दैनिक भास्कर हिंदी: चौरई और तोतलाडोह डैम हुआ लबालब , नागपुर को राहत

September 4th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर । छिंदवाड़ा जिले का माचागोरा (चौरई) बांध अगस्त में ही लबालब हो गया। 15 अगस्त से अब तक लगातार गेट खोलकर पानी छोड़ने की स्थिति बन रही है। अब तक बांध के गेटों को खोलकर 295 एमसीएम मिलियन क्यूबिक मीटर पानी छोड़ा जा चुका है। इसका सीधा फायदा तोतलाडोह बांध को मिल रहा है। पिछले तीन साल से अपनी खुराक पूरी नहीं कर पा रहा तोतलाडोह डैम इस बार 42 फीसदी तक भर गया है। डैम का लाइव स्टोरेज बढ़कर 429  मिलियन क्यूबिक मीटर तक पहुंच गया है। खास बात यह कि इतना पानी पिछले 20 दिनों में डैम में पहुंचा है। 15 अगस्त तक तोतलाडोह में महज 3 फीसदी पानी था। 

पिछले साल 28 फीसदी ही भर पाया था तोतलाडोह  
पिछले साल तोतलाडोह डेम 28 फीसदी ही भर पाया था, जबकि माचागोरा बांध 93 प्रतिशत तक भर पाया था। कम बारिश की वजह से पिछले साल माचागोरा में एक बार भी गेट खोलने की नौबत नहीं आई थी। इस बार गेट खुले तो इसका असर तोतलाडोह के जलस्तर पर नजर आ रहा है। 

नागपुर को पेयजल के लिए 155 एमसीएम पानी की जरूरत 
नागपुर शहर को पेयजल के लिए साल भर में 155 एमसीएम पानी की जरूरत होती है। पिछले साल कम बारिश और तोतलाडोह डैम के न भर पाने की स्थिति में नागपुर शहर को जलसंकट का सामना करना पड़ा। बारिश के दिनों में भी वहां एक दिन के अंतराल में बमुश्किल पानी सप्लाई की गई। अब 1 सितंबर से रेग्यूलर सप्लाई की व्यवस्था बनाई गई है। 

फिर खोले दो गेट, 50-50 क्यूमेक्स पानी छोड़ रहे हैं
मंगलवार शाम को भी माचागोरा बांध के दो गेट खोलकर 50-50 क्यूबिक मीटर प्रति सेकंड पानी छोड़ा जा रहा है, जबकि सोमवार की रात को चार गेट खोलकर करीब 700 क्यूबिक मीटर प्रति सेकंड पानी छोड़ा गया था। डैम का जलस्तर 627.17 पर मेनटेन किया जा रहा है। डैम में 393  एमसीएम पानी जमा हो चुका है। 

कन्हरगांव डेम में बन सकती है ओवरफ्लो की स्थिति
छिंदवाड़ा शहर की प्यास बुझाने वाला कन्हरगांव बांध भी इस बार ओवरफ्लो की स्थिति में पहुंच रहा है। पिछले साल सूखे रहे बांध का जलस्तर इस बार अब तक 413.22 मीटर पर पहुंच गया है। महज 58 सेंटीमीटर भरना शेष है। उम्मीद जताई जा रही है कि आने वाले एक सप्ताह में डैम ओवरफ्लो की स्थिति में आ सकता है और तब बेस्ट बीयर से पानी छोड़ने की स्थिति बन सकती है।