Crime : खुद का ही चने से लदा ट्रक चुराया, जानिए- दर्जनभर महिलाओं सहित 21 पर क्यों हुआ मामला दर्ज

August 29th, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। कलमना थानांतर्गत ट्रक चोरी का पर्दाफाश हुआ है। ट्रक मालिक ही आरोपी निकला है। उसने साथी की मदद से लाखों रुपए के चले से लदा ट्रक चुराया था। माल जब्त किया गया है। शनिवार को अवकाशकालीन अदालत में उसे जेल भेजा दिया। लकड़गंज निवासी आचार्य लॉजिस्टिक ट्रांसपोर्ट कंपनी का संचालक दिनेश आर्चाय (53) है। उसके यहां काफी सालों से पाटनकर चौक निवासी उरविंदरसिंह उर्फ अमन पाटिया (33) काम करता है। उरविंदर के पास ट्रक है। चालक-मालिक वो ही है। कही भी माल पहुंचाना हो तो दिनेश उसे काम देता है। इस बार उसे चना पहुंचाने का काम दिया गया था। ट्रक (एम.एच.-49-537) में चना  लदने के बाद भी उरविंदर ट्रक नहीं ले गया। इस बीच 23-24 तारीख की दरमियानी रात चने से लदा ट्रक चोरी हो गया। दर्ज प्रकरण की जांच करते हुए पुलिस ने उरविंदर और उसके साथी अशरफ खान (27), कामठी रोड नाका नं.-2 निवासी को गिरफ्तार किया। पूछताछ में उन्होंने चोरी करने की बात स्वीकार की। आरोपियों के कब्जे से 11 लाख 12 हजार रुपए का चना सहित ट्रक जब्त किया है।

दो  मकानों में चोरी का पर्दाफाश, आरोपी गिरफ्तार

उधर वाड़ी क्षेत्र में दो मकानों के ताले तोड़कर नकदी, गहने और मोबाइल चुरानेवाले आरोपी आकाश सहारे को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आकाश ने वाड़ी निवासी बद्रीप्रसाद गुप्ता और पवन आचार्य के घर में चोरी करने की बात स्वीकार की  है। 14 जून को मकान का ताला तोड़कर अज्ञात चोर ने करीब 1 लाख 51 हजार रुपए का माल  चुराया था। तब बद्रीप्रसाद मकान को ताला लगाकर परिवार के साथ बाहर गए हुए थे। मामले की जांच में संदेह के आधार पर पुलिस ने आरोपी आकाश सहारे को हिरासत में लेकर पूछताछ की, तो उसने बद्रीप्रसाद गुप्ता और पवन आचार्य के घर में चोरी करने की बात स्वीकार की। पुलिस ने आरेापी से करीब 1 लाख 64 हजार रुपए का माल जब्त किया है।

आर्थिक लूट के लिए फेसबुक पर साइबर अपराधी सक्रिय

वहीं फेसबुक ने छोटे व मध्यम उद्योजकों के लिए कर्ज सुविधा उपलब्ध कराई है, लेकिन लॉकडाउन के कारण आर्थिक संकट से परेशान व्यापारियों की मानसिक स्थिति का फायदा लेकर साइबर अपराधी सोशल मीडिया पर नया गिरोह तैयार कर रहे हैं। फेसबुक जैसी वेबसाइट तैयार कर फेक और गुमराह करने वाले मैसेज भेजकर जाल में फंसाने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है। देश में फेसबुक उपयोगकर्ताओं की बड़ी संख्या है। फेसबुक ने अब छोटे व मध्यम उद्योजकों को 5 से 50 लाख तक कर्ज उपलब्ध कराने की पहल की है। हाल में इसकी घोषणा की गई। अब सोशल मीडिया के माध्यम से साइबर अपराधियों ने ग्राहकों को ढूंढना शुरू कर दिया है। सोशल मीडिया विश्लेषक अजित पारसे ने बताया कि, फेसबुक ने इंडिया की कंपनी के साथ करार कर लघु व मध्यम उद्योजकों को कर्ज देकर उन्हें प्रोत्साहन देने के लिए सकारात्मक पहल की है। विशेष यह कि, फेसबुक की कर्ज सेवा ऑनलाइन आवेदन करने पर ही मिलेगी। जिस कारण फेसबुक पर वेबसाइट, अनधिकृत मोबाइल एप्लिकेशन तैयार होने की संभावना है। फेसबुक का दुरुपयोग कर बैंक की ओटीपी हासिल कर धोखाधड़ी हो सकती है। फर्जी कॉल के माध्मय से व्यापारियों की लूट हो सकती है। फेसबुक ने महिलाओं के लिए कर्ज की विशेष सुविधा दी है। साइबर अपराधियों के लिए महिला सॉफ्ट टारगेट है। उन्हें सतर्क रहने की जरूरत है। 

अज्ञात यूजर्स को कोई पोस्ट न करें 

अजित पारसे, सोशल मीडिया विश्लेषक के मुताबिक फेसबुक कर्ज के नाम पर आर्थिक व्यवहार करते समय संबंधित व्यक्ति अधिकृत प्रतिनिधि है या नहीं? इसकी पुष्टि करना आवशय्क है। अपराधियों ने सोशल मीडिया का इस्तेमाल आर्थिक रूप से जरूरतमंदों की रेकी करने के लिए शुरू किया है। जिस कारण उद्योजक या व्यापारियों ने अपनी आर्थिक परिस्थिति अज्ञात यूजर्स को पोस्ट न करें। असावधानी, गैरजिम्मेदार पोस्ट के कारण नागरिक साइबर अपराधियों का सॉफ्ट टारगेट बन सकते हैं। 

कुख्यात आबु के घर पर छापा नहीं मिला कोई सुराग

आपराधिक गिरोह का संचालक कुख्यात आबु के घर पर शनिवार की शाम को क्राइम ब्रांच की टीम ने छापा मारा, लेकिन उसका कोई सुराग नहीं मिला है। मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले आबु खान उर्फ फिरोज खान, बड़ा ताजबाग निवासी और उसके गिरोह के सदस्यों के खिलाफ कई गंभीर प्रकरण दर्ज हैं। शुक्रवार को और एक मामला उसके व साथियों के खिलाफ दर्ज हुआ है। इस मामले में आबु ने फिरदोस नामक व्यक्ति की डरा-धमकाकर संपत्ति हथिया ली है। छापे के दौरान पुलिस ने घर की  हर कोना छान मारा, लेकिन समाचार लिखे जाने तक पुलिस के हाथ विवादित संपत्ति के दस्तावेज नहीं लगे थे। परिवार के सदस्यों से भी पूछताछ की गई। उन्होंने कहा, आबु के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। आबु के भाई भी अापराधिक प्रवृत्ति के हैं, जो वर्तमान में जेल में बंद हैं। जांच जारी है। 

पति ने ही किया मोबाइल और गहनों पर हाथ साफ, मामला दर्ज 

पत्नी की पिटाई कर उसकी वस्तुओं पर पति ने ही हाथ साफ कर दिया। हुड़केश्वर थाने में आरोपी पति के खिलाफ शनिवार को प्रकरण दर्ज किया गया। महालक्ष्मी नगर निवासी मीना संजय राऊत (38) है। वह किसी लैब में काम करती है। 20 से 21 अगस्त के बीच पति चेतन अनिल टेकाम, शारदा चौक स्थित न्यू कैलास नगर निवासी ने उसके साथ मारपीट और उसके दो मोबाइल तथा सोने के आभूषण, ऐसे कुल 94 हजार रुपए का माल चुरा लिया। शनिवार को सहायक उप-निरीक्षक शुक्ला ने चेतन के खिलाफ प्रकरण दर्ज िकया। जांच जारी है।

अवैध शराब बिक्री, 21 गिरफ्तार 3.31 लाख का माल जब्त

उधर आबकारी विभाग ने अवैध शराब विक्रेताओं के खिलाफ छापामार अभियान चलाकर शुक्रवार को जिले में जगह-जगह कार्रवाई कर 21 लोगों को गिरफ्तार किया और उनके कब्जे से महुआ शराब, रसायन व देसी शराब सहित 3 लाख 31 हजार 397 रुपए का माल जब्त किया। इस दौरान कुल 33 मामले दर्ज किए गए। जिले में अवैध शराब बिक्री की लगातार मिल रही शिकायतों पर आबकारी विभाग के अधीक्षक प्रमोद सोनोने ने कार्रवाई के आदेश दिए थे। जिसके तहत एक दर्जन से ज्यादा अधिकारी-कर्मियों की टीम ने जगह-जगह छापेमारी कर आरोपियों को दबोचा गया। कार्रवाई उपायुक्त मोहन वर्दे व अधीक्षक सोनोने के मार्गदर्शन व इंस्पेक्टर केशव चौधरी, सुभाष खरे के नेतृत्व में की गई। कार्रवाई में अधिकारी जितेंद्र पाटील, नरेंद्र थोरात, विनोद भोयर, प्रवीण मोहतकर, धनराज राऊत, प्रशांत येरपुड़े आदि शामिल थे।

13 टिकट कालाबाजारी करने वाले गिरफ्तार

वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त पंकज चुघ के दिशा-निर्देश पर दपूम रेलवे नागपुर मंडल अंतर्गत टिकट कालाबाजारियों के खिलाफ 2 दिन मुहिम चलाकर नागपुर विभाग से 13 टिकट दलालों को गिरफ्तार किया गया। टीम ने अपने-अपने क्षेत्राधिकार में आने वाली दुकानों  की जांच की। इसमें मोतीबाग, इतवारी से एक, भंडारा से 4, गोंदिया से 1, छिंदवाड़ा से 1, नैनपुर से 2, नागभीड़ से एक टिकट दलालों को पकड़ा और उन पर मामला दर्ज किया। सभी फेक आईडी के माध्यम से टिकटों की कालाबाजारी कर रहे थे। इनसे 11 लाइव टिकट, पुरानी यात्रा के टिकट सहित कुल-122 टिकट जब्त किए। जिसकी कुल कीमत-1 लाख 25 हजार  रुपए से ज्यादा आंकी गई है। अवैध टिकट को बनाने में इस्तेमाल होने वाली सामग्री (कम्प्यूटर सिस्टम, लैपटॉप, मोबाइल आदि) भी जब्त की गई। अवैध तरीके से बनाई गई 16 व्यक्तिगत आईडी की जांच कर टिकटों का प्रिंट निकाला गया।  कानूनी कार्यवाही पूर्ण कर आरोपियों को रेलवे न्यायालय में पेश किया गया

मृतक के बैंक खाते से 3.44 लाख गायब

शंकर नगर चौक स्थइत एक बैंक से मृत व्यवसायी  के खाते से चेक पर फर्जी हस्ताक्षर कर 3 लाख 44 हजार 506 रुपए निकालने का मामला सामने आया है। मृतक नंदराम रायपुरे के परिजनों की शिकायत पर बैंक प्रबंधक  जयराम घाटुरकर ने सीताबर्डी थाने में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने अज्ञात आरोपी पर धारा 465, 467, 468, 471 के तहत मामला दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार नंदराम रायपुरे व्यवसाय करते थे। कुछ समय पहले उनकी मृत्यु हुई। नंदराम का शंकर नगर चौक स्थित एक्सिस  बैंक में खाता था। बैंक प्रबंधक जयराम घाटुरकर (38), वैभव नगर, दिघोरी निवासी ने दर्ज शिकायत में बताया कि, 23 नवंबर 2020 से 30 जनवरी 2021 के बीच अज्ञात ने नंदराम रायपुरे के खाते से उनके चेक पर फर्जी हस्ताक्षर कर 3,44,506 रुपए निकाल लिए हैं। सीताबर्डी के वरिष्ठ थानेदार अतुल सबनीस के आदेश पर सहायक पुलिस निरीक्षक सुनील सोनवणे ने अज्ञात आरोपी पर  धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। 

दर्जनभर महिलाओं सहित 21 पर मामला दर्ज

संपत्ति खरीदी-बिक्री में व्यक्ति को ठगने के आरोप में दर्जनभर महिलाओं सहित 21 रिश्तेदारों के खिलाफ शुक्रवार को कपिल नगर थाने में प्रकरण दर्ज किया गया। पैसे लिए, रजिस्ट्री नहीं दी : रमाई नगर निवासी सुरेश विश्वकर्मा (49) ने 18 जून 2012 को आरोपियों से सूर्योदय सहकारी संस्था मर्यादित मौजा नारी में प्लाॅट नंबर 10 का 4 लाख 30 हजार रुपए मेें सौदा िकया था। उसने आरोपियों को 3 लाख 50 हजार रुपए भी दिए थे। शेष राशि रजिस्ट्री के समय देने का तय हुआ था, लेकिन रुपए देने के बाद आरोपी प्लॉट की रजिस्ट्री लगा देने में आनाकानी करने लगे। रकम भी वापस नहीं कर रहे थे। प्लॉट खरीदी-बिक्री के नाम पर हुई धोखाधड़ी की शिकायत संबंधित थाने में की गई। जंाच-पड़ताल के बाद शुक्रवार को आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया। आरोपियों में अंजनाबाई रूपचंद मोटघरे, विजय रूपचंद मोटघरे, सविता राजेश मोटघरे, अभिषेक राजेश मोटघरे, शिवानी राजेश मोटघरे, जोत्सना हेमराज वासनिक, स्मिता राजेश तांबे, सुषमा जयकुमार मेश्राम, अलका मनोहर वंजारी, सभी हरिदास नगर, लष्करीबाग निवासी, जीतू लीलाधर मोटघरे, महेंद्र लीलाधर मोटघरे, मीना प्रकाश चव्हाण, सभी कबीर नगर, साधना नीलकंठ मोटघरे, शुभम नीलकंठ मोटघरे, सोनम अजय नितनवरे, मीनल नीलकंठ मोटघरे, सभी वैशाली नगर, शीला गणेश मोटघरे, शक्ति गणेश मोटघरे, स्वप्निल गणेश मोटघरे, सभी बजेरिया, आशा ईश्वर मोटघरे और अंकिता ईश्वर मोटघरे, संजय नगर निवासी हैं। सभी आरोपी आपस में रिश्तेदार है। 

बिजली बिल वसूली करने गई महिला कर्मचारी पर पूर्व नगरसेवक ने किया हमला

कामठी/कन्हान के पुराना थाना अंतर्गत आने वाले मोदी पडाव खलासी लाइन में शनिवार की दोपहर बिजली बिल की बकाया राशि वसूली के लिए मोदी विद्युत वितरण केंद्र के महिला कर्मचारी वैशाली सहारे और चिंतामन मेहर बसपा के पूर्व नगर सेवक संतोष यादव के घर पर गए। यादव ने गुस्से के तैश में दोनों टेक्निशियन कर्मचारियों को अश्लील शब्दों का इस्तेमाल कर मारने की कोशिश की। टेक्निशियन वैशाली सहारे की शिकायत पर पुलिस ने सरकारी काम में बाधा पहंुचाने की धारा 353, 323, 504, 506(2) के तहत अपराध दर्ज कर संतोष यादव को पुलिस तलाश रही है। घटना के बाद मोदी लाइन डीसी के सहायक अभियंता विनोद गुघे सहित मोदी लाइन, पुलिस लाइन विद्युत वितरण केंद्र आदि के कर्मचारियों ने जूना पुलिस स्टेशन पहंुचकर बकाया बिल धारकों द्वारा किए जा रहे घटनाओं की निंदा की। 

विद्युत विभाग के तार चोरी का आरोपी गिरफ्तार

नया थाना अंतर्गत आने वाले खैरी-वारेगांव मार्ग पर 2 अगस्त की रात शाम 6.30 से 3 अगस्त की सुबह के दरम्यान अज्ञात चोरों ने 5 हजार फुट विद्युत तार कीमत 41 हजार, सीमेंट विद्युत पोल का नुकसान कीमत 23 हजार कुल 64 हजार के माल पर हाथ साफ किया था। पुलिस ने विद्युत कर्मचारी मोरेश्वर गजानन ठाकरे (47) की शिकायत पर अज्ञात आरोपियों के खिलाफ अपराध दर्ज किया था। इस की छानबीन हिट पथक के दिलीप ढगे, श्रीकांत बिषनूरकर और महेश कठाले कर रहे थे। पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर मनीष भिमराव चवरे (32) रमानगर, मोहन उर्फ मन्या विजय नितनवरे (32) आमना मस्जिद कामगार नगर कामठी निवासी को पकडकर पुलिसिया अंदाज में पुछताछ करने पर उन्होंने चोरी की बात कबूल की। पुलिस ने चोरी में लिप्त होने का आरोपियों से कबूल तो किया लेकिन उन से चोरी गया माल जब्त नहीं कर पाये।  

कुएं में मिला महिला का शव

वही भिवापुर में महिला ने कुएं में कूदकर खुदकुशी कर ली। उदासीन मठ में स्थित कुएं में शुक्रवार की दोपहर 4 बजे एक शव दिखाई दिया। जानकारी के अनुसार मृतक का नाम मायाबाई भगवान भोयर (56) है। वह अपने पुत्र शरद भगवान भोयर (33) के साथ उदासीन मठ के करीब रहती थी। शुक्रवार की सुबह 5.30 बजे के दौरान मायाबाई की वृद्ध मां मनुकाबाई चौधरी ने मृतक के पुत्र शरद को यह बताती है कि, मायाबाई घर में कहीं भी नहीं है। दोपहर लगभग 12 बजे तक मायाबाई की तलाश की गई। इसके बाद दोपहर 12 बजे पुलिस में मायाबाई भोयर के गुम होने की जुबानी जानकारी दी। वहीं दोपहर 4 बजे के दरमियान मायाबाई भोयर के भाई ने मायाबाई का शव उदासीन मठ के कुएं में दिखने की जानकारी मायाबाई के पुत्र शरद को दी। जिसकी जानकारी पुलिस को दी गई। पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर शव को कुएं से बाहर निकाला। ग्रामीण अस्पताल में शवविच्छेदन के बाद शव रिश्तेदारों को सौंप दिया गया। पुत्र शरद भोयर ने पुलिस में लिखित जानकारी दी है कि, मायाबाई ने कुएं में कूदकर जान दी है। उसका पिछले 2-3 महीने से मानसिक संतुलन ठीक नहीं होने की जानकारी दी है। उनका इलाज नागपुर के डॉ. पडसोदकर के यहां चल रहा था। वहीं इसका मुख्य कारण खेती के 7/12 पर फसल कर्ज होना तथा कुछ बचत गुटों का कर्ज होना है। जिससे उनके बर्ताव में चिड़चिड़ापन आ गया था। यह जानकारी मायाबाई के पुत्र शरद ने पुलिस को दी है। आगे की जांच थानेदार महेश भोरटेकर के मार्गदर्शन में सहायक पुलिस निरीक्षक शरद भस्मे के साथ एएसआई चंदू रेवतकर कर रहे हैं।   

मृतक के बैंक खाते से 3.44 लाख गायब

नागपुर के शंकर नगर चौक स्थइत एक बैंक से मृत व्यवसायी  के खाते से चेक पर फर्जी हस्ताक्षर कर 3 लाख 44 हजार 506 रुपए निकालने का मामला सामने आया है। मृतक नंदराम रायपुरे के परिजनों की शिकायत पर बैंक प्रबंधक  जयराम घाटुरकर ने सीताबर्डी थाने में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने अज्ञात आरोपी पर धारा 465, 467, 468, 471 के तहत मामला दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार नंदराम रायपुरे व्यवसाय करते थे। कुछ समय पहले उनकी मृत्यु हुई। नंदराम का शंकर नगर चौक स्थित एक्सिस  बैंक में खाता था। बैंक प्रबंधक जयराम घाटुरकर (38), वैभव नगर, दिघोरी निवासी ने दर्ज शिकायत में बताया कि, 23 नवंबर 2020 से 30 जनवरी 2021 के बीच अज्ञात ने नंदराम रायपुरे के खाते से उनके चेक पर फर्जी हस्ताक्षर कर 3,44,506 रुपए निकाल लिए हैं। सीताबर्डी के वरिष्ठ थानेदार अतुल सबनीस के आदेश पर सहायक पुलिस निरीक्षक सुनील सोनवणे ने अज्ञात आरोपी पर  धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। 

दो युवकों पर जानलेवा हमला

यशोधरा नगर नगर क्षेत्र में दो दोस्तों पर जानलेवा हमला किया गया। घायलों के नाम समीर अहमद (32) व यासीन शेख है। आरोपियों ने समीर को पहले जान से मारने की धमकी दी और फिर उसे चाकू घोंप दिया। समीर को बचाने दौड़े  यासिन के सिर पर लोहे की रॉड से हमला कर दिया। समीर की शिकायत पर यशोधरा नगर पुलिस ने आरोपी सलमान, अल्सु उर्फ अफसर और राजा उर्फ आकिब पर मामला दर्ज किया है। हमले का कारण अज्ञात है।पुलिस के अनुसार शिकायतकर्त समीर अहमद शेरा जाकिर अहमद, राजीव गांधी नगर, पुंडलीक किराना दुकान के पास यशोधरा नगर निवासी है। समीर ने पुलिस को बताया कि, 27 अगस्त को रात करीब 8.30 बजे वह अपने घर के पास बैठा था। इस दौरान आरोपी वहां पहुंचे और गालियां देने लगे। गाली देने से मना किया, तो आरोपी अल्सु उर्फ अफसर ने जान से मारने की धमकी दी। तैश में आकर आरोपी राजा उर्फ आकिब ने उसे पकड़ लिया और  आरोपी सलमान ने चाकू से हमला कर उसे जख्मी कर दिया। चीखने-चिल्लाने आवाज सुनकर यासीन ने वहां पहुंचकर समीर को बचाने की कोशिश करने लगा तो आरोपी अफसर ने यासीन के सिर पर लोहे की रॉड से हमला कर दिया। पश्चात तीनों आरोपी फरार हो गए। घटना के बाद घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया। पुलिस फरार आरोपियों की तलाश कर रही है।

युवक ऑनलाइन गेम खेलने के लिए करता था चोरी

ऑनलाइन गेम खेलने के िलए चोरी करने वाले एक युवक को नंदनवन पुलिस ने गिरफ्तार किया। शनिवार को अदालत ने उसे जेल भेज दिया। अारोपी प्रज्वल चतुरवार (21), सहकार नगर निवासी है। 25 तारीख को नंदनवन क्षेत्र में चावल के डिब्बे में रखे ढाई लाख रुपए और अलमारी से 1 लाख 68 हजार रुपए के सोने के गहने चुराए थे। संदेह के आधार पर पुलिस ने प्रज्वल को गिरफ्तार किया था। रिमांड में लेकर पूछताछ करने पर उसने चोरी की बात स्वीकार की और बताया चोरी की रकम उसने ऑनलाइन गेम गैलेक्सी विन और रॉयल विन में उड़ाई है। ऑनलाइन गेम खेलने का शौक होने से पुलिस ने उसका बैंक स्टेटमेंट निकाली, जिससे पता चला कि, अभी तक वह ऑनलाइन 7 लाख रुपए का सट्टा खेल चुका है। पुलिस ने प्रज्वल के कब्जे से 2 लाख 90 हजार रुपए का माल जब्त िकया है। शनिवार को उसे अवकाशकालीन अदालत ने जेल भेज दिया है।

प्रतिबंधित तंबाकू और पान मसाला से लदा कंटेनर पकड़ा

केलवद के बिहाड़ा तिराहे पर पुलिस ने नाकाबंदी के दौरान प्रतिबंधित सुगंधित तंबाकू और पान मसाला से लदा एक कंटेनर पकड़ा। कंटेनर में लदे माल की कीमत करीब 4 लाख 73 हजार रुपए बताई गई है। पुलिस ने माल और कंटेनर जब्त किया और चालक प्रेमलाल चौकीकर को गिरफ्तार किया है। छग और रायपुर की फैक्टरियों से सुगंधित तंबाकू और पान मसाला गुप्त मार्ग से नागपुर के वड़धामना, वाड़ी, महलगांव कापसी आदि जगहों के गोदामों में पहुंचता है। राज्य में तंबाकू-गुटखा प्रतिबंधित होने के बाद शहर में बेधड़क बिक रहा है। चालक गिरफ्तार पुलिस के अनुसार नागपुर की अन्न सुरक्षा अधिकारी स्मिता विवके बाबरे ने गुप्त सूचना पर कंटेनर (ए.पी.-48-जी.-2153) के बारे में केलवद पुलिस को सूचित किया। केलवद पुलिस ने थाने से करीब 9 किमी दूर बिहाड़ा तिराहे पर 26-27 अगस्त की  दरमियानी रात करीब 1.30 से 3 बजे नाकाबंदी कर उक्त कंटेनर को रोका। कंटेनर में प्रतिबंधित सुगंधित तंबाकू व पान मसाला पाए जाने पर कंटेनर चालक प्रेमलाल कडकू चौकीकर (58), हनुमान मंदिर के पास परसोड़ी,  आमला, जिला बैतूल, मध्यप्रदेश निवासी को गिरफ्तार किया।  कंटेनर से जनम 535 के 88 पैकेट,  राजश्री पान मसाला के 875 पैकेट,  ब्लैक लेबल 18 के 1,100 पैकेट,  एमडी सुंगधित तंबाकू के 200 पैकेट, वी वन तंबाकू के 1,260 पैकेट, विमल पान मसाला के 5,208 पैकेट जब्त किया किए। आरोपी चालक के खिलाफ  धारा 328, 272, 273, 188, 34, 26(1),  26 (2) (आई वी), 27(3),(ई), 30 अ , (3)(1)(जेड जेड) व 59 के तहत मामला दर्ज किया गया है। जांच पुलिस निरीक्षक  राहुल सोनवणे कर रहे हैं।


 

खबरें और भी हैं...