दैनिक भास्कर हिंदी: चुनाव के दौरान शराब की दुकानों पर रहेगी सीसीटीवी कैमरों की नजर, भिवंडी से 10 लाख बरामद

September 27th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। चुनावों के दौरान शराब की दुकानों पर सीसीटीवी कैमरे के जरिए नजर रखी जाएगी। इसके लिए कुल 30 हजार सीसीटीवी कैमरों का इस्तेमाल किया जाएगा। साथ ही सभी शराब की दुकानों को कम से कम एक महीने का रिकॉर्ड रखना होगा जिससे इस बात की जांच की जा सके कि आदर्श चुनाव आचार संहिता के दौरान भारी मात्रा में शराब तो नहीं बेंची गई। केंद्रीय चुनाव आयोग ने जिलाधिकारी कार्यालयों को चुनाव के दौरान शराब की दुकानों से जुड़े नए नियम की जानकारी दी है। मुंबई शहर के जिलाधिकारी शिवाजी राव जोंधले के मुताबिक शहर की सभी शराब की दुकानों के लिए सीसीटीवी कैमरे अनिवार्य कर दिए गए हैं। सिर्फ मुंबई शहर में ही शराब की 11 हजार दुकानें हैं। अधिकारियों को उम्मीद है कि सीसीटीवी कैमरों के डर से राजनीतिक दल वोटरों को लुभाने के लिए शराब का इस्तेमाल करने से परहेज करेंगे। जोंधले के मुताबिक मुंबई में मतदाताओं को शराब के जरिए लुभाने के मामले नहीं सामने आते फिर भी चुनाव आयोग के निर्देशों का पालन किया जा रहा है। उड़नदस्ते शराब की दुकानों पर लगे सीसीटीवी कैमरों की नियमित जांच करेंगे। इसके अलावा आसपास लगे कैमरों के जरिए मुंबई पुलिस भी सेंट्रल सिस्टम की मदद से शराब की दुकानों पर नजर रखेगी। राज्य उत्पाद शुल्क विभाग के अधिकारी भी शराब की दुकानों की पिछले महीनों में हुई बिक्री की जांच कर औसत बिक्री से जुड़ी जानकारी लेंगे फिर उसकी चुनावी महीने से तुलना की जाएगी। जोंधले के मुताबिक अगर बिक्री में बहुत अंतर दिखा तो कार्रवाई की जाएगी। दुकान का लाइसेंस भी रद्द किया जा सकता है। 

भिवंडी से चुनाव आयोग ने बरामद किए 10 लाख

महानगर से सटे भिवंडी इलाके में चुनाव आयोग की टीम ने 10 लाख रुपए नकद बरामद किए हैं। एक वाहन की तलाशी के दौरान यह रकम मिली। वाहन चालक नकदी के बारे में ब्योरा नहीं दे सका जिसके बाद उसे जब्त कर लिया गया। विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लगने के बाद ठाणे जिले में नकदी जब्त करने का यह पहला मामला है। चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद चुनाव आयोग के विशेष उड़न दस्ता भिवंडी के चावीन्द्रा इलाके में वाहनों की तलाशी ले रहा था। इसी दौरान मुंबई की ओर से आ रही एक कार को रोका गया और उसकी तलाशी ली गई। तलाशी के दौरान कार में 10 लाख रुपए नकद मिले। कार चला रहे सुरेश धर्माणी से टीम ने पैसे के बारे में पूछताछ की तो वह संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया। इसके बाद 137 भिवंडी पूर्व के चुनाव निर्णय अधिकारी डॉ मोहन नलदकर ने बरामद रकम जब्त कर ट्रेजरी में जमा करने का आदेश दिया। आचार संहिता नोडल अधिकारी पंढरीनाथ वेखंडे की अगुआई में आचार संहिता पथक, विशेष जांच दल और पुलिस ने संयुक्त रुप से यह कार्रवाई की।