दैनिक भास्कर हिंदी: कोरोना मरीजों के इलाज में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे, रसूखदार नहीं बख्शे जाएँगे

April 13th, 2021


डिजिटल डेस्क जबलपुर। संस्कारधानी में धीरे-धीरे कोरोना बेकाबू हो रहा है। सरकार और प्रशासन अपनी तरफ से तमाम कोशिशें कर रहे हैं। ऐसे हालात में यदि कोई भी रसूखदार मौके का फायदा उठाता मिला, तो उसे कतई बख्शा नहीं जाएगा। चाहे रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी का मामला हो या फिर निजी अस्पतालों में कोविड का इलाज करा रहे मरीजों को अनाप-शनाप बिल थमाने का। ये बातें प्रदेश सरकार के सहकारिता मंत्री और जबलपुर जिले का प्रभार सँभालने वाले अरविंद भदौरिया ने प्रेसवार्ता में कहीं। श्री भदौरिया ने कोरोना के वर्तमान हालात के मद्देनजर सरकार की तैयारियाँ गिनाते हुए जानकारी दी कि सरकारी अस्पतालों की व्यवस्थाओं, बिस्तर और ऑक्सीजन को लेकर युद्ध स्तर पर तैयारियाँ की जा रही हैं और किसी भी मामले में कोई कमी नहीं होने दी जाएगी।
निजी अस्पतालों से करेंगे अनुबंध-
श्री भदौरिया ने कहा कि इंदौर और भोपाल की तर्ज पर जबलपुर में भी निजी अस्पतालों से अनुबंध कर बिस्तरों की संख्या बढ़ाने की भी तैयारियाँ हो चुकी हैं। संभवत: अगले दो दिन में बिस्तरों की समस्या का हल पूरी तरह हो जाएगा। जूडा, पैरामेडिकल और नर्सिंग स्टाफ की समस्याओं को लेकर मंत्री भदौरिया ने कहा कि इन लोगों से बातचीत का दौर जारी है। कठिन हालात को देखते हुए इन सबकी फिर से सेवाएँ ली जानी हैं। पहले दौर की बातचीत में काफी जगहों पर बड़ी तादाद में सपोर्टिंग स्टाफ सहयोग करने तैयार हो गया है। शहर में बढ़ रहे मौत के आँकड़ों को लेकर किए गए सवाल को मंत्री भदौरिया ने नजर अंदाज करते हुए कहा कि लोगों से बातचीत हो रही है। इस गंभीर मामले को लेकर भी कुछ जरूर होगा।
बॉक्स...
मैं जीतू नहीं भदौरिया हूँ
शहर के कोविड सेंटर पर पहुँचने वाले कॉल को रिस्पॉन्स नहीं दिए जाने के सवाल पर मंत्री भदौरिया ने कहा कि इसका समाधान जल्द किया जाएगा। इस समस्या का ट्रायल कराने की बात पर श्री भदौरिया ने चुटकी भरे लहजे में कहा कि मैं जीतू पटवारी नहीं अरविंद भदौरिया हूँ और मैं अपने तरीके से काम करता हूँ।

 

खबरें और भी हैं...