comScore

लॉकडाउन के दौरान मुंबई में बढ़े साइबर अपराध, नौकरी के झांसे में कई फंसे

लॉकडाउन के दौरान मुंबई में बढ़े साइबर अपराध, नौकरी के झांसे में कई फंसे

डिजिटल डेस्क, मुंबई। कोरोना संक्रमण के दौरान साल के ज्यादातर दिनों में लॉकडाउन के चलते लोगों को अपना कामकाज ऑनलाइन करना पड़ा और इसके चलते साइबर ठगी के मामले और बढ़ गए। मुंबई में साल 2019 में 2225 लोग साइबर ठगी का शिकार हुए थे और साल 2020 में यह संख्या बढ़कर 2435 पहुंच गई। परेशानी की बात ये है कि इस दौरान अपराध सुलझने की दर घट गई। बीते साल पुलिस साइबर ठगी के 207 यानी 8.5 फीसदी मामले ही सुलझा पाई। जबकि साल 2019 में दर्ज मामलों में से 284 में पुलिस अपराधियों पर शिकंजा कसने में कामयाब रही थी।

आंकड़ों से यह बात भी सामने आई है कि लॉकडाउन में ऑनलाइन नौकरी खोजने वाले कई लोग साइबर ठगी का शिकार हुए हैं और दर्ज मामलों में ऑनलाइन शॉपिंग के नाम पर ठगी जैसे नए तरह की ठगी के मामले ज्यादा हैं। बीते साल सोशल मीडिया और ईमेल के जरिए अश्लील संदेश और अश्लील तस्वीरों के सहारे ब्लैकमेल की कोशिश के भी ज्यादा मामले सामने आए हैं। साल 2019 में ऐसे 239 मामले दर्ज किए गए थे जबकि साल 2020 में ऐसी शिकायतों की संख्या बढ़कर 247 पहुंच गई जिनमें से पुलिस 91 मामलों को ही पुलिस सुलझा पाई। दूसरों के नाम पर फर्जी प्रोफाइल बनाने की शिकायतों में कमी आई है और साल 2019 के 61 के मुकाबले साल 2020 में ऐसी 30 ही शिकायतें की गईं हैं। डेबिट/क्रेडिट कार्ड के जरिए ठगी के मामले भी कुछ कम हुए हैं।

साल 2020 में डेबिट/क्रेडिट कार्ड ठगी के 558 मामले दर्ज किए गए जिनमें से पुलिस 21 मामले ही सुलझा सकी। जबकि साल 2019 में डेबिट/क्रेडिट कार्ड ठगी के 775 दर्ज मामलों में से 40 सुलझाए गए थे।  पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान आवाजाही पर लगी रोक का असर अपराध सुलझने की दर पर पड़ा है। डीसीपी (साइबर) रश्मी करंदीकर के मुताबिक पिछले साल साइबर सेल ने सक्रियता दिखाते हुए अपराधियों के हाथ गए 15 करोड़ रुपए फिर से लोगों को वापस दिलाए हैं। ये कार्रवाई उन मामलों में संभव हुई जिनमें जल्द शिकायत मिल गई। लोगों को चाहिए कि वे अपराध के दो घंटे के भीतर पुलिस को इसकी सूचना दे जिससे कार्रवाई आसान हो जाती है।

बढ़ रहे मामले, घट रही सुलझने की दर

साल                2020        2019    2018    2017

कुल मामले      2435         2225   1375    1361

सुलझे              207           284     274       102 
 

कमेंट करें
0nNUd