दैनिक भास्कर हिंदी: बैंक धोखाधड़ी के मामले में सीबीआई ने दर्ज की भाजपा नेता के खिलाफ एफआईआर, पांच जगहों पर छापेमारी 

June 17th, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने मुंबई भाजपा के महासचिव मोहित कंबोज समेत कुछ और लोगों के खिलाफ बैंक से 57 करोड़ रुपए से ज्यादा की धोखाधड़ी के आरोप में एफआईआर दर्ज की है। इस मामले में सीबीआई ने पांच ठिकानों पर छापेमारी भी की है। छापेमारी के दौरान संपत्ति से जुड़े दस्तावेज, बैंक खातों से जुड़ी जानकारी और बैंक लॉकर की चाबियां बरामद की गई है। वहीं मामले में सफाई देते हुए कंबोज ने कहा है कि उन्होंने बैंक को पैसे लौटा दिए हैं और उन्हें नहीं मालूम कि अब मामले की शिकायत क्यों की गई है। बैंक ऑफ इंडिया की शिकायत के आधार पर अव्यान ओवरसीज प्राइवेट लिमिटेड और एमकेजे होटल्स गोवा प्राइवेट लिमिटेड कंपनियों और उनके पदाधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। बता दें की अव्यान ओवरसीज प्राइवेट लिमिटेड का नाम बदलकर अब बांग्ला ओवरसीज प्राइवेट लिमिटेड कर दिया गया है और मोहित कंबोज इसके प्रबंध निदेशक है। मामले में जितेंद्र कपूर, सिद्धांत बागला, इरतेश मिश्रा नाम के कंपनी के निदेशकों और कुछ अनजान सरकारी व बैंक अधिकारियों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है। आरोप है कि व्यापार के नाम पर कंबोज ने 60 करोड़ रुपए का कर्ज लिया और उसमें से 22 करोड़ रुपये से पत्नी के नाम बांद्रा में घर खरीद लिया। बैंक का दावा है कि हेरफेर और धोखाधड़ी के चलते उसे 57 करोड़ 26 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। बता दें कि कंबोज दिंडोशी विधानसभा सीट से साल 2014 में भाजपा की टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़े थे। 353 करोड़ की संपत्ति के साथ वे सबसे धनवान उम्मीदवार थे। 

चुका दिया है कर्ज-मोहित

इस मामले में मोहित कंबोज ने मामले में सफाई देते हुए कहा है कि साल 2018 में 30 करोड़ रूपए एकमुश्त देकर मैंने बैंक से समझौता कर लिया था। मार्च 2019 में बैंक ऑफ इंडिया ने नो ड्यू सर्टिफिकेट भी दिया था। मुझे नहीं पता पैसे चुकाने के ढाई साल बाद बैंक ने मामले की शिकायत क्यों की। उन्होंने गलती की है जांच एजेंसी पर मुझे पूरा भरोसा है और जांच में मैं पूरा सहयोग करूंगा।