comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

नीचे आया कोरोना ग्राफ : महाराष्ट्र में एक दिन में सिर्फ 2535 मामले. जानिए - विदर्भ की स्थिति

नीचे आया कोरोना ग्राफ : महाराष्ट्र में एक दिन में सिर्फ 2535 मामले. जानिए - विदर्भ की स्थिति

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राज्य में कोरोना संक्रमण के बढ़ने की दर लगातार कम हो रही है। महाराष्ट्र सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक सोमवार को राज्य में कोरोना संक्रमण के 2535 मामले सामने आए जो मई महीने के बाद सबसे कम हैं। इसके अलावा 3001 लोग संक्रमण को मात देने में कामयाब रहे और रिकवरी रेट बढ़कर 92.49 फीसदी पहुंच गया। राज्य में 60 और लोगों की कोरोना संक्रमण के चलते मौत हुई है। कोविड के चलते राज्य में मृत्युदर 2.63 फीसदी है। सोमवार को राज्य में कोरोना संक्रमण के एक्टिव मामले 84 हजार 386 थे। अब तक राज्य में 17 लाख 49 हजार 777 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 16 लाख 18 हजार 380 लोग बीमारी को मात दे चुके हैं जबकि कोरोना संक्रमण के चलते राज्य में 46 हजार 34  लोगों की जान जा चुकी है। 977 मरीज ऐसे भी रहे जो कोरोना संक्रमित तो थे लेकिन उनकी जान दूसरी बीमारियों के चलते चली गई।

मुंबई में भी राहत

देश के सर्वाधिक कोरोना ग्रस्त मुंबई में भी कोरोना संक्रमण की रफ्तार घट रही है और सोमवार को यहां सिर्फ 409 पॉजिटिव केस मिले जबकि 12 मरीजों की कोरोना संक्रमण के चलते जान गई। महानगर में अब तक 2 लाख 70 हजार 119 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं जबकि 10 हजार  585 लोगों की इस बीमारी के चलते जान चली गई है। राज्य में अब तक 95 लाख 36 हजार 182 मरीजों की कोरोना संक्रमण के लिए जांच की गई जिनमें से 18.11 फीसदी मामले पॉजिटिव पाए गए हैं। कोरोना संक्रमित मरीजों के संपर्क में आने वालेे 10 लाख 11 हजार 4 लोग फिलहाल होम कोरेंटाईन में हैं जबकि 6980 लोगों को विभिन्न कोरेंटाईन सेंटर में रखा गया है। नागपुर जिले में अब तक 1 लाख 7 हजार 439 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं जिनमें से 2 हजार 842 लोगों की कोरोना संक्रमण के चलते जबकि 15 की दूसरी बीमारियों के चलते जान जा चुकी है। जिले में फिलहाल एक्टिव मरीजों की संख्या 2977 है।

लगातार घट रही है कोरोना संक्रमण की रफ्तार

दिन                   नए कोरोना संक्रमण                     मौत             ठीक हुए

5 अक्टूबर                   10244                              263              12982

15 अक्टूबर                  10226                             337             13714

18 अक्टूबर                   9060                              150             11204

22 अक्टूबर                  7539                               198             16177

25 अक्टूबर                  6059                              112                5648

10 नवंबर                     3711                               46               10769

16 नवंबर                    2535                                60                3001  

नागपुर में कोरोना को हराने वाले एक लाख के करीब

नागपुर की बात करें तो लगातार कम होते कोरोना संक्रमितों की संख्या ने शहर सहित जिलावासियों को बड़ी राहत दी है। सोमवार को जिले में 114 नये पॉजिटिव मरीज मिले। 7 की मौत हुई तो 155 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। मरीज कम आने के साथ टेस्टिंग की संख्या में भी लगातार कमी आती दिख रही है। दिवाली के पहले रोजाना 4 से 5 हजार होने वाली टेस्टिंग पिछले तीन दिनों में 1500 से 2 हजार के अासपास पहुंच गई है। सोमवार को 1505 लोगों की टेस्टिंग की गई। जिसमें 114 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। अच्छी बात यह कि अब डिस्चार्ज होने वालों का आंकड़ा एक लाख के करीब पहुंच चुका है यानी ये लोग कोरोना जैसे घातक वायरस को हरा चुके है। सोमवार तक कुल 99 हजार 988 लोग स्वस्थ होकर अपने घर पहुंचे है। मंगलवार को यह आंकड़ा एक लाख के पार पहुंचने की संभावना जताई गई है। सितंबर में अपने चरम पर पहुंचने के बाद कोरोना संक्रमितों के आंकड़े लगातार कम होते दिख रहे है। सितंबर में यह आंकड़ा 2500 के करीब पहुंच चुका था। जिसे लेकर नागरिकों में दहशत का वातावरण रहा। अस्पतालों में बेड नहीं मिलने से मौतों की संख्या भी तेजी से बढ़ी थी। फिलहाल 20 सितंबर के बाद इसमें कमी आनी शुरु हुई। फिलहाल आंकड़े अब 200-300 के आसपास स्थिर है। अब तक नागपुर में 6 लाख 95 हजार 524 लोग अपनी कोरोना टेस्ट करा चुके है। इसमें से 1 लाख 6 हजार 561 लोग पॉजिटिव पाए गए है। 3535 मरीजों की मौत हो चुकी है। अभी नागपुर जिले में 3048 मरीज एक्टिव है।

गड़चिरोली में 29 नए मामले

गड़चिरोली जिले में सोमवार को कोरोना के 29 नए मामले सामने आए तथा एक मरीज की मृत्यु हो गई। अब तक यहां 6918 मरीज पाए गए हैं तथा कोरोना से कुल 70 लोगों की मौत हो चुकी है। 

चंद्रपुर में 2 मृत, 71 संक्रमित 

चंंद्रपुर जिले में बीते 24 घंटे में कोरोना से 2 मरीजों की मौत हो गई जबकि 71 नए पॉजिटिव मरीज पाए गए। अब तक यहां 17717 मरीज पाए जा चुके हैं तथा 274 की मौत हो चुकी है। 

वर्धा में तीन की मौत 

वर्धा जिले में सोमवार को कोरोना के तीन मरीजों की मौत हो गई तथा 27 मरीज पाए गए। अब तक यहां 7022 मरीज पाए जा चुके हैं तथा 225 की मौत हुई है।

यवतमाल में 10 संक्रमित, 1 मृत

यवतमाल जिले में सोमवार को कोरोना के 10 नए मरीज पाए गए तथा एक की मौत हो गई। अब तक यहां 10756 मरीज पाए गए हैं। इनमें सेे 357 की मौत हो चुकी है। 

गोंदिया में 67 हुए ठीक  

गोंदिया जिले में  सोमवार को 67 मरीज कोरोना से स्वस्थ्य होकर अपने-अपने घरों को लौट गए हैं। जबकि 26 नए कोरोना संक्रमित मरीज पाए गए तथा एक  मरीज की मौत हो गई। अब तक यहां 10824 मरीज पाए जा चुके हैं। 

अमरावती में 25 नए संक्रमित

अमरावती जिले में सोमवार को कोरोना संक्रमण के 25 नए मामले सामने आए हैं, जबकि एक मरीज की मृत्यु हुई। अब तक जिले में 16942 संक्रमित मिल चुके हैं। मृतकों की संख्या 371 हो चुकी है। 

अकोला में एक की मौत, 33 नए संक्रमित

अकोला में सोमवार को स्वैब टेस्ट में 26 तथा रैपिड टेस्ट में 7 नए संक्रमित पाए जाने से एक दिन में 33 नए मरीज सामने आए। जिससे कुल मरीजों की संख्या 8,757 हो गई है। एक मरीज की मौत हुई है। अब मृतकों का आंकड़ा 284 हो गया है। सोमवार को 15 मरीज ठीक होने के बाद उन्हें डिस्चार्ज दिया गया, अब यह आंकड़ा 8,153 तक जा पहुंचा है। 313 एक्टिव मरीज अस्पताल में अपना इलाज करवा रहे हैं।

बुलढाणा जिले में सोमवार को 85 नए संक्रमित मरीज मिले, जिससे कुल मरीजों की तादाद 10,493 हो गई है। 98 मरीजों के स्वस्थ होने के बाद अब 9,955 मरीज ठीक होकर घर लौट चुके हैं। जिले में छह दिनों के बाद अंबोड़ा तहसील नांदूरा निवासी 70 वर्षीय वृद्ध की मौत होने से मृतकों का आंकड़ा 131 हो गया है। 406 एक्टिव मरीजों का अस्पतालों में इलाज जारी है। 

वाशिम जिले में सोमवार को केवल 1 नया संक्रमित मरीज मिला हैं। जिससे कुल मरीजों की कुल संख्या 5,617 हो गई है। 13 मरीजों को ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किए जाने से अब स्वस्थ हो चुके मरीजों का आंकड़ा 5,152 पर पहुंच गया है। जिले में कोरोना से मृतकों का आंकड़ा लगातार 16वें दिन 137 पर ही स्थिर रहा। 466 एक्टिव का उपचार चल रहा है। 


 

कमेंट करें
cPljx
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।