• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Contract worker killed by falling from tree - dangerous work being done without providing safety equipment

दैनिक भास्कर हिंदी: पेड़ से गिरे ठेका श्रमिक की मौत- बिना सुरक्षा उपकरण दिए कराए जा रहे खतरनाक काम

October 21st, 2019

डिजिटल डेस्क  जबलपुर। पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण केंद्र के विजय नगर संभाग में शनिवार को पेड़ से गिरने के कारण घायल हुए ठेका श्रमिक की देर रात इलाज के दौरान मौत हो गई। इस हादसे के बाद साथी कर्मचारियों ने अधिकारियों पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उनका आरोप है कि अगर कर्मचारियों को संसाधन मुहैया कराया जाए तो इस तरह के हादसे न हों, मगर फील्ड कर्मचारियों को सभी उपकरण और संसाधन उपलब्ध नहीं कराए जा रहे हैं।घटना के संबंध में बिजली कर्मचारियों ने बताया कि विजय नगर संभाग के अंतर्गत कृषि उपज मंडी के समीप सहायक यंत्री द्वारा 11 केवी लाइन में मेंटेनेंस कार्य कराया जा रहा था। इस दौरान समीप ही एक पेड़ की डाल काटने के लिए ठेका श्रमिक अभिषेक विश्वकर्मा को चढ़ाया गया। बताया जाता है कि डाल काटने के दौरान अचानक उसका पैर फिसल गया, जिससे वह श्रमिक करीब 15 फीट की ऊँचाई से सिर के बल जमीन पर आ गिरा। घायल कर्मचारी को साथी कर्मचारी तत्काल ही समीप के निजी अस्पताल ले गए। सिर में गंभीर चोट आने के कारण उसे आईसीयू में भर्ती कराया गया था। बताया जाता है कि रात करीब 11 बजे इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। 
परिजन छिंदवाड़ा रवाना
 बताया जाता है कि युवक के घायल होने की सूचना मिलते ही परिजन भी अस्पताल पहुँच गए थे। उक्त कर्मचारी अभिषेक विश्वकर्मा मूलत: छिंदवाड़ा का ही रहने वाला है जो यहाँ कार्य कर रहा था। देर रात उसकी मौत के बाद रविवार की सुबह उसका पीएम हुआ और परिजन शव लेकर छिंदवाड़ा रवाना हो गए।
संसाधन के अभाव में हादसे
 तकनीकी कर्मचारी संघ के हरेंद्र श्रीवास्तव, एसके मौर्य, राजकुमार सैनी, शशि उपाध्याय सहित अन्य का कहना है कि अधिकारियों की लापरवाही के कारण ही लगातार हादसे हो रहे हैं। किसी भी डिवीजन में पर्याप्त उपकरण नहीं हैं। सीढ़ी तो पूरी तरह से गायब हो गई है। अगर सीढ़ी होती तो उक्त कर्मचारी को इतनी ऊँचाई पर पेड़ पर चढऩे की नौबत नहीं आती। इन कर्मचारियों का कहना है कि लाइन कर्मचारी भी लगातार अधिकारियों से उपकरणों की कमी बता रहे हैं, मगर कोई सुनवाई ही नहीं हो रही है। तकनीकी कर्मचारियों ने इस हादसे में मृत श्रमिक के परिजन को कंपनी द्वारा आर्थिक सहायता मुहैया कराने की भी माँग की गई है।