दैनिक भास्कर हिंदी: अब इस एप से होगी कोरोना संदिग्धों की तलाश, होम कोरेंटाईन पर भी रखी जा सकेगी नज़र

April 2nd, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। कोरोना के प्रसार व संक्रमण को रोकने के लिए अब तकनीक की मदद ली जा रही है। सरकार ने एक महाकवच एप तैयार किया है। इस एप की मदद से ऐसे लोगों की खोज आसान हो जाएगी जो कोरोना बाधित लोगों के संपर्क में आए थे। साथ ही इससे  होम कोरेंटाईन में रखे गए।लोगों पर भी नज़र रखी जा सकेगी। इस एप के जरिए इस बात की जानकारी भी मिल जाएगी कि कोरोना प्रभावित किस होटल, रेस्टोरेंट, रेलवे स्टेशन  व कौन से भीड़भाड़ तथा सार्वजनिक स्थलों पर गए थे।  इस एप के जरिए क्वारटाइन में भेजे गए लीगों की खोज भी आसान हो सकेगी। 

विश्व सवस्थ संगठन की ओर से कोरोना के संबंध में जारी दिशा- निर्देशों के तहत विदेश से आने वाले व्यक्ति व कोरोना संदिग्ध को 14 दिन तक अलग-थलग रखना जरुरी बताया गया है लेकिन कुछ लोगों की लापरवाही के कारण इसका पालन नहीं हो पा रहा है। पर अब कोरोना बाधित व संदिग्ध के मोबाइल फोन में इस एप  को इंस्टाल कर उन पर आसानी से नजर रखी जा सकेगी। इस एप में सेल्फी अटेंडेंस (उपस्थिति)  व फैंसिंग की भी व्यवस्था है। यह एप गूगल प्ले स्टोर में उपलब्ध होगा लेकिन इसे सभी के फोन में इंस्टाल नहीं किया जाएगा। मेडिकल अधिकारी जिस व्यक्ति के फोन में इसे इंस्टाल करने की सलाह देगे उन्हीं के फोन में इंस्टाल किया जाएगा। 
 
कोरोना को मात देने के लिए यह डिजिटल प्लेटफार्म केंद्र सरकार के राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण, महाराष्ट्र सरकार के कौशल्य विकास, महाराष्ट्र राज्य नविन्यता सोसायटी, नाशिक डिस्ट्रिक्ट इनोवेशन कॉउंसिल व नाशिक महानगरपालिका के संयुक्त तत्वावधान में तैयार किया गया है। वर्तमान में सरकारी कर्मचारियों को व्यक्तिगत रूप से कोरोना प्रभावितों की खोज में जाना पड़ता है पर महाकवच एप से प्रशासन का काम आसान हो जाएगा। क्योंकि जैसे कोरोना बाधित क्वारटाइन से बाहर निकलेगा वैसे ही इसकी जानकारी प्रशासन को मिल जाएगी। अभी इस डिजिटल एप का इस्तेमाल नाशिक में किया जा रहा है जल्द इसे पूरे राज्य में लागू किया जाएगा। 

खबरें और भी हैं...