comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

सत्ता पर सट्‌टा : चुनाव परिणाम को लेकर बाजार गर्म, नागपुर जिले की कुछ सीटों को लेकर असमंजस

सत्ता पर सट्‌टा : चुनाव परिणाम को लेकर बाजार गर्म, नागपुर जिले की कुछ सीटों को लेकर असमंजस

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मतदान के बाद राजनीति के जानकार मतदाताओं की चुप्पी के कारण भले ही परिणाम का सटीक आंकलन नहीं कर पा रहे हैं। लेकिन विधानसभा चुनाव परिणाम का काउंटडाउन शुरु होते ही सट्‌टा बाजार भी गर्म हो चुका है। कुछ घंटों बाद मतगणना शुरु होते ही रुझान आने शुरु हो जाएंगे, लेकिन इससे पहले एक्जिट पोल की रिपोर्ट की साथ सट्टा बाजार में काफी हलचल दिखी। सट्टा बाजार के अनुसार शहर की सभी 6 सीटों में भाजपा जीतेगी। जिले की 6 में एक दो सीट पर असमंजस की स्थिति है। लेकिन कुल मिलाकर देखा जाए तो जिले में भाजपा प्लस यानी अच्छी स्थिति में ही रहेगी। शुक्रवार की शाम तक सट्टा बाजार में उम्मीदवारों को लेकर मामूली घट बढ़त होती रही। दक्षिण पश्चिम नागपुर में भाजपा उम्मीदवार व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की पराजय पर सट्टा बाजार 1 के 5 देने को तैयार है। कुछ ऐसी ही स्थिति पूर्व नागपुर में भाजपा उम्मीदवार कृष्णा खोपड़े को लेकर है। खोपडे की हार जीत पर 0-2 का भाव दिया जा रहा है। मध्य नागपुर में कांग्रेस उम्मीदवार टक्कर तो देते दिख रहे हैं, लेकिन भाजपा का पलड़ा भारी है। मध्य में भाजपा उम्मीदवार विकास कुंभारे को 25 पैसे व कांग्रेस उम्मीदवार बंटी शेलके को 35 पैसे का भाव दिया गया है। 

उत्तर नागपुर में त्रिकोणीय मुकाबले की चर्चा के बीच भाजपा उम्मीदवार मिलिंद माने की स्थिति मजबूत बतायी जा रही है। माने की जीत पर 50 पैसे व पराजय 70 पैसे का भाव दिया जा रहा है। दक्षिण में मोहन मते को लेकर 25-30 का भाव दिया गया है। ग्रामीण क्षेत्र में हिंगणा से भाजपा उम्मीदवार समीर मेघे की जीत एकदम तय मानी जा रही है। मेघे को 0-5 का भाव दिया गया है। काटोल में राकांपा के अनिल देशमुख को 30-40, सावनेर में सुनील केदार पर 50-65 व रामटेक में भाजपा के डी .मलिकार्जुन रेड्डी को 70-80 का भाव दिया गया है।

यह भी चर्चा है कि नागपुर के सट्टा बाजार में कुछ ऐसे कार्यकर्ता भी जुड़े हैं जिनका भाजपा से संबंध है। भाजपा की शत प्रतिशत जीत के दावे को जोर दिया जा रहा है। सट्टा बाजार में हर घंटे में भाव बदल रहे हैं। गुरुवार की शाम से भाजपा उम्मीदवार की संभावित जीत के अंतर के आंकड़े को लेकर भी सट्टा लग रहा है। 

कमेंट करें
ZmJv6
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।