जा चुकी है। उन्होंने सभी बिजली यूनिटों को बिजली उत्पादन करने के लिए पूरी तरह से तैयार रखने निर्देश दिए, साथ ही हीट रेट और कोल खपत को कम करने के लिए योजनाएं बनाने कहा है।

अपर ऊर्जा सचिव केशरी ने कहा कि पावर जनरेटिंग कंपनी अगले वर्ष 80 प्रतिशत पीएलएफ अर्जित करने की कोशिश करें। इसके साथ ही सभी विद्युत गृहों के मुख्य अभियंताओं को निर्देशित किया कि वे अपने-अपने विद्युत गृहों में बेहतर परफार्मेंस देकर विद्युत गृहों से कम लागत में ज्यादा बिजली उत्पादन करें। उन्होंने कहा कि विद्युत गृहों के लिए निर्धारित कोल की उपलब्धता बनाए रखने के लिए समुचित प्रयास करें। उन्होंने जनरेटिंग कंपनी प्रयास करें कि फ्लाई ऐश का उपयोग सड़क व अन्य निर्माण कार्यों में अधिक से अधिक हो सके।

ये भी दिए निर्देश
- ट्रांसको के अधिकारी नेटवर्क को ऐसा बनाएं ताकि विद्युत व्यवधान हो कम।
- हर माह ट्रांसकों अधिकारी वितरण कंपनियों के साथ बैठकर बिजली नेटवर्क
को मजबूत बनाने नीति बनाए।
- रबी सीजन के पहले ट्रांसफार्मर की अतिरिक्त व्यवस्था करें ताकि ऐन
वक्त में दिक्कत न आए।
- ग्रीन इनर्जी कारीडोर के तहत ट्रांसमिशन कार्यो को समय सीमा से पहले
ही पूरा किया जाए।