सतर्कता बरतें: रोज सामने आ रहे ब्लैकमेलिंग के मामले, सक्रिय हैं साइबर अपराधी

January 16th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर। स्मार्ट फोन ने सब कुछ आसान तो कर दिया है, लेकिन हर रोज नई-नई मुसीबतें भी सामने आ रही हैं। कोरोना महामारी के कारण बच्चों की ऑनलाइन क्लास चल रही है। ऐसे में शहर के विभिन्न थानोे में  बच्चों से संबंधित नए-नए मामले सामने आ रहे हैं। हाल ही में एक मामला आया, जिसमें साइबर अपराधी द्वारा छात्रा को ब्लैकमेल किया जा रहा था। अपराधी छात्रा को अश्लील फोटो वायरल करने की बात पर धमका रहा था। यह केवल एक मामला नहीं है, बल्कि इस तरह के कई मामले हर रोज आ रहे हैं। कभी बच्चों के न्यूड फोटो शेयर का मामला, तो कभी स्कूल की लिंक दूसरी जगह शेयर करने के कारण परेशानी। बच्चों के साथ ब्लैकमेलिंग के मामले भी सामने आ रहे हैं। पिछले वर्ष के आंकड़ों पर नजर डालें तो साइबर थाने में  बच्चों से संबंधित शिकायत के कई मामले सामने आए है, जिसमें साइबर अपराधी बच्चों के साथ ब्लैकमेलिंग करते हैं।

केस-1 : पैसे नहीं देने पर न्यूड फोटो शेयर करने की धमकी  

15 वर्षीय एक छात्रा ने किसी लिंक पर क्लिक कर दिया था। उसके बाद साइबर अपराधी उससे ब्लैकमेलिंग करने लगे। छात्रा से उसका वॉट्सएप नंबर मांगा। फिर बातों का सिलसिला शुरू हुआ। छात्रा से पैसे की डिमांड की, जब उसने मना किया तो उसकी न्यूड फोटो शेयर करने की बात कही। इससे छात्रा घबरा गई और उसने अपने माता-पिता से इसकी शिकायत की। माता-पिता ने इसकी शिकायत थाने में दर्ज कराई। 

केस-2 : लिंक शेयर करने का उठाया फायदा

एक स्कूल का भी मामला आया, जिसमें किसी छात्र ने स्कूल की लिंक दूसरे किसी ग्रुप पर शेयर कर दी। साइबर अपराधियों ने इसका फायदा उठाया। स्कूल के ग्रुप में गलत तरह की फोटो और मैसेज शेयर कर दिए। इसके बाद स्कूल प्रशासन की तरफ थाने में शिकायत भी की गई। 

अभिभावकों को विशेष ध्यान देने की जरूरत

केशव वाघ, सहायक पुलिस निरीक्षक, साइबर थाना के मुताबिक कोरोना महामारी के कारण बच्चों की ऑनलाइन क्लास चल रही है। ऐसे में अभिभावकों को बच्चों की तरफ ध्यान देना आवश्यक है कि बच्चा पढ़ाई के साथ अन्य कुछ तो नहीं कर रहा है। अभिभावकों को भी अपनी सर्च हिस्ट्री मोड ऑफ कर देना चाहिए। कई बार बच्चे उत्सुकतावश सर्च हिस्ट्री में जाकर सर्च कर देते हैं, जिससे परेशानी होने लगती है। साइबर अपराधी बहुत सक्रिय हैं। उनसे बचने की जरूरत है। बच्चों पर माता-पिता को ध्यान देने की जरूरत है।