दैनिक भास्कर हिंदी: यूपी में फिल्मसिटी की घोषणा पर कांग्रेस ने उठाए सवाल, सावंत ने कहा - बिहार डीजीपी पांडेय को भाजपा देगी महाराष्ट्र की बदनामी का इनाम

September 23rd, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी की महाराष्ट्र की छवि धूमिल करने व राष्ट्रीय स्तर पर उसके महत्व को कम करने की चाल उजागर हो गई है। उन्होंने कहा कि मुंबई पुलिस की छवि को धूमिल करनेवाले बिहार के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडे का स्वेच्छा सेवा निवृत्ति (वीआरएस) का आवेदन मंजूर होना इसका संकेत है। इसमें कोई संदेह नहीं भाजपा जल्द ही उन्हें और भी बड़ा ईनाम दे सकती है। क्योंकि बीजेपी ने सुशांत सिंह मामले के जरिए बॉलीवुड को बदनाम करने की जो साजिश रची थी। उसमें पांडे ने अपनी भूमिका बखूबी निभाई है। इसलिए इसके एवज में कोई  बड़ा ईनाम पा सकते है।

सावंत ने कहा कि वीआरएस से पहले अधिकारी को तीन महीने पहले नोटिस देना जरूरी है लेकिन पांडे के वीआरएस आवेदन को तुरंत मंजूर कर लिया गया। इस दौरान उन्होंने सुशांत मामले की जांच कर रही सेंट्रल एजेंसी की जांच पर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि नारकोटिक्स कंट्रोल बयूरो (एनसीबी) का कार्यालय पहले से मुंबई में है बॉलीवुड भी मुंबई में है फिर कथित ड्रग्स मामले की जांच अब तक क्यों नहीं कि गई? प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के कहने पर एनसीबी ने जांच शुरू की। पहली एफआईआर में उसने कोई गिरफ्तारी नहीं की जो सुशांत मामले को लेकर थी। सारी गिरफ्तारी दूसरी एफआईआर में कई गई ऐसा क्यों? 

सावंत ने कहा कि भाजपा को सुशांत से कोई सहानुभूति नहीं है।वह सुशांत मामले का इस्तेमाल बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान करना चाहती है। इस मामले की आड़ में राष्ट्रीय स्तर पर मोदी सरकार की विफलताओं को छुपाया जा रहा है और मुख्य मुद्दों से लोगों का ध्यान भटकाया जा रहा है। इसलिए बॉलीवुड को निशाना बनाया जा रहा है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी द्वारा हाल ही में यूपी में बड़ी फ़िल्म सिटी बनाने की घोषणा कोई संयोग नहीं है। 
 
 

खबरें और भी हैं...