दैनिक भास्कर हिंदी: अजित पवार ने कहा - जब्त चीनी मिल मेरी नहीं, तंज कसते हुए चंद्रकांत पाटील बोले - अभी तो शुरुआत है

July 2nd, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने महाराष्ट्र राज्य को-ऑपरेटिव बैंक घोटाला मामले में सातारा की जरंडेश्वर चीनी कारखाना के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जब्ती की कार्रवाई के बाद स्ष्टीकरण दिया है। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि मेरे रिश्तेदार राजेंद्र घाडगे ने जरंडेश्वर चीनी कारखाना चलाने के लिए लिया था। वे जरंडेश्वर शुगर मिल कंपनी के जरिए जरंडेश्वर चीनी कारखाना चला रहे हैं। इस कंपनी से मेरा दूर-दूर तक कोई संबंध नहीं है। इसके पहले गुरुवार को एमएससीबी घोटाले के सिलसिले में सतारा जिले के जरंदेश्वर सहकारी चीनी कारखाना को कुर्क करने वाले प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरुवार को दावा किया था कि अजित पवार और उनकी पत्नी से जुड़ी एक कंपनी इस मामले में शामिल थी।  

शुक्रवार को पुणे में पत्रकारों से बातचीत में अजित ने कहा कि जरंडेश्वर चीनी कारखाना को तत्कालीन निदेशक मंडल ने नहीं बल्कि बाम्बे हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार बेचा गया था। जरंडेश्वर चीनी कारखाना मुंबई की गुरु कमोडिटी सर्विसेस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने 65 करोड़ 75 लाख रुपए में बोली लगाकर खरीदा था। इसके बाद घाडगे ने कारखाना चलाने के लिए लिया था। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि जब्ती की कार्रवाई के खिलाफ न्याय मांगने के लिए जरंडेश्वर शुगर मिल अपील करेगी। उन्होंने कहा कि ईडी ने जरंडेश्वर शुगर मिल के निदेशक को बुलाया था। निदेशक ने सभी तथ्यों को ईडी के सामने रखा है। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे पर जरंडेश्वर चीनी मिल को हथियाने का आरोप लगता आ रहा है लेकिन बाम्बे हाईकोर्ट के आदेश के बाद कोई कारखाना हथिया सकता है क्या?

यह तो अभी शुरुआत हैः चंद्रकांत पाटील 

जबकि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील ने कहा कि जरंडेश्वर कारखाना के खिलाफ ईडी की कार्रवाई तो महज एक शुरुआत है। ईडी के रडार पर 24 चीनी कारखाने हैं। पाटील ने कहा कि मैं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर राज्य में नीलामी के जरिए खरीदे गए सभी चीनी कारखानों की जांच की मांग करूंगा। पाटील ने कहा कि मेरे बोलने से ऐसा लगता है कि मैं लोगों को धमकी दे रहा हूं लेकिन मैं शाह को पत्र लिखकर जांच की मांग करूंगा। 

राजनीति से प्रेरित है यह कार्रवाईः शेट्टी

स्वाभिमानी शेतकरी संगठन के अध्यक्ष राजू शेट्टी ने कहा कि ईडी की कार्रवाई राजनीति से प्रेरित हैं। मैंने पांच साल पहले इस कारखान के खिलाफ ईडी को सबूत दिए थे लेकिन अब उपमुख्यमंत्री पर राजनीतिक दबाव डालने के लिए ईडी ने जब्ती की कार्रवाई की है। शेट्टी ने कहा कि चीनी कारखाना खरीदी में सभी दलों के नेता लिप्त हैं। सभी दलों के नेताओं ने मिलकर इसको लूटा है। शेट्टी ने कहा कि कौड़ियों के दाम पर खरीदी गए सभी 42 चीनी कारखानों की जांच होनी चाहिए। 

न्याय मिलीः शालिनी पाटील 

जबकि जरंडेश्वर चीनी मिल की संस्थापक और पूर्व निदेशक शालिनी पाटील ने कहा कि देर से ही सही न्याय मिला है। पूर्व मुख्यमंत्री वसंतदादा पाटील की पत्नी शालिनी ने कहा कि भगवान की लाठी में आवाज नहीं होती। 

खबरें और भी हैं...