comScore

पाटील की सीएम उद्धव को चुनौती - बाला साहब को हिंदू हृदय सम्राट कह कर दिखाएं 

पाटील की सीएम उद्धव को चुनौती - बाला साहब को हिंदू हृदय सम्राट कह कर दिखाएं 

डिजिटल डेस्क, मुंबई। प्रदेश में धार्मिक स्थलों को खोलने के संबंध मेंराज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी के पत्र पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की ओर से दिए गए जवाब को लेकर भाजपा ने मुख्यमंत्री की आलोचना की है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील ने कहा कि मुख्यमंत्रीको हिंदुत्व सिखाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री में हिम्मत है, तो वह शिवसेना प्रमुख दिवंगत बालासाहब ठाकरे को "हिंदू हृदय सम्राट’ कहकर संबोधित करें। मंगलवार को राज्य के मंदिर समेत सभी धार्मिक स्थलों को खोलने के लिए भाजपा ने प्रदेश भर में आंदोलन किया। पाटील ने अहमदनगर के शिर्डी में आयोजित एक दिवसीय सांकेतिक उपवास करने वाले संत-महंतों और पार्टी के कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। पाटील ने कहा कि राज्यपाल के पत्र के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा है कि मुंबई को पीओके कहने वाली अभिनेत्री कंगना रनौत का स्वागत करने वाले मुझे हिंदुत्वन सिखाए।लेकिन मैं कहता हूं कि मुख्यमंत्री को हिंदुत्व सिखने की आवश्यकता पैदा हो गई है। इसकी शुरुआतआपके घर से  होती है।पाटील ने कहा कि मुख्यमंत्री अब अपने पिता तथा शिवसेना प्रमुख दिवंगत बालासाहब ठाकरे को हिंदू हृदय सम्राट बोलना छोड़ दिया है। पहलेहिंदू हृदय सम्राट स्वर्गीय बालासाहब ठाकरेकहा जाता था लेकिन अब हिंदू हृदय सम्राट शब्द को निकाल दिया गया है। इसकी जगह पर माननीय और वंदनीय बालासाहब ठाकरेकहते हैं। यदि मुख्यमंत्री मेंहिम्मत है तो हर भाषण की शुरुआत में हिंदू हृदय सम्राट स्वर्गीय बालासाहब ठाकरे कहें। पाटील ने कहा कि कांग्रेस ने अपनी किताब में वीर सावरकर को समलैंगिक कहा। बालासाहब ठाकरे होते तो वीर सावरकर के खिलाफत करने वालों के मुंह पर तमाचा मार देते लेकिन मुख्यमंत्री ने कुछ नहीं किया।पाटील ने कहा कि देश की 130 करोड़ जनसंख्या में से 100 करोड़ लोगों को अपने प्रार्थना स्थलों में जाना है। आप लोगों को प्रार्थना स्थलों में जाने से रोकने वाले कौन है?

अजित पवार पर फिर बिफरे पाटील

भाजपा नेता पाटील एक बार फिर से उपमुख्यमंत्री अजित पवार पर बिफर पड़े। पाटील ने कहा कि उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने आषाढी एकादशी के मौके पर पंढरपुर में स्थित भगवान विट्ठल और देवी के मंदिर में वारकरियों की पालखी सात हेलीकॉप्टर से भेजने की घोषणा की थी। लेकिन बाद में एसटी बसों से पालखी भेजी गई। मैंने उसी दिन कहा था कि ओ पवार आपको पता है क्या पंढरपुर कितना बड़ा है?सात हेलीकॉप्टर कहां उतर सकेगा। इससे पहले पाटील ने उपमुख्यमंत्री की ओर इशारा करते हुए था कि हम आपके बाप हैं। एक दिन पहलेपाटील ने पवार का नाम लिए बिना कहा था किकिसानों की उपज उनके बाप की जागीर है क्या?

सिद्धिविनायक मंदिरके बाहर आरती

विधान परिषद में विपक्ष के नेता प्रवीण दरेकर के नेतृत्व में भाजपा के पदाधिकारियों ने सांकेतिक अनशन किया। इस दौरान भाजपा के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं ने सिद्धिविनायक मंदिर मेंघुसने का प्रयास किया। हालांकि पुलिस ने पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को मंदिर के प्रवेश द्वार पर रोक लिया है। दरेकर ने कहा कि सरकार का दिमाग ठिकाने पर नहीं है। सरकार ने शराब की दुकान खोला है लेकिन मंदिर खोलने की अनुमति नहीं दी जा रही है। 

राज्यपाल की भूमिका सहीः प्रकाश आंबेडकर

वंचित बहुजन आघाडी के नेता प्रकाश आंबेडकर ने राज्यपाल की भूमिका का समर्थन करते हुए कहा कि राज्यपाल केंद्र के फैसले के पालन को लेकर राज्य सरकार से सवाल पूछ सकते हैं। उन्होंने कहा कि मंदिर खोलने को लेकर राज्यपाल के पत्र का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने मंदिर खोलने की बात छोड़ कर हिंदुत्व पर बोलने लगे। आंबेडकर ने कहा कि मुख्यमंत्री को ऐसी भाषा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए था। 

चंद्रकांत पाटील का पवार परिवार पर फिर निशाना, बोले - इनके बाप की जागीर है क्या

इससे पहले सोमवार को चंद्रकांत पाटील ने पवार परिवार पर फिर निशाना साधा था। भाजपा ने केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के समर्थन में पुणे के दौंड में ट्रैक्टर यात्रा निकाली थी। इस दौरान पाटील ने कहा था कि राज्य सरकार द्वारा कृषि कानूनों को लागू करने के लिए रोक लगाने के बाद बारामती कृषि बाजार समिति ने फतवा जारी किया है कि मंडी के बाहर कृषि उपज बेचने वाले किसानों से सेस वसूला जाएगा। यह इनके बाप की जागीर है क्या है? पाटिल ने कहा था कि हम राज्य सरकार के फैसले के खिलाफ अदालत जाएंगे। कृषि कानूनों को लागू करने के लिए राज सरकार द्वारा लगाई गई रोक को हटाएंगे। पाटील ने कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्रैक्टर जलाया। इसके जवाब में भाजपा ने ट्रैक्टर यात्रा निकाली है। राहुल को किसानों, खेती और हल के बारे में समझ नहीं है। ट्रैक्टर और हल किसानों के जीवन जीने का साधन है। उसको जला कैसे सकते हैं? 

इससे पहले पुणे मनपा में वैधानिक समितियों के चुनाव में अधिकांश जगहों पर भाजपा के कब्जे के बाद पाटील ने उपमुख्यमंत्री अजित पवार की ओर इशारा करते हुए कहा था कि हम उनके बाप हैं। इसके जवाब में राकांपा के नेताओं ने कहा था कि पुणे मनपा के आगामी चुनावों में पता चल जाएगा कि कौन किसका बाप है। इस पर पाटील ने कहा था कि अगर हिम्मत है तो राकांपा आगामी मनपा और विधान सभा चुनाव बिना गठबन्धन के लड़ें।
 
 

कमेंट करें
DpSCO