दैनिक भास्कर हिंदी: एटीएम से नहीं कर सकेंगे छेड़छाड़ : कार्ड क्लोनिंग के लिए डिवाइस लगाते ही सीपीयू को जाएगा मैसेज

November 6th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  अब ऑटोमेडेट टेलर मशीन (एटीएम) में कार्ड रीडर लगाकर क्लोनिंग करने वालों की अब खैर नहीं है। एटीएम से किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ करना अब भारी पड़ सकता है। जैसे ही क्लोनिंग के एटीएम में कार्ड लगाया जाएगा, तो मशीन अपने आप लॉक हो जाएगी। इतना ही नहीं, यदि मैग्नेट या किसी प्रकार के स्क्रू से मशीन के साथ छेड़छाड़ की कोशिश की, तो भी मशीन लॉक हो जाएगी।

जानकारी के अनुसार यदि कोई क्लोनिंग के लिए डिवाइस लगाने की कोशिश करेगा, तो एटीएम के कार्ड रीडिंग स्पेस में लगे विशेष सेंसर पैनिक मैसेज सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (सीपीयू) को भेजेंगे। संकेत मिलते ही एटीएम स्विच ऑफ हो जाएगा। वहीं सेंसर के जरिए मुंबई में बैठी सर्विलांस टीम भी केबिन के बाहर लगा हूटर बजाएगी। इसकी सूचना एटीएम लोकेशन के नजदीक स्थित पुलिस स्टेशन को भी जाएगी। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की गाइडलाइन के तहत हर एटीएम में इस तरह के सेंसर लगाए जा रहे हैं। नागपुर में एटीएम सेवाएं दे रहे बैंक नवंबर तक अपने सारे एटीएम को इस तरह के एंटी क्लोनिंग सेंसर से लैस कर लेंगे। अब तक कई सारे एटीएम में यह सेंसर लगाए जा चुके हैं।

नहीं चला पाएंगे एटीएम
विशेष बात यह है कि  आरबीआई द्वारा तय की गई समय सीमा में यह डिवाइस नहीं लगाने वाले बैंक एटीएम का संचालन नहीं कर सकेंगे। उपराजधानी में एटीएम में क्लोनिंग से पैसे निकालने के कई मामले सामने आ चुके हैं। सेंसर लगाने का काम रही एजेंसी की मानें तो एटीएम में सुरक्षा के मानक कहीं ज्यादा बढ़ाए जा रहे हैं। विशेष सेंसर के साथ इनकी 24 घंटे निगरानी की जा सकेगी।

पूरा हो चुका है काम
नया सिक्योरिटी सिस्टम लगाने की जानकारी मुख्यालय से मिलने के बाद हमने शहरभर में यह काम आरंभ कर दिया था। शहर में हमारे 40  में नया सिक्योरिटी सिस्टम को अपडेट कर िदया गया है। इससे एटीएम में होने वाली छेड़छाड़ और क्लोनिंग को रोकने में मदद मिलेगी।  - रवि जायस्वाल, लीड बैंक, नागपुर
 

खबरें और भी हैं...