दैनिक भास्कर हिंदी: एनसीपी के बालासाहब सानप शिवसेना में शामिल, बच्चू कडू की पार्टी के 2 विधायकों का भी समर्थन 

October 27th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के टिकट पर नाशिक पूर्व सीट से विधानसभा चुनाव लड़ने वाले बालासाहब सानप ने शिवसेना में प्रवेश किया है। रविवार को मातोश्री में शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे की मौजूदगी में सानप ने पार्टी में प्रवेश किया। साल 2014 से भाजपा के विधायक रहे सानप ने विधानसभा चुनाव में अपनी पार्टी से उम्मीदवारी नहीं मिलने के बाद 4 अक्टूबर को इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद सापन ने भाजपा को छोड़कर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी में प्रवेश किया था। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने सानप को विधानसभा की उम्मीदवारी दी थी लेकिन चुनाव में सानप को हार का सामना करना पड़ा। सानप को भाजपा के उम्मीदवार राहुल ढिकले ने हराया है। चुनाव में मिली हार के बाद सानप ने पाल बदलते हुए अब शिवसेना में अब प्रवेश किया है। पत्रकारों से बातचीत में सानप ने कहा कि भाजपा से टिकट कटने के बाद मैं शिवसेना की उम्मीदवारी चाह रहा था लेकिन भाजपा और शिवसेना की युति होने के कारण मुझे टिकट नहीं मिल सका। इसलिए मैंने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा। पर मुझे चुनाव में सफलता नहीं मिल सकी। इसके बाद मैंने अब उद्धव के नेतृत्व में काम करने का फैसला किया है।

शिवसेना को बच्चू कडू की पार्टी के 2 विधायकों का समर्थन 

अमरावती के विधायक बच्चू कडू के नेतृत्व वाले प्रहार जनशक्ति पक्ष ने शिवसेना को समर्थन दिया है। राज्य विधानसभा चुनाव में प्रहार जनशक्ति पक्ष को 2 सीटों पर जीत मिली है। अमरावती की अचलपुर सीट पर कडू और मेलघाट सीट से राजकुमार पटेल चुनाव जीते हैं। मातोश्री में शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे की मौजूदगी में कडू ने पार्टी को समर्थन देने का फैसला किया। कडू के समर्थन के बाद अब विधानसभा में शिवसेना के समर्थक विधायकों की संख्या 56 से बढ़कर 60 हो गई है। नागपुर की रामटेक सीट से निर्दलीय विधायक प्रदीप जैसवाल और भंडारा के निर्दलीय विधायक नरेंद्र भोंडेकर भी शिवसेना को समर्थन दे चुके हैं। शिवसेना के समर्थन देने पर कडू ने कहा कि अचलपुर और मेलघाट विधानसभा क्षेत्र की कई महत्वपूर्ण समस्याएं हैं। मेलघाट में स्थालंतर, रोजगार और वनक्षेत्र से जुड़ी समस्याओं पर उद्धव से चर्चा हुई है। उद्धव को विभिन्न समस्याओं का लिखित रूप में पत्र दिया गया। उन्होंने हमसे सभी मुद्दों पर सकारात्मक चर्चा की। इसके बाद हमने शिवसेना को समर्थन देने का फैसला किया है। शिवसेना के सांसद संजय राऊत ने कहा कि निर्दलीय विधायकों के अलावा पार्टी को कई छोटे दलों के विधायकों का समर्थन मिलेगा। राऊत ने कहा कि आने वाले समय में और विधायक मातोश्री में नजर आएंगे। 
 

खबरें और भी हैं...