comScore

आव्हाड बोले- अति आत्मविश्वास के चलते हुआ संक्रमित, सीएम राहत कोष में दान करेंगे आईएएस-आईपीएस अधिकारी

आव्हाड बोले- अति आत्मविश्वास के चलते हुआ संक्रमित, सीएम राहत कोष में दान करेंगे आईएएस-आईपीएस अधिकारी

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राज्य के गृहनिर्माण मंत्री व राकांपा नेता जितेंद्र आव्हाड ने कहा कि वे ‘अति आत्मविश्वास’ की वजह से कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए। उनके कुछ सुरक्षा कर्मी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे, जिसके बाद उन्होंने 13 अप्रैल को खुद को एहतियात के तौर पर क्वारंटाईन कर लिया था। बाद में आव्हाण को ठाणे के एक निजी अस्पताल में 19 अप्रैल को भर्ती कराना पड़ा था। इसके कुछ दिनों के बाद उनके संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी। सोमवार को उन्होंने बताया कि वह पहले से ही उच्च रक्तचाप और मधुमेह की बीमारी के शिकार हैं। उन्हें 10 मई को अस्पताल से छुट्टी मिली है। एक न्यूज चैनल से बातचीत में आव्हाड ने कहा कि बहुत ही ज्यादा आत्मविश्वास की वजह से कोरोना वायरस से संक्रमित हुए। 23 अप्रैल से 26 अप्रैल की अवधि उनके जीवन के लिए काफी महत्वपूर्ण थी। परिवार को बता दिया गया था कि मेरे बचने की कम ही संभावना है। अपनी जान के लिए काफी चिंतित था। हर क्षण  जीवन और मौत के बारे में सोच कर गुजारा। उन्होंने कहा कि जब वह आईसीयू में थे, तो उन्होंने एक नोट भी लिखकर कह दिया था कि अगर उन्हें कुछ होता है, तो संपत्ति उनकी बेटी को दे दी जाए। उन्होंने कहा, इस बीमारी ने मुझे यह महसूस कराया कि मैं अपने स्वास्थ्य और जीवनशैली को लेकर बहुत लापरवाह हूं। मैं राजनीति से बाहर अपना जीवन भूल गया था। मुझे अब यह एहसास हुआ कि मुझे अधिक अनुशासित होना चाहिए।
 

सीएम राहत कोष में दान करेंगे आईएएस-आईपीएस अधिकारी

उधर कोरोना संक्रमण से लड़ाई में आर्थिक संकट का सामना कर रही राज्य सरकार ने सरकारी कर्मचारियों के मई महीने के वेतन से एक या दो दिन का वेतन मुख्यमंत्री सहायता निधि में जमा करने का फैसला किया है। समान्य प्रशासन विभाग ने सोमवार को इससे जुड़ा परिपत्रक जारी किया है। परिपत्रक के मुताबिक भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय पुलिस सेवा, भारतीय वन सेवा के साथ ग्रुप ए और बी के राजपत्रित अधिकारियों और कर्मचारियों के दो दिन का जबकि ग्रुप बी के अराजपत्रित, ग्रुप सी और डी के अधिकारियों और कर्मचारियों के एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री सहायता कोष में दान के रूप में दिया जाएगा। सरकार का यह फैसला सभी मंत्रालयों के विभागों और उसके मातहत आने वाले सभी सरकारी, अर्द्ध सरकारी कार्यालयों, जिला परिषद, पंचायत समिति,  महानगर पालिका, नगर पालिका, सार्वजनिक उपक्रमों, महामंडलों और सभी स्वायत्त संस्थाओं पर लागू होगा।  

1273 पुलिसवाले कोरोना संक्रमित

राज्य में कोरोना संक्रमित पुलिसवालों की संख्या बढ़कर 1273 तक पहुंच गई है। जिनमें 131 अधिकारी हैं। इन पुलिसवालों में 291 कोरोना को मात दे चुके हैं, जबकि 11 की मौत हो चुकी है। लॉकडाउन के दौरान पुलिस पर हमले की 240 वारदातें हो चुकीं हैं, जिनमें 819 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। लॉकडाउन के दौरान राज्य में अबतक आईपीसी की धारा 188 के तहत 1 लाख 10 हजार 140 मामले दर्ज किए जा चुके हैं।

कमेंट करें
9OgN2