comScore

शीतकालीन सत्र की तैयारी : बीजेपी- शिवसेना गठबंधन पार्ट 2 में इन्हें मंत्री बनने की आस

शीतकालीन सत्र की तैयारी : बीजेपी- शिवसेना गठबंधन पार्ट 2 में इन्हें मंत्री बनने की आस

डिजिटल डेस्क, नागपुर। विधानमंडल के शीतकालीन अधिवेशन की तैयारी शुुरु हो गई है। दिसंबर 2019 में अधिवेशन आरंभ होगा। फिलहाल अधिवेशन की कार्यक्रम तालिका घोषित नहीं हो पायी है। खास बात यह है कि 2014 में पहली बार चुनी गई भाजपा के नेतृत्व की सरकार का पहला अधिवेशन नागपुर में हुआ था। दूसरी बार भाजपा के नेतृत्व में ही सरकार बनने जा रही है। इस सरकार के अधिवेशन की शुरुआत भी नागपुर से ही होगी। विधानमंडल के कामकाज के संबंध में नए विधायकों को पहला अनुभव नागपुर में ही सीखने को मिलेगा। अधिवेशन की तैयारी के तहत विधानभवन व विधानपरिषद इमारत की सफाई शुरु हो गई है। विधानपरिषद इमारत के पास नई इमारत का निर्माण भी तेज गति से किया जा रहा है। दावा किया जा रहा है कि इस बार सिविल लाइन स्थित विधानमंडल परिसर में ही राज्य सरकार का सचिवालय होगा। फिलहाल नागपुर में राज्य सरकार के सचिवालय की इमारत विधानमंडल परिसर से काफी दूर है। गौरतलब है कि साल के आरंभ में दिसंबर या जनवरी में नागपुर में होनेवाला शीतकालीन अधिवेशन पिछली बार नागपुर में नहीं हो पाया है। करीब 35 साल बाद मुंबई में शीतकालीन अधिवेशन हुआ था। इससे पहले जुलाई 2018 में मानसून अधिवेशन हुआ था।

सरकार की ओर से कहा गया था कि मुंबई में विधानमंडल भवन परिसर में निर्माण कार्य के कारण नागपुर में अधिवेशन लेना पड़ रहा है। मुंबई में भारी बारिश के कारण अड़चनों को भी मुंबई के बजाय नागपुर में अधिवेशन का कारण बताया गया था। हालांकि बारिश के कारण नागपुर का अधिवेशन भी चर्चा में रहा। विधानसभा की इमारत तक पानी घुस जाने के कारण अधिवेशन को दो दिन का अवकाश घोषित करना पड़ा था। नागपुर में शीतकालीन अधिवेशन की अनिश्चितता का भी प्रश्न उठने लगा था। लेकिन मुंबई में जुलाई 2019 में हुए मानसून अधिवेशन में घोषणा कर दी गई है कि शीतकालीन अधिवेशन नागपुर में होगा।

शीतकालीन अधिवेशन के पहले शिवसेना शामिल हुई थी सत्ता में

2014 में भाजपा के नेतृत्व में सरकार बनी थी। देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री बने थे। लेकिन भाजपा के पास बहुमत नहीं था। शिवसेना दूसरे बड़े दल के तौर पर विपक्ष में थी। शिवसेना ने नेता प्रतिपक्ष भी घोषित किया था। लेकिन दिसंबर 2014 में नागपुर में शीतकालीन अधिवेशन  के पहले शिवसेना सत्ता में शामिल हो गई थी।

देवगिरी काे लेकर अनिश्चिता

देवगिरी के मेहमान को लेकर अनिश्चिता है। देवगिरी बंगला उपमुख्यमंत्री का आवास है। पिछले दो दशक में ही देखें तो इस बंगले का खास आकर्षण रहा है। 1995 में शिवसेना के नेतृत्व की गठबंधन सरकार में उपमुख्यमंत्री गोपीनाथ मुंडे देवगिरी के मेहमान थे। तब अधिवेशन के समय भाजपा के लिए सत्ता केंद्र देवगिरी ही हुआ करता था। उसके बाद छगन भुजबल, आर.आर पाटील, विजयसिंह मोहिते पाटील व अजित पवार उपमुख्यमंत्री रहे हैं। भुजबल व पवार दो बार उपमुख्यमंत्री रहे हैं। 2014 में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में भाजपा शिवसेना की गठबंधन की सरकार में उपमुख्यमंत्री पद नहीं रहा। लिहाजा देवगिरी बंगला मेहमान के इंतजार में ही रह गया। 

मंत्री बनने के लिए जगने लगी आस,अपने अपने स्तर पर प्रयास जारी

वहीं राज्य में भाजपा शिवसेना गठबंधन की सरकार बनना तय माना जा रहा है। देवेंद्र फडणवीस को भाजपा विधायक दल का नेता चुना गया है। फडणवीस ने कहा है कि पिछली बार की तरह इस बार भी 5 साल तक वे स्थायी सरकार देंगे। फडणवीस के दोबारा मुख्यमंत्री बनने की तैयारी के साथ ही मंत्री बनने की इच्छुकों की उम्मीद फिर से जाग गई है। राजनीतिक जानकार कह रहे हैं कि सत्ता के लिए क्षेत्रीय व दलीय संतुलन को देखते हुए इस बार विदर्भ व नागपुर क्षेत्र में मंत्री पद कम ही आएगा। फिर भी मंत्री चुनने का अधिकार मुख्यमंत्री के पास है। लिहाज उम्मीदें बढ़ रही है कि मुख्यमंत्री मेहरबान होंगेे। मंत्री बनने के इच्छुकों में विधानपरिषद सदस्य भी शामिल हैं। मुख्यमंत्री के गृह जिले की बात की जाए तो यहां से मंत्री रहे चंद्रशेखर बावनकुले ने इस बार चुनाव नहीं लड़ा है। वे स्वयं कह रहे हैं कि उन्हें पार्टी ने संगठन की जिम्मेदारी दी है। लेकिन मुख्यमंत्री ने चुनाव सभा में कहा है कि बावनकुले को पहले से अधिक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मिलेगी। ऐसे में बावनकुले समर्थकों को लगता है कि बावनकुले को संगठन में प्रदेश स्तर पर बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती है। मुख्यमंत्री विशेषाधिकार का प्रयाेग करके बावनकुले को किसी महामंडल की जिम्मेदारी भी दे सकते हैं। नागपुर शहर से मंत्री बनने के इच्छुकों में कृष्णा खोपड़े व सुधाकर देशमुख 5 वर्ष इंतजार करते रह गए। खोपडे तीसरी बार जीते। देशमुख पराजित हुए हैं। ऐसे में खोपड़े व उनके समर्थकों की उम्मीद बढ़ गई है। सामाजिक न्याय के प्रश्न के साथ विकास कुंभारे के समर्थकों को भी कुछ शुभ समाचार मिलने की उम्मीद है। विधानपरिषद सदस्यों में अनिल सोले व गिरीश व्यास पहले से ही इंतजार की कतार में हैं। दोनों को तालिका सभापति के तौर पर विधानपरिषद में सभापति के आसन पर बैठने का मौका मिल चुका है। विधानपरिषद सदस्य रामदास आंबटकर का नाम भी चर्चा में है। चंद्रपुर-वर्धा क्षेत्र निकाय संस्था से विधानपरिषद में पहुंचे आंबटकर प्रदेश भाजपा में महत्चपूर्ण स्थान रखते हैं। संगठन महामंत्री है। यह भी कहा जा रहा है कि आंबटकर को मौका मिले तो खोपड़े की उम्मीद पर पानी फिर सकता है। आंबटकर,खोपड़े व बावनकुले एक ही समाज से संबंधित हैं। फिलहाल भाजपा से राज्यमंत्रिमंडल में सुधीर मुनगंटीवार, अशोक उइके, अनिल बोंडे, संजय कुंटे, मदन येरावार, परिणय फुके शामिल है। बोंडे, फुके पराजित हुए हैं। पिछली बार मंत्री बनने की आस में एक साल तक विदर्भ वैधानिक विकास मंडल का अध्यक्ष पद नहीं स्वीकारनेवाले चैनसुख संचेती भी मंत्री पद की आस नहीं छोड़ेंगे। अन्य इच्कुकों में  राजेंद्र पाटणी, प्रकाश भारसाकले , हरिश पिंपले, समीर कुणावार, पंकज भोयर व आकाश फुंडकर शामिल हैं। गोंदिया से निर्दलीय जीते विनोद अग्रवाल कभी भी भाजपा में लौट सकते हैं। स्वाभिमान पक्ष के रवि राणा भी मुख्यमंत्री के करीब है। दोनों मंत्रीपद के इच्छुक रहेंगे।

कमेंट करें
QyZ2L
NEXT STORY

डिजिटल इंडिया को गति देता रोहित मेहता का Startup Digital Gabbar

डिजिटल इंडिया को गति देता रोहित मेहता का Startup Digital Gabbar

डिजिटल डेस्क,भोपाल। "सफलता सिर्फ उनको नहीं मिलती जो सफल होने की इच्छा रखते है, सफल हमेशा वही होता है जो आगे बढ़ कर उन्हे पाने की चाहत रखते है।" ये उद्धहरण उनके लिए नहीं है जो आराम की जिंदगी को छोड़ कर बाहर नहीं निकालना चाहते, बल्कि ये उनपे लागू होती है जो निरंतर प्रयास करते रहते है।

इसी तर्ज पर चलते हुए, बिहार के पटना के शहर से आने वाले आईटी और तकनीक प्रेमी डबल मास्टर्स डिग्री धारी ने डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में उल्लेखनीय यात्रा शुरू की थी, लेकिन आज वो इस मुकाम पर पहुँचे जाएंगे उन्होंने ऐसा नहीं सोचा होगा, की कुछ साल बाद, वह उन युवाओं के लिए प्रेरणा बनेंगे जो digital content curation में करियर बनाने की इच्छा रखते हैं।

उक्त व्यक्ति और कोई नहीं, बल्कि प्रसिद्ध digital marketer रोहित मेहता हैं, जो एक ब्लॉगर के रूप में उत्कृष्ट हैं और एक प्रख्यात आईटी विशेषज्ञ हैं, जिन्होंने अपनी ज्ञानवर्धक ई-पुस्तकों के साथ दुनिया के साथ अपने ज्ञान को साझा करते हुए कई अहम भूमिकाएँ निभाई हैं।

एक दशक से अधिक की अवधि के लिए IT industry में काम करने के बाद, रोहित मेहता ने खुद को एक ऐसे tech blogger के रूप में प्रतिष्ठित किया है जो अपने पाठकों के साथ ऐसी तकनीकी ज्ञान को साझा करता है जो उन्हें बेहतर बेहतर बनने में मदद करती है।

हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओ में अपनी किताब को करने वाले रोहित ने ये साबित कर दिया है की डिजिटल मार्केटिंग केवल अंग्रेजी जानने वालों के लिए नहीं है। हिंदी में भी पढ़ कर आप इसे सिख सकते है ओर अपना करियर बन सकते है। इनकी सबसे अधिक लोकप्रिये बुक '15 Proven Secrets of Internet Traffic Mastery' है, जिसमे अपने अनलाईन बिजनस या ब्लॉग पर ट्राफिक (पाठक) लाने के 15 बेहतरीन तरीके बताए है।

आज, रोहित मेहता डिजिटल गब्बर (Digital Gabbar) नामक भारत के सबसे बड़े डिजिटल कंटेंट प्लेटफ़ॉर्म के संस्थापक संपादक हैं, एक अभूतपूर्व विज़न जिसका नेतृत्व डिजिटल उत्साही लोगों के एक समूह द्वारा किया जा रहा है।

जीवन में अपनी विभिन्न गतिविधियों पर रोहित के साथ बातचीत में, वे कहते हैं, " हर दूसरे आदमी की तरह, मैं भी इंटरनेट की दुनिया में नया था जब मैनें इसमे कदम रखा था। शुरू से ही कुछ नया सीखने और उसको साझा करने की चाहते ने मुझे ब्लॉगिंग में अपना करियर शुरू करने की प्रेरणा दी, तब से मैंने पीछे नहीं देखा हर एक नए सुबह के साथ इच्छा सकती मजबूत होती गई, Digital Gabbar शुरू करने से पहले बहुत से ब्लॉग/वेबसाइटें शुरू की मगर खुशी (kick) नहीं मिली”।

"डिजिटल गब्बर केवल एक ड्रीम प्रोजेक्ट नहीं है, बल्कि हमारे पाठकों के साथ जुड़ने का जरिया है जो किसी भी सीमा से परे है। हम ब्लॉगिंग, एफिलिएट से सम्बंधित टिप्स और ट्रिक्स की अपडेटेड जानकारी साझा करते हैं। जैसे : मार्केटिंग, एसईओ, ड्रापशीपिंग, सोशल मीडिया, ऑनलाइन मनी मेकिंग, गाइड्स, ट्यूटोरियल्स और बहुत कुछ।  

डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में एक उल्लेखनीय कैरियर का नेतृत्व करने के बाद, डिजिटल गब्बर की टीम लोकप्रिय डिजिटल मार्केटर्स, ब्लॉगर्स, YouTubers, उद्यमियों के साथ साक्षात्कार की एक श्रृंखला शुरू करने पर विचार कर रही है, ताकि भविष्य में डिजिटल इंडिया उनकी एक झलक दिखा सकें। जीवन की कहानियां जो प्रेरणा मिलती है वो सायद ही किसी और कार्य से मिलती होंगी।

रोहित मेहता के प्रमुख योगदान

आज दूरदर्शी रोहित मेहता ने डिजिटल मार्केटिंग, ब्लॉगिंग, एफिलिएट, एसईओ, ड्रापशीपिंग, सोशल मीडिया, ऑनलाइन मनी मेकिंग मे अनेकों गाइड्स और सुझावों इत्यादि अपने पाठकों के डिजिटल गब्बर पे बिल्कुल मुफ़्त में साझा करते है।

साथ ही अपने सोशल मीडिया अकाउंट के जरिए नए उधमियों को मुफ़्त मे सलाह भी साझा करते है। @bloggermehta से आप इन्हे फ़ेसबुक, इंस्टाग्राम,ट्विटर इत्यादि पे संपर्क कर सकते है।

गब्बर रोहित का लक्ष्य

अपने ब्लॉग डिजिटल गब्बर के अनुशार रोहित बताते है की उनका लक्ष्य सिर्फ जानकारी को साझा करना नहीं है, बल्कि डिजिटल इंडिया के युवाओ से उसको अमल भी करवाना चाहते है। ताकि आने वालों कुछ सालों में डिजिटल के क्षेत्र में इंडिया युवा पीढ़ी किसी से काम न रहे। यही कारण है की इन्होंने डिजिटल गब्बर की शुरुवात हिंदी और इंग्लिश दोनों भाषाओ में एक साथ की है।

https://www.digitalgabbar.com/ और https://www.digitalgabbar.in/ क्रमशः रोहित के इंग्लिश और हिंदी के ब्लॉग है।

साथ ही साथ रोहित मेहता ने अपने जैसे युवाओ और start-up को बढ़ावा देने के लिए Indian Gabbar के नाम से एक साइट शुरू किया है। Digital Gabbar सभी उधमी और startup को Indian gabbar के रूप में संबोधित करते हुए उनकी आर्टिकल को बिल्कुल मुफ़्त में साझा कर रहा है।

कोई भी इच्छुक व्यक्ति या संस्थान आपनी कहानी प्रकाशित करने के लिए Indian Gabbar से संपर्क करें।