दैनिक भास्कर हिंदी: भारिया सम्मेलन में मुख्यमंत्री के पिटारे से निकले सांस्कृतिक केंद्र और एकलव्य विद्यालय

April 7th, 2018

डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा/ तामिया। पातालकोट के भारिया सम्मेलन में शामिल होने आए प्रदेश के मुखिया शिवराजसिंह चौहान ने शुक्रवार को सौगातों का पिटारा खोल दिया। सम्मेलन से घोषणा करते हुए मुख्यमंत्री ने छिंदवाड़ा में भारियाओं की संस्कृति को जिंदा रखने के लिए सांस्कृतिक केंद्र खोलनेऔर तामिया में भारियाओं के लिए एकलव्य विद्यालय खोलने की घोषणा की।
 मुख्यमंत्री ने सबसे पहले बरगद के पेड़ की पूजा करते हुए कार्यक्रम की शुरुआत की। सम्मेलन को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पातालकोट की अद्भुत दुनिया है। ये प्रदेश भर के भारिया जनजाति की राजधानी है। आज भारिया समाज का महाकुंभ यहां भरा हुआ है, मेरा संकल्प है कि समाज के पिछड़े से पिछड़े वर्ग के लोगों तक विकास को पहुंचाऊं ।
सीएम की ग्यारह घोषणाएं
वनाधिकार:  जिसके पास जंगल की जमीन पर कब्जा है उन्हे वहां का रहवासी बनाया जाएगा। ग्राम सभा के प्रस्ताव पर भारियाओं को पट्टा आवंटित किया जाएगा।
खाद-बीज:  वनाधिकार के पट्टा धारकों को खाद, बीज और लोन की सुविधा भी सरकार देगी। मैं खुद आकर मॉनीटरिंग करूंगा।
पक्का मकान: जिन भारियाओं के पास घास फंूस की झोपड़ी है। उन्हें दो सालों के भीतर पक्का मकान बनाकर सरकार देगी।
बिजली:  पातालकोट के हर गांव में बिजली पहुंचाई जाएगी। अक्टूबर के पहले ये काम एमपीईबी के अधिकारियों को करना होगा।
अनाज: एक रुपए किलो पर हर भारियाओं को गेहूं, चावल और नमक दिया जाएगा। बीपीएल कार्ड की बाध्यता नहीं होगी।
इलाज: हर भारिया का मेडिकल चेकअप होगा। गंभीर बीमारी पर इलाज का खर्चा सरकार देगी।
प्रशिक्षण: भारिया जनजाति के बच्चों को बारहवीं पास होने पर मुफ्त में आईटीआई का प्रशिक्षण सरकार दिलाएगी।
लोन: सीएम उद्यमी योजना के तहत भारिया बेरोजगारों को टारगेट करते हुए उन्हें 50 हजार से लेकर 10 लाख तक का लोन दिया जाएगा।
कंप्यूटर प्रशिक्षण: भारिया बच्चों को सरकार मुफ्त कंप्यूटर प्रशिक्षण दिलाएगी। ताकि वे कंप्यूटर का ज्ञान हासिल कर सकें।
एएनएम भर्ती: बारहवीं पास करने वाली युवतियों को एएनएम का प्रशिक्षण देते हुए उन्हे रोजगार दिलाया जाएगा।
सहायता: हर भारिया महिला को एक हजार रुपए प्रतिमाह दिया जाएगा। ताकि वे घर का संचालन कर सकें।
भास्कर के मुद्दे छाए, सीएम ने की घोषणा
पिछले दिनों दैनिक भास्कर द्वारा भारिया जनजाति से संबंधित समस्याओं का मुद्दा उठाया गया। उन मुद्दों को ध्यान में रखते हुए सीएम ने मंच से घोषणा की।
भाषाई शिक्षक: भारियाओं के भाषाई शिक्षकों को यहां बंद कर दिया गया। पहले 11 शिक्षक थे। सीएम ने घोषणा करते हुए 18 शिक्षकों की भर्ती करने की घोषणा की।
पानी की समस्या: पातालकोट में सबसे बड़ी समस्या पानी की थी। जिस पर सीएम ने भारिया बस्तियों में पेयजल उपलब्ध कराने और हेंडपंप और 1 हॉर्स पावर की मोटर लगाने के निर्देश दिए हैं।
ये भी की घोषणा
- महुआ के फूल 30 रुपए किलो खरीदे जाएंगे।
- अचार की चिरोंजी 150 रुपए प्रति किलो खरीदी जाएगी।
- तेंदुपत्ता प्रति बोरा 1250 की जगह 2000 रुपए के हिसाब से खरीदी जाएगी।
- 60 से कम उम्र के भारिया की असामयिक मौत पर 2 लाख, एक्सीडेंटल मौत पर 4 लाख और अपंगता पर 2 लाख दिए जाएंगे। इसके अलावा अंतिम संस्कार के लिए भी 5 हजार की राशि दी जाएगी।
झलकियां
-भारियाओं के परंपरागत मुकुट पहनाकर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान और उनकी धर्मपत्नी का स्वागत किया गया।
- मुकुट पहनाने के बाद सीएम की पत्नी ने मंच से ही एक दूसरे की सेल्फी ली।
- मंच से कलेक्टर कमिश्नर ओर वनविभाग के अधिकारियों को बुलाकर दो महीने में वनाधिकार पट्टे बनाने के निर्देश दिए।
- बिजली की समस्या को लेकर एमपीईबी के अधीक्षण यंत्री को चार बार बुलाया और मंच से ही जवाब-तलब करते हुए बिजली विस्तार की जानकारी ली।