comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

मन्नार की खाड़ी के ऊपर चक्रवाती तूफान ‘बुरेवी’ (दक्षिणी तमिलनाडु और दक्षिण केरल तटों के लिए चक्रवाती चेतावनी

December 04th, 2020 16:39 IST
मन्नार की खाड़ी के ऊपर चक्रवाती तूफान ‘बुरेवी’ (दक्षिणी तमिलनाडु और दक्षिण केरल तटों के लिए चक्रवाती चेतावनी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय मन्नार की खाड़ी के ऊपर चक्रवाती तूफान ‘बुरेवी’ (दक्षिणी तमिलनाडु और दक्षिण केरल तटों के लिए चक्रवाती चेतावनी : रेड अलर्ट) यह मन्नार की खाड़ी पर केंद्रित है जो मन्नार के पश्चिम-उत्तर-पश्चिम में लगभग 40 किमी दूर, पम्बन (भारत) से 40 किमी पूर्व-दक्षिणपूर्व और कन्याकुमारी से 260 किमी पूर्व-उत्तर-पूर्व में स्थित है यह 3 दिसंबर की रात और 4 दिसंबर की सुबह चक्रवाती तूफान के रूप में पंबन और कन्याकुमारी के बीच दक्षिण तमिलनाडु तट को पार करेगा इसका प्रभाव दक्षिण तमिलनाडु के रामनाथपुरम, थूथुकुडी, तिरुनेलवेली और कन्याकुमारी जिलों और दक्षिण केरल के आसपास के जिलों में 4 दिसंबर की सुबह तक बना रहेगा दक्षिण तमिलनाडु (रामनाथपुरम, थूथुकुडी, तिरुनेलवेली, कन्याकुमारी, तेनकासी और शिवगंगई जिलों) और दक्षिण केरल (तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, पठानमथिट्टा और आलप्पुझा) में अत्यधिक भारी बारिश होने संभावना है 3 दिसंबर को दक्षिण तमिलनाडु में अत्यधिक भारी बारिश होने की संभावना है और 4 दिसंबर, 2020 को दक्षिण तमिलनाडु और दक्षिण केरल में भारी से अत्यधिक भारी बारिश होने की संभावना है समुद्र में लगभग चक्रवाती तूफान की वजह से लगभग 1.0 मीटर ऊँचाई के खगोलीय ज्वार आ सकते हैं दक्षिण तमिलनाडु और दक्षिण केरल में नुकसान की आशंका - कच्चे घरों, झोपड़ियों; बिजली तथा संचार; धान की फसल, केले, पपीते के पेड़ और बागों को नुकसान की आशंका है भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के चक्रवात चेतावनी विभाग के अनुसार: श्रीलंका के ऊपर चक्रवाती तूफान ‘बुरेवी’ पिछले 6 घंटों में 13 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पश्चिम-उत्‍तर-पश्चिम की ओर बढ़ गया है और आज सुबह, यानि 03 दिसंबर को भारतीय समयानुसार 1130 बजे यह मन्नार की खाड़ी से लगभग 40 किमी पश्चिम में, पम्बन (भारत) से 120 किमी दक्षिण- पूर्व में और कन्याकुमारी (भारत) से 260 किमी पूर्व-उत्तर-पूर्व में स्थित है। तूफान की रफ्तार 70 -80 किमी प्रतिघंटे से लेकर 90 किमी प्रतिघंटे तक हो सकती है। चक्रवाती तूफान 'बुरेवी' दोपहर तक पंबन क्षेत्र से लगभग पश्चिम की ओर बढ़ जाएगा। 70-80 की रफ्तार से 90 किमी प्रति घंटे की रफ्तार के साथ यह पश्चिम तथा दक्षिण पश्चिम की ओर बढ़ेगाऔर 3 दिसंबर की रात और 4 दिसंबर के तड़के पम्बन और कन्याकुमारी के बीच दक्षिण तमिलनाडु तट को पार करेगा।। इस प्रकार इसका प्रभाव 4 दिसंबर की सुबह तक दक्षिण तमिलनाडु के रामनाथपुरम, थूथुकुडी, तिरुनेलवेली और कन्याकुमारी जिलों तथा दक्षिण केरल के आसपास के जिलों में बना रहेगा। पूर्वानुमान ट्रैक और तीव्रता नीचे दी गई है: Forecast track and intensity are given below: तिथि/समय(भारतीय समय के अनुसार) स्थिति (अक्षांश 0उत्‍तर/ देशांतर 0पूर्व) हवा की सतह पर अधिकतम गति (किमी प्रति घंटा) चक्रवाती बाधा की श्रेणी 03.12.20/1130 9.2/79.6 70-80 से लेकर 90 चक्रवाती तूफान 03.12.20/1730 9.2/79.1 70-80 से लेकर 90 चक्रवाती तूफान 03.12.20/2330 9.0/78.5 70-80 से लेकर 90 चक्रवाती तूफान 04.12.20/0530 8.9/78.0 60-70 से लेकर 80 चक्रवाती तूफान 04.12.20/1130 8.8/77.4 50-60 से लेकर 70 गहरा दबाव 04.12.20/2330 8.7/76.3 40-50 से लेकर 60 दबाव चेतावनी: (i) बारिश 3 दिसंबर को दक्षिण तमिलनाडु (रामनाथपुरम, थूथुकुडी, तिरुनेलवेली, कन्याकुमारी, तेनकासी, विरुधनगर, थेनी, मदुरै और शिवगंगई जिलों) और दक्षिण केरल (तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, पठानमथिट्टा, इडुक्की और आलप्पुझा ) में अलग-अलग स्थानों के साथ कुछ जगहों पर भारी से अत्यधिक भारी बारिश होने की संभावना है और 4 दिसंबर, 2020 को दक्षिण तमिलनाडु तथा दक्षिण केरल में भारी से अत्यधिक भारी बारिश होने की संभावना है। 3 दिसंबर को उत्तर तमिलनाडु, पुदुचेरी, माहे और कराईकल और उत्तरी केरल में अलग-अलग स्थानों पर भारी से अत्यधिक भारी बारिश और 4 दिसंबर को भारी बारिश हो सकती है। 3 और 04 दिसंबर को दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश और लक्षद्वीप में अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है। उप संभाग 03 दिसंबर 2020* 04 दिसंबर 2020* दक्षिण तमिलनाडु कुछ स्थानों पर भारी से अत्यधिक भारी बारिश होने के साथ अधिकांश स्थानों पर बारिश और अलग- अलग स्थानों पर अत्यधिक भारी बारिश होने की संभावना है। अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश होने के साथ कई स्थानों पर बारिश होने की संभावना है। उत्तर तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश होने के साथ कई स्थानों पर बारिश होने की संभावना है। अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश के साथ कई स्थानों पर बारिश होने की संभावना है। दक्षिण केरल कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश होने के साथ अधिकांश स्थानों पर बारिश और अलग-अलग स्थानों पर अत्यधिक भारी बारिश होने की संभावना है। 

कमेंट करें
1PnQc
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।